गुरुवार, सितंबर 01, 2005

बिपाशा का अपहरण

अगर इनके प्रशंसकों के दिल की धड़कन तेज़ हो गई हो तो हमे क्षमा करें। हमारा इशारा तो बस प्रकाश झा की नई फिल्म के प्रचार के लिये बने उनके ब्लॉग की ओर था।

Post Comment

Post Comment

2 टिप्‍पणियां:

  1. अब ये कौन तय करेगा कि ये वाली विपासाजी असली हैं या नकली? :: अनूप शुक्ल [09.02.05 - 1:13 am]

    उत्तर देंहटाएं
  2. फिल्म वालों की ही साईट है इसलिये मान सकते हैं कि ब्लॉग तो असली है, बाकी "भूत लेखक" तो हर सेलिब्रिटी कार्य से जुड़े ही रहते हैं। जैसा मैंने एनडीटीवी की रपट में देखा तो हम जल्द ही प्रमोशन से जुड़े प्रकाश झा और अजय देवगन के भी ब्लॉग देखेंगे। :: देबाशीष []

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative