गुरुवार, सितंबर 01, 2005

हिंदी सुभाषित सहस्र

अनुगूंज के बारहवें आयोजन का अवलोकन करते हुये अनुनाद सिंह ने सारे हिंदी चिट्ठाकारों द्वारा भेजे गये सुभाषितों के संकलन का उल्लेखनीय काम किया। आशीष कुमार को यह विक्रम ने बताया कि केनेडी क्यों मुस्कराये थे। सुनील दीपक जी यादों के रंग में डूब गये। लक्ष्मी नारायण गुप्ता नयी गज़ल के साथ हाजिर हैं। वहीं रवि रतलामी बता रहे हैं कि ज्यादा वजन की चिंता नहीं करनी चाहिये।

Post Comment

Post Comment

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative