सोमवार, नवंबर 08, 2010

सोमवार (०८.११.२०१०) की चर्चा

नमस्कार मित्रों!

मैं मनोज कुमार एक बार फिर हाज़िर हूं।

दीपावली के पटाखों की गूंज से मन थोड़ा शांत हुआ तो चर्चा के लिए कुछ ब्लॉग्स की खोज में निकला। अपने मन को सकून देने के लिए अपना-अपना तरीक़ा होता है। कुछ प्रकृति की शरणस्थली में चले जाते हैं। मैं पुस्तकें पढता हूं। कविता कौमुदी से गिरिधर शर्मा की पंक्तोयों में कहें तो

मैं जो नया ग्रंथ विलोकता हूं,

भाता मुझे वो नव मित्र सा है।

देखूं उसे मैं नित बार-बार,

मानो मिला मित्र मुझे पुराना॥

पर मेरी भी वही स्थिति है जो प्रेमचन्द ने ‘विविध प्रसंग’ मे कहा है, कि

“पुस्तक पढना तो चाहते हैं, पर गांठ का पैसा ख़र्च करके नहीं।”

हां पुस्तकालय में पुस्तकें मिल जाती हैं। बेकन ने कहा था,

“पुस्तकालय ऐसे मंदिरों की तरह हैं जहां प्राचीन संतों-महात्माओं के सद्गुणों से परिपूर्ण तथा निर्भ्रांत पाखंडरहित अवशेष सुरक्षित रखे जाते हैं।”

अब हम ठहरे ब्लॉगर। ब्लॉगजगत में पुस्तकालय ढूंढने निकले तो कुछ उसी तरह से सजा एक ब्लॉग मिला जिसका नाम था ‘पुस्तकायन’। जब आप इसकी पोस्ट पढ रहे होते हैं तो इसके बैकग्राउंड में रैकों पर सजी पुस्तकें किसी पुस्तकालय में बैठे होने का बोध कराती रहती हैं।

इस ब्लॉग के आमंत्रण वाक्य काफ़ी प्रेरित करते हैं,

यह एक सम्मिलित प्रयास है... अपने पाठन का अधिक से अधिक लाभ उठाने और उसकी महक दूसरों तक पहुँचाने का ... पुस्‍तकायन ब्‍लॉग इसके सभी सदस्‍यों का समान रूप से बिना रोक टोक के है ... इस ब्‍लॉग पर सभी तरह की विचाराधारा या कोई खास विचाराधारा न रखते हुए भी सदस्‍य बना जा सकता है। आलोचनात्‍मक, वस्‍तुनिष्‍ठ और शालीन प्रस्‍तुति अपेक्षित है ।

इसके उत्स में इसके ब्लॉगस्वामी  का कहना है,

अकसर पढते हुए...किताबों से गुजरते हुए...कुछ अंश..पंक्तियाँ...पैराग्राफ हमें काफी पसंद आते हैं ...प्रभावित करते हैं...सामान्‍य से ज्‍यादा सम्‍प्रेषित हो जाते हैं...चौंकाते हैं... कभी अपनी शैली से, शिल्‍प से, आलंकारिकता से और कभी विचारों के नएपन से... ऐसे में उन्‍हें साझा करने का मन करता है... कई बार इसी तरह दूसरे मित्रों के द्वारा हम अच्‍छी किताबों से परिचित हो जाते हैं... इसी जरूरत की उपज है यह ब्‍लॉग... आप कोई पुस्‍तक पढ रहे हैं, ... पुस्‍तक का नाम, प्रकाशक का नाम, प्रकाशन वर्ष का विवरण देकर लिखिए पुस्‍तक के पसंदीदा अंश...साथ ही अपनी आलोचनात्‍मक विचार भी रख सकते हैं पुस्‍तक के बारे में, लेखक के बारे में... कम से कम या अधिक से अधिक जितना भी लिखना चाहें...
साथ ही कहानी, लम्‍बी कविता या प्रभावशाली लेख की भी संदर्भ सहित विवेचनात्‍मक प्रस्‍तुति दी जा सकती है

मुझे तो ये बातें इतनी प्रेरक लगीं कि मैं तो झट से इसका सदस्य बन गया। आप भी बनिए ना!

वाल्तेयर की कई बातें काफ़ी प्रेरक हैं। जैसे उन्होंने यह कहा,

“हो सकता है मैं आपके विचारों से सहमत न हो पाऊं फिर भी विचार प्रकट करने के आपके अधिकारों की रक्षा करूंगा।”

इसी तरह पुस्तकों के संदर्भ में मुझे उनकी यह सूक्ति याद आती है,

“मनुष्यों के सदृश्य ही पुस्तकों के साथ भी यह बात है कि बहुत थोड़ी संख्या में ही महत्वपूर्ण कार्य करती हैं, शेष का भीड़ में लोप हो जाता है।”

ब्लॉग के संदर्भ में भी यही बात है। ऐसे ही कुछ महत्वपूर्ण ब्लॉग की चर्चा करना आज की चिट्ठा चर्चा का मेरा उद्देश्य है। आइए इसी तरह के एक और ब्लॉग पर आपको लिए चलते हैं।

साइरस का कथन है,

“अच्छा स्वास्थ्य एवं अच्छी समझ जीवन के दो सर्वोत्तम वरदान हैं।”

जहां एक ओर ‘पुस्तकायन’ अच्छी समझ विकसित करने में सहायक है वहीं अच्छे स्वास्थ्य के लिए हमें निरंतर सामग्री मुहैया करता ब्लॉग है स्वास्थ्य-सबके लिए । कुमार राधारमण इसके ब्लॉगस्वामी हैं। स्वास्थ्य संबंधी अद्यतन जानकारी यहां पाया जा सकता है।

मैंने इसके ब्लॉगस्वामी से पूछा कि क्या कारण है कि जबकि कई डाक्टर साहित्य का ब्लॉग चला रहे हैं,तब आपने साहित्य का छात्र होने के बावजूद स्वास्थ्य का ब्लॉग चलाने की सोची? तो उन्होंने बताया कि

मैं काफी समय से महसूस कर रहा था कि अखबारों में स्वास्थ्य के संबंध में काफी भ्रामक खबरें छपती हैं। रोज़ नए अनुसंधान से लोगों को भरमाया जाता है मगर बाद में सालों साल उन अनुसंधानों का कोई अता-पता नहीं चलता। इसलिए लोगों तक ठोस खबरें ही पहुंचाई जानी चाहिए। मेरी कोशिश रही है कि केवल वही ख़बरें लूं जिनमें दवाओं के ट्रायल चूहों तक सीमित नहीं हैं,बल्कि मनुष्य पर भी उनके प्रयोग कुछ हद तक उत्साहवर्द्धक रहे हों क्योंकि जो बीमार है,वह संबंधित खबर को बहुत आशा और गंभीरता के साथ देखता है,उसके साथ खिलवाड़ नहीं किया जा सकता।”

अभी हाल में ही एक पोस्ट आया है मोटापा घटाने में सहायक है घृतकुमारी

मैंने जब उनसे जनना चाहा आपके ब्लॉग पर हर चिकित्सा विधासे जुड़ी खबरें दिखती हैं.......
तो उनका उत्तर था - हां,ठीक कह रहे हैं। ब्लॉगिंग शुरु करने से पहले मैंने गौर किया कि स्वास्थ्य के विषय में ब्लॉग पर कैसी सामग्री उपलब्ध है। मैंने देखा कि एलुवेरा से ही फुंसी से लेकर एड्स तक का इलाज़ करने का दावा करता है, तो कोई सिर्फ आयुर्वेद से। मैं मानता हूं कि ये एकांगी दृष्टिकोण हैं। कोई भी चिकित्सा विधा स्वयं में पूर्ण नहीं है, सब एक दूसरे के पूरक हैं। इसलिए,जहां कहीं भी संभव हो, सभी विधाओं में इलाज़ के विकल्पों की ओर ध्यानाकर्षण किया जाना चाहिए। कुछ हद तक इसलिए भी कि कई कारणों से कई बार रोगी किसी विधा विशेष में ही समाधान जानना चाहता है।
राधारमण जी खुद कोई चिकित्सक नहीं हैं। कुतूहलवश मैंने जानना चाहा अखबार में छपी खबरों की प्रामाणिकता आप कैसे जाचते हैं?
तो कहते हैं  - यह एक बड़ी चुनौती है। मैं अपने स्तर से केवल इतना कर सकता हूं कि उन खबरों को प्राथमिकता दूं,जिनमें डाक्टरों को कोट किया गया हो अथवा जो स्वयं डाक्टरों द्वारा लिखे गए हों। फिर भी चूक की संभावना तो रहती है।

इस तरह के ब्लॉग जिस पर समाज को कुछ खास किस्म की जनकारी दी जा रही हो न केबराबर टिप्पणी देख कर उसके ब्लॉगस्वामी को दाद देनी पड़ती है। जब मैंने राधारमण जी से पूछा, - क्या परिश्रम की तुलना में नगण्य टिप्पणियां देखकर मन हतोत्साहित नहीं होता?
उनका उत्तर था - नहीं। अनिवार्यताओं को टिप्पणी की दरकार नहीं होती। फिर, ब्लॉग जगत में टिप्पणी के मायाजाल से सभी परिचित हैं। मैं इस दलदल का हिस्सा नहीं बन पाउंगा। पाठकों का ब्लॉग पर आना ही बहुत है,टिप्पणी करें न करें।

 

स्वास्थ संबंधी यदि आपको कुछ रोग निवारक आसान नुस्खे. चाहिए तो मिलिए dr.aalok dayaram से उनके इस ब्लॉग पर। इस ब्लाग में सामान्य एवं जटिल रोगों में हितकारी घरेलू इलाज का विवेचन किया गया है। डा.आलोक का कहना है इन नुस्खों के घटक पदार्थ आसानी से प्राप्त हो सकते हैं और सावधानी पूर्वक उपयोग करने से इनके कोइ दुष्परिणाम भी नहीं होते हैं।

पढने योग्य इनके अन्य ब्लाग हैं--

अगर बीसवीं सदी में राष्ट्रवाद एक बहुत प्रभावी धारणा थी तो वर्त्तमान सदी में यह एक पिछड़ेपन की धारणा मात्र है। आधुनिकता का संघर्ष जो अपूर्ण रह गया, वह तब तक चलता रहेगा जब तक एक सामान्य बात पूर्ण तौर पर प्रतिष्ठित नहीं होती - वह है 'मानव ही सबसे बड़ा सच है उससे बढ़कर और कुछ नहीं! इसी की जनपक्षधर चेतना का सामूहिक मंच है जनपक्ष।

एक और ऐसा ही ब्लॉग है जो समाज सेवा में लगा है। इसका नाम है भाषा,शिक्षा और रोज़गार। इसके ब्लॉगस्वामी खुद को शिक्षामित्र कहलाना पसंद करते हैं। उनका कहना है “रोज़ी-रोटी का मसला सुलझे, कविता-कहानियां भी तभी सुहाती हैं.!” दिन भर में अनगिनत पोस्ट डालते हैं, सभी शिक्षा जगत से संबंधित। उद्देश्य है लोगों को इस विषय से संबंधित जानकारी एक जगह सहज सुलभ हो और सबसे पहले हो।   शिक्षामित्र से जब मैंने पूछा कि अगर वे कुमार जलजला टाइप टिप्पणी कहीं नहीं कर रहे, तो फिर अपने नाम से ब्लॉगिंग क्यों नहीं?जवाब मिला - नाम में क्या रखा है, मैं बेनामियों की प्रतिष्ठा के लिए काम कर रहा हूं।
मेरा दूसरा सवाल था - ब्लॉगिंग के लिए भाषा,शिक्षा और रोज़गार विषय क्यों? शिक्षामित्र का तर्क था-अपनी-अपनी पसंद है। ब्लॉगिंग शुरु करने के पहले, मैंने गौर किया कि ब्लॉग पर क्या-क्या हो रहा है और क्या नहीं हो रहा। मैंने पाया कि न सिर्फ ब्लॉग पर, बल्कि देश की किसी वेबसाईट पर भी इन विषयों पर सामग्री उपलब्ध नहीं है। मुझे लगा कि गूगल के सुझाव के मुताबिक ही बाकी लोग तो व्यक्तिगत अनुभव और घर के फोटो आदि शेयर कर ही रहे हैं, तो मुझे कोई ऐसा फील्ड खोजना चाहिए जिसमें कोई काम नहीं हो रहा या नाममात्र काम हो रहा है। पूछते हैं,"यों भी, क्या आप सोचते हैं कि किसी को आपके अनुभव या कविता-कहानी में वास्तविक दिलचस्पी है? ऐसा नहीं है। लोग इसलिए ऐसी सामग्री देखते हैं कि सर्वत्र वही सब उपलब्ध है। आप जरूरत की दूसरी सामग्री देंगे, तो वह भी चलेगा।"
मगर इसका रेस्पांस कैसा है? आपके ब्लॉग पर टिप्पणियां तो नहीं के बराबर हैं, फिर इस प्रकार के ब्लॉग का आप क्या भविष्य देख रहे हैं? शिक्षामित्र का दो टूक कहना है - मैंने यह ब्लॉग टिप्पणी के लिए शुरु नहीं किया है। इसलिए टिप्पणी वाले कॉलम में साफ घोषणा भी की गई है कि टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। मोटे तौर पर रेस्पांस भी ठीक ही है। लगभग 250 पेज रोज़ पढ़े जा रहे हैं। अब तो कई पाठक नौकरी के लिए बायोडाटा भी मेल करने लगे हैं। कई अन्य पाठक करिअर के संबंध में व्यक्तिगत प्रश्न का उत्तर चाहते हैं।   क्या इतनी सफलता कम है?"

Laughing out loudइस सप्ताह इतना ही। इसी तरह के ब्लॉग्स लेकर फिर आऊंगा। तब तक के लिए विदा।

Post Comment

Post Comment

22 टिप्‍पणियां:

  1. दोनों ब्लॉग की चर्चा पढ़ना अच्छा अनुभव रहा। पुस्तकायन की चर्चा देखकर वहां के कुछ लेख भी देखे। वहीं से बचपन से पलायन पुस्तक भी मिल गयी। अब इसको पढ़ना है।

    स्वास्थ्य वाला ब्लॉग अच्छा है। अभी और देखना है।

    ढेर सारे ब्लॉग्स का लिंक देने की बजाय इस तरह उपयोगी ब्लॉगस की चर्चा करना भी अच्छा है- बहुत अच्छा है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. भाषा,शिक्षा और रोज़गार ब्लॉग को किसी अन्य मंच पर इतना स्थान पहली बार मिला है। किन शब्दों में शु्क्रिया अदा करूं!

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वास्थ्य हम सब से जुड़ा मसला है। मुझे आशा है कि पाठक इस ब्लॉग से लाभान्वित होते रहेंगे। इस पोस्ट से आपने upchar.blogspot.com ब्लॉग पर और गंभीरता से काम करने की प्रेरणा दी है। कोटिशः आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. काफ़ी ज्ञानवर्धक जानकारी प्रस्तुत की है……………आभार्।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये चर्चा तो जरा हट के रही .बहुत ज्ञानवर्धक.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढिया लिंक के लिए आभार॥ पुस्तकायन को फ़ालो कर रहे हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज की चर्चा विशेष ज्ञानवर्धक रही, धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मनोज जी आपने चिट्ठा चर्चा बहुत सुन्दर लगाई है!

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज्ञानवर्धक !चिट्ठा चर्चा बहुत सुन्दर लगाई है

    मेरे एक मित्र जो गैर सरकारी संगठनो में कार्यरत हैं के कहने पर एक नया ब्लॉग सुरु किया है जिसमें सामाजिक समस्याओं जैसे वेश्यावृत्ति , मानव तस्करी, बाल मजदूरी जैसे मुद्दों को उठाया जायेगा | आप लोगों का सहयोग और सुझाव अपेक्षित है |
    http://samajik2010.blogspot.com/2010/11/blog-post.html

    उत्तर देंहटाएं
  10. आदरणीय मनोज कुमारजी, चिट्ठाचर्चा में हर विषय के चिट्ठों पर महत्वपूर्ण जानकारी प्रस्तुति के लिये आभार! विद्वद्जनों के चर्चा मंच पर मेरे चिट्ठे शामिल करने के लिये आभार!साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं

  11. बेहतर एवँ उपयोगी चर्चा ।
    ब्लॉगपृष्ठों की बढ़ती हुई सँख्या में, ब्लॉग पोस्ट के अन्वेषण से अधिक अब मौलिक सोच के नये ब्लॉग को सामने लाने की आवश्यकता है । हर्ष है कि, श्री अनूप जी ने भी इसके महत्व को मान्यता दी है । अच्छी और सामयिक चर्चा !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहोत ही अच्छी चिट्ठा चर्चा रही काफी अच्छे लिंक मिले.....................
    आदरणीय शिक्षा मित्र जी परिचय कराने के लिये धन्यवाद
    वास्तव में समाज सेवा के मामलें में इनका ब्लॉग सर्वश्रेष्ठ है............
    इन्होने टिप्पणी की चिंता किये बगैर प्रतिदिन रोजगार और शिक्षा संबंधी जानकारी दी है इसी को कहते है निस्वार्थ भाव की सेवा
    .................................इनका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  13. डॉ. अमर कुमार जी,
    आपके विचार की प्रतीक्षा कर रहा था। ग्राम प्रवास के दौरान इस ब्लॉग पर आना न हो सका था, इसलिए आपके विचार पढ नहीं पाया। आपकी टिप्पणी से मनोबल बढा।
    आभार आपका।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपके पाठ चयन ने अभिभूत किया....

    बहुत ही सुन्दर चर्चा !!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. .
    मेरे प्रिय चर्चाकारों, आप सब जहाँ कहीं भी हो, कृपया लौट आओ..
    अब कोई तुम्हें उलाहना न देगा, यहाँ तक की मैं भी कुछ नहीं कहूँगा ।
    कम से कम अपना कुशल मँगल देने तो आ ही सकते हो,
    माना कि, इधर ढँग का कुछ भी नहीं लिखा जा रहा है,
    लेकिन, चर्चाकार तो वही जो बिना विषय अपनी उड़ावै

    उत्तर देंहटाएं
  16. gurwar amar kya kah rahe hain.......

    koi hai......batayen.........


    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या पुस्तकायन मेँ बलात्कार के विषय पर भी कुछ है ?
    बलात्कार पर सर्वथा अद्भुत चिंतन
    http://www.ahsaskiparten.blogspot.com
    पर , आज, अभी तुरंत ।
    भाईयो और बहनो , आप अभी तक आए नहीँ ?
    आइये और देखिए

    एक साथ दो पोस्ट एक ही ब्लाग पर
    तशरीफ़ लायेँ और हल सुझाएँ

    क्योंकि बलात्कार एक ऐसा जुर्म है जो अपने घटित होने से ज़्यादा घटित होने के बाद दुख देता है, सिर्फ बलात्कार की शिकार लड़की को ही नहीं बल्कि उससे जुड़े हर आदमी को , उसके पूरे परिवार को ।
    क़ानून और अदालतें हमेशा से हैं लेकिन यह घिनौना जुर्म कभी ख़त्म न हो सका बल्कि इंसाफ़ के मुहाफ़िज़ों के दामन भी इसके दाग़ से दाग़दार है ।

    क्योंकि जब इंसान के दिल में ख़ुदा के होने का यक़ीन नहीं होता, उसकी मुहब्बत नहीं होती , उसका ख़ौफ़ नहीं होता तो उसे जुर्म और पाप से दुनिया की कोई ताक़त नहीं रोक सकती, पुलिस तो क्या फ़ौज भी नहीं । वेद कुरआन यही कहते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. क्या पुस्तकायन मेँ बलात्कार के विषय पर भी कुछ है ?
    बलात्कार पर सर्वथा अद्भुत चिंतन
    http://www.ahsaskiparten.blogspot.com
    पर , आज, अभी तुरंत ।
    भाईयो और बहनो , आप अभी तक आए नहीँ ?
    आइये और देखिए

    एक साथ दो पोस्ट एक ही ब्लाग पर
    तशरीफ़ लायेँ और हल सुझाएँ

    क्योंकि बलात्कार एक ऐसा जुर्म है जो अपने घटित होने से ज़्यादा घटित होने के बाद दुख देता है, सिर्फ बलात्कार की शिकार लड़की को ही नहीं बल्कि उससे जुड़े हर आदमी को , उसके पूरे परिवार को ।
    क़ानून और अदालतें हमेशा से हैं लेकिन यह घिनौना जुर्म कभी ख़त्म न हो सका बल्कि इंसाफ़ के मुहाफ़िज़ों के दामन भी इसके दाग़ से दाग़दार है ।

    क्योंकि जब इंसान के दिल में ख़ुदा के होने का यक़ीन नहीं होता, उसकी मुहब्बत नहीं होती , उसका ख़ौफ़ नहीं होता तो उसे जुर्म और पाप से दुनिया की कोई ताक़त नहीं रोक सकती, पुलिस तो क्या फ़ौज भी नहीं ।
    वेद कुरआन यही कहते हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर चर्चा ...अच्छे लिंक्स मिले.....

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative