रविवार, फ़रवरी 24, 2008

ब्लागिंग ने चोर पकड़वाया



ये बगल वाला फोटो ब्लागखबरिया में छपा है। जयपुर के अखबार में। सुधाकर सोनीजी ने बनाया है। चौचक है न!
तुलसीदास जी कह गये हैं-
पर उपदेश कुशल बहुतेरे। जे आचरहिं ते नर न घनेरे॥

गोस्वामीजी जो बात बहुत पहले कह गये वह आज भी चरितार्थ होती है। दो दिन पहले एक बार फ़िर हुई। पाण्डेयजी पोस्ट तो लिखते हैं पारिवारिक कलह से बचने के उपाय बताने के लिये लेकिन पोस्ट खतम करते-करते आलोक पुराणिक को अनूप शुक्ल के खिलाफ़ भड़काने लगते हैं। जिस बात पर उनको मिट्टी डालनी चाहिये उसको वे चमका के सामने पेश करते हैं। वो तो कहिये आलोक पुराणिक को फ़रवरी के महीने में बजट कथा बांचने के लिये जजमान घेरे रहते हैं और अनूप शुक्ल समझदार हैं वर्ना तो न जाने क्या गजब होता। ज्ञानीजन महाभारत करवा देते।

इसीलिये अजय झा कहते हैं आप लोग कुछ ज्यादा ही आलोचनात्मक हो गए हैं। एक दूसरे की जबरदस्त खीन्चाई कर रहे हैं।

इस सबसे अलग मुम्बई में बोधिसत्व ने विनय पूर्वक विनय पत्रिका का साल पूरा किया और साथियों की शुभकामनायें हथिया लीं। लेकिन वे यह अभी तक न पता कर पाये कि उन्होंने साल भर क्या उखाड़ा!


१. कोलम्बस और कृष्ण:कविता में 'क' वर्ण की आवृत्ति होने के कारण अनुप्रास अलंकार की छ्टा दर्शनीय है।

२.आस्कॅर, हिन्दी और बॉलीवुड : में अपना योगदान देते रहें।

३.चूहे में छुपी है मसलपावर ... : और आप खोजते हैं सलमान खान की बाहों में! कैसे मिलेगी!

४. राज न हो फिर भी कोष : बजट आया नहीं पर उड़े हैं होश!

५.ये डाक्टर .. .. ..ये कैसे डाक्टर ? :जो टीसते हृदय से आभार दे रहे हैं!

६.अकेलापन : हंसता है!

७.वह बारिश की छीटें :मिल जायें तो पकड़ के पीटें!(न जाने क्या-क्या याद दिलाती हैं।)

८. आज का मैनेजमेंट फ़ंडा: सेवा क्षेत्र देता रहेगा सोने का अंडा!

९. जीवन है चलता रहता है !!!:बार-बार कह रहे हैं तो मानना ही पड़ेगा!

१०.पुष्पित :हो गया! अब संवरना होगा!

११.सुनिये रघुवीर सहाय की कविता , किताब पढकर रोना :रोने के लिये किताब पढ़ने की क्या जरूरत है जी! ब्लाग पढ़ लीजिये।

१२.मेरे बारे में कोई राय ना कायम करना :जो करेगा, पछतायेगा! यहां कुछ नहीं पायेगा।

१३.लोकलुभावन बजट, यानि गई भैस पानी में....! :अब तो आराम से नहा-धो के निकलेगी।

१४. खुशरो बाग:मुफ़्त में देखिये।

१५.मैली हो गयी नर्मदा :अब बताओ कौन सा डिटरजेंट इसे साफ़ करेगा!

१६. मुझ से पहली सी मोहब्बत मेरे महबूब न माँग:चलो अच्छा दूसरी वाली ही दे दो!

मेरी पसन्द





लम्हों को
नियम से बँध
कुछ इस तरह
खुलना होगा

पँखुडियों की
अदा सा
रंग में डूब कर
खिलना होगा

अधखुली
बात को
धीरे से
महकना होगा

जीवन के
केन्द्र के
आसपास
जुटना होगा

आलोक को
आलिंगन में
बाँधने के लिये
उठना होगा

नमी की
दो बूँद
सँभालने के लिये
रुकना होगा

बिखरने से पहले
हौले से
लम्हों को ....लम्हों का हाथ
पकड़ना होगा

जिन्दगी
तुझको तो
सुमन सा ही
संवरना होगा......

डा. बेजी

Post Comment

Post Comment

14 टिप्‍पणियां:

  1. beji kae chtr kae neechaye chupae duarae chitr kaaa raaj bataye aur kyon unhey beji kae neechay chupaaya haen . aap eas keerti vaidya kae saath bhi kar chukae haen

    उत्तर देंहटाएं
  2. पहली बात तो यह कि हमारा और चिट्ठा चर्चा का 36 का आंकड़ा है. जब हम रोज लिखते हैं तो आप चर्चा नहीं करते जिस दिन हम पोस्ट नहीं लिखते या लिख पाते उस दिन चर्चा हो जाती है. आप पिछ्ले तीन महीने के आंकड़े उठा के देख लें साहब :-)हमारे बारे में ऎडवांस में जानकारी रखने के लिये धन्य्वाद.

    चित्र के नीचे चित्र ....कोई तकनीकी लोचा लगता है जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेजीजी का चित्र हमने उनके ब्लाग से ही लिया है। कविता के साथ कवियत्री का चित्र। बाकी तकनीकी विशेषज्ञ बतायें। काकेशजी आप चिंता न करें। आपको कायदे से ’कबर’ किया जायेगा कभी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. कविता के साथ कवियत्री का चित्र। बाकी तकनीकी विशेषज्ञ बतायें।
    kitnii baar bataye kii aap jab bhi chitr daetey haen kisi कवियत्री kewal chitr aata hae aur uskae nichae flicker kaa dusra chitr aata haen

    उत्तर देंहटाएं
  5. केवल सच महोदय, वे जो चित्र आते हैं फ़्लिकर के वे हमारे एकाउंट के हैं। और जो चित्र आपको दिखते हैं वे अनूप भार्गव-रजनी भार्गव, कन्हैयालाल नंदन आदि के हैं। इसके अलावा भी हैं। मन करे देखिये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बड़ी बढ़िया पोस्ट किए बड़े ब्लोगेर साब आप. गागर मे सागर.
    अच्छा कार्टून. जायेकेदार चिट्ठा चर्चा और डाक्टर बेजी का तो क्या कहना.
    और अब बड़े ब्लोगर साहब से क्या कहे? अपन का चर्चा तो जब लिखतें है तब भी नहीं होता और जब नहीं लिखते तब भी नहीं होता. काकेश भाई से भी गंभीर हालात हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जय हो । बहुत दिनों बाद दर्शन हुए हैं। तर गए....

    उत्तर देंहटाएं
  8. कविता के साथ कवियत्री का चित्र। jab beji kaa chitr haen toh click karne sae usae beji kae blog per jaana chaheyae !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
    aap kaa shayaad is chitr ko lagane ka purpose kuch aur haen
    ab locha takniki nahin haen

    उत्तर देंहटाएं
  9. कहा था न तेरे को ब्लॉग लिखने न बैठ!
    ----------------------------
    ओह, तो आप हरी-सफ़ेद धारी के टीशर्ट वाले की राय पर ज्यादा यकीन कर रहे हैं! तभी नहीं लिखते आजकल। :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. beji kae chtir ka neechayae anya phot ka link hataaney kae liyae shukriya !!!!!!!! naam kae neechaye blog link daetey to achchaa hota shayad

    उत्तर देंहटाएं
  11. बॉस बाकी सब तो ठीक है। हमारा लिंक भले न दिया पर उसका नाम तो दे देते जिसने यह कार्टून बनाया।

    उत्तर देंहटाएं
  12. ब्लागमास्टरजी, सुधाकर सोनी जी का नाम कल ही दिया था। उन्होंने ही कार्टून बनाया है न! कल हड़बड़ी के कारण लिंक न दे पाये थे। आज वो भी दे दिया। :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. अनूपजी
    शुक्रिया आपन की आवाज सुनी आपने

    उत्तर देंहटाएं
  14. वह बारिश की छीटें :मिल जायें तो पकड़ के पीटें!(न जाने क्या-क्या याद दिलाती हैं।)

    kya kahna chaah rahe hain khul ke spshhT karein... kuchh mujhe merii khabar lage...

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative