सोमवार, फ़रवरी 06, 2006

आदर्श प्रेमिका के अष्टगुन

हिन्दी ब्लॉगमंडल पर भी आखिरकार चढ़ ही गया "मेम" का नशा। यह टैगिंग आंदोलन हिन्दी चिट्ठा संसार में शुरु किया अमित ने और शुरु हो गई अष्टावली। अब तक लपेटे में आये लोगों की सूची यह रहीः ईस्वामी, फुरसतिया, कालीचरण, प्रत्यक्षा, जीतेन्द्र। आप कब तक बचे रहेंगे?

Post Comment

Post Comment

5 टिप्‍पणियां:

  1. मै भी फँसा हुँ देबुजी.
    पर मुझे पता नहीँ था, यह अमित का शुरू किया हुआ है, मै नही लिखता तब तो.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मै भी फँसा हुँ देबुजी.
    पर मुझे पता नहीँ था, यह अमित का शुरू किया हुआ है, मै नही लिखता तब तो.

    उत्तर देंहटाएं
  3. Dada it seems you are very busy now-a-days, just wanted to update your list - Anup shukul, Jeetu, Sunil Deepak, Manoshi, Aashish, Pankaj already told about himself and yours truly me.

    If I left someone add another comment.

    Sorry to write in english in hindi post.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप कब तक बचे रहेंगे?
    देबू भाई, आप को भी तो हम भीड़ू लोग फ़ंसा चुके हैं, सो अपने अनुभवों की बारिश कब करेंगे? हम पलके बिछाए प्रतीक्षा कर रहा हूँ भाई!! :)
    और वैसे इस नशे के चक्रव्यूह में निम्न लोग भी फ़ंस चुके हैं:
    तरूण भाई, आशीष भाई, सुनील जी, अतुल जी, मानसी जी

    मुझे पता नहीँ था, यह अमित का शुरू किया हुआ है, मै नही लिखता तब तो.
    हा हा हा, पर अब तो टोपी पहन ही चुके हो पंकज भाई!! ;) :D

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप पर तो अभी मेरा कर्जा भी बाकी है देबू दादा, छोड़ूंगा नहीं, कहीं सोच बैठे हों कि भूल गया। :)

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative