रविवार, अगस्त 28, 2005

मनोरंजन से भजन की ओर

देश दुनिया में जब होम्योपैथी पर सवाल उठ रहे हैं तब पंकज का यह पूछना कि 'मैं कौन हूं' सोचने को मजबूर करता है। एक ओर जहां सुनील दीपक सड़क के कलाकारों से मिलवाते हैं वहीं संकेत गोयल मिलवाते हैं सैनी जी से जो शहर में बिजली की मांग करते हुये आत्महत्या की धमकी देते हुये पकड़े गये। स्वामीजी धमाका करने के बाद अण्ड-सण्ड-प्रचण्ड की याद में डूब गये जब यादों से उबरे तो मनोरंजन से भजन की तरफ रुख किया जहां कि आलोक कुमार तमाम ४०४ की झड़ियां लिये बैठे थे, शायद इनकम टैक्स रिटर्न का मामला हो।

Post Comment

Post Comment

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative