रविवार, अगस्त 26, 2007

द साईलेंस इज़ डेफनिंग

जी हाँ आपने "खामोशी की आवाज़" जैसे जुमले सुने होंगे पर उदाहरण ज्यादा न देखे होंगे। तो पढ़िये अशोक जी चक्रधर की नवीनतम पोस्ट जो उन्होंने न्यूयॉर्क में संपन्न विश्व हिन्दी सम्मेलन पर लिखा। और शायद ये हिन्दी ब्लॉगजगत की पहली ऐसी पोस्ट है जिसे बिना कुछ लिखे टिप्पणियाँ मिलीं। फुरसतिया ध्यान दें ;)

Post Comment

Post Comment

6 टिप्‍पणियां:

  1. इस के पीछे क्या राज़ है, कौन जानता है?
    पर एक पोस्ट पहले भी आई थी ऐसी..
    http://tooteehueebikhreehuee.blogspot.com/2007/06/blog-post_12.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. चक्रधर तो इस सम्मेलन की हस्ती रहे है। उनसे तो लगता है गलती से कुछ छूट गया और भाई लोग मेरे मजाक को ले उड़े।

    देबाशीष तो हर बात में पहला ढूंढने के चक्कर में रहते हैं अभय भाई। इससे पहले इरफान के अलावा और भी कई पोस्ट आचुकी हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. अभिनयः अवव्ल तो हर चीज़ को इतनी गंभीरता से लेने की कोई तुक नहीं है। ये आप भी जानते हैं और मैं भी कि शायद प्रकाशन की किसी तकनीकी त्रुटि से ये काम हो गया। आपकी टिप्पणी से रिक्त पोस्ट के भी मायने निकल आये तो हमने उसकी मौज लेते हुये चर्चा कर दी जो इस जालस्थल का काम है। इस प्रसंग में इससे अधिक महत्व प्रविष्टि लेखक और टिप्पणीकार का नहीं है। चुटकी लेती पोस्ट में फिर भी मैंने "शायद" लफ़्ज़ का इस्तेमाल किया है। इस बहाने मुझ पर तंज कसने का भावार्थ में समझ नहीं पाया, विशेषतः तब जब आप मुझे जाल पर और व्यक्तिगत तौर जानते भी नहीं। मेरी "आदतों" से आप इतना वाकिफ़ कैसे हो गये अवश्य जानना चाहुंगा।

    कोई भी काम पहली बार करने वाला खुश होता ही है और बोलता भी है, ज़रा वर्ल्ड्स फर्स्ट गूगल करेंगे तो आप को पता चलेगा कि कितनी वेबसाईट्स पहली बार कोई काम करने का दावा करती रही हैं। निरंतर पर मैंने जो दावा किया वो सौ फीसद सही है और मैं उस पर अब भी कायम हूँ। बुरा लगे या भला, जो है सो है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अभय: आप जिस पोस्ट का ज़िक्र कर रहे हैं वो कोई कोरी पोस्ट नहीं है। ब्लॉगर पर ये सुविधा है कि आप पोस्ट की टाईटल को एक कड़ी बना सकते हैं। तो जाने या अनजाने इरफ़ान नारद की एक पोस्ट को लिंक कर रहे थे।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये तो मौज मजे की बात है। बस इससे ज्यादा कुछ नहीं। :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. लहर नई है अब सागर में
    रोमांच नया हर एक पहर में
    पहुँचाएंगे घर घर में
    दुनिया के हर गली शहर में
    देना है हिन्दी को नई पहचान
    जो भी पढ़े यही कहे
    भारत देश महान भारत देश महान ।
    NishikantWorld

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative