रविवार, सितंबर 02, 2007

नये हिंदी ब्लाग में एग्रीगेटर

कादम्बिनी के नये अंक में यह लेख गौरी पालीवालजी का लिखा है। इसे हमें नीरज दीवान ने उपलब्ध कराया। साभार इसको आपकी जानकारी के प्रकाशित कर रहे हैं।
Picture

Post Comment

Post Comment

6 टिप्‍पणियां:

  1. चिट्ठों की बजाय चिट्ठा विस्तारकों पर जानकारी देखकर बहुत अच्छा लगा. एकै साधे सब सधै...

    उत्तर देंहटाएं
  2. उपयोगी लेख, एवं अच्छा विश्लेषन. इसे चुन कर यहां प्रदर्शित करने के लिये आभार -- शास्त्री जे सी फिलिप

    आज का विचार: जिस देश में नायको के लिये उपयुक्त आदर खलनायकों को दिया जाता है,
    अंत में उस देश का राज एवं नियंत्रण भी खलनायक ही करेंगे !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. यह बढ़िया रहा. जागरुकता अभियान तो सतत चलता रहना चाहिये.

    आपका आभार खबर देने का.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत शोर सुनते थे, पहलू में दिल का
    चीर के देखा तो कतरा एं खूं निकला


    चलो ठीक है। अच्छा है। कहां बात कवर स्टोरी की थी और कहाँ आधा पन्ने का कवरेज दिया एग्रीगेटर्स को। सच मे संपादक की कैंची भारी पड़ती है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी है यह कोशिश। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जो हमे अच्छा लगे.
    वो सबको पता चले.
    ऎसा छोटासा प्रयास है.
    हमारे इस प्रयास में.
    आप भी शामिल हो जाइयॆ.
    एक बार ब्लोग अड्डा में आके देखिये.

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative