शुक्रवार, अप्रैल 08, 2011

रेगिस्तान में बैठी हूँ ...... आसमान में तारे हज़ारों दिख रहे हैं ....

रेगिस्तान में बैठी हूँ …… आसमान में तारे हज़ारों दिख रहे हैं …

Post Comment

Post Comment

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative