मंगलवार, अगस्त 09, 2011

स्म्रतियो का सामूहिक विस्थापन ओर सुख के मिथ

स्मृतियों का सामूहिक विस्थापन ओर सुख के मिथ

Post Comment

Post Comment

2 टिप्‍पणियां:

  1. लोकतंत्र के इस तीसरे स्तंभ में वही दिखता है जो बिक सके...और थोड़ा ये खुद भी बका हुआ है...एक ही घटना पे सबके विचार अलग अलग होते हैं..और स्तब्ध ये बात करती है कि आप सुन के ये जान जाते हों कि वो किस राजनीतिक दल कि तरफ से बोल रहे हैं...फिर भी इनकी दुकान चल रही है...
    चर्चा बहुत सुन्दर है...और अंत में मंदी से डरा सी रही है.... :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. सचिन भारत रत्न के लायक नहीं है. इस विषय पर तार्किक एवं दिमाग खोलने वाला आलेख पढ़े. http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative