रविवार, अक्तूबर 10, 2010

ब्लॉगिंग सबसे कम पाखंड वाली विधा है














फ़ोटो परिचय: १. ब्लॉगिंग कार्यशाला में वर्धा विश्वविद्यालय के छात्र २. वर्धा विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ हम लोग ३. शाम के सत्र में कविता पाठ करते हुये आलोक धन्वा जी ४.आलोक धन्वा एवं श्रीमती अजित गुप्ता जी ५. प्रियंकर,अनीता कुमार, कविता वाचक्नवी, अनूप शुक्ल और किशोर साहू ६. आलोक धन्वा जी के साथ ब्लागर ७. प्रियंकर, अनूप शुक्ल, अशोक कुमार मिश्र और किशोर साहू ८, वर्धा ऐसा दिखता है रात को ९. विश्वविद्यालय के छात्र १०. कविता जी , अनीता कुमार और श्रीमती अजित गुप्ता ११. प्रियंकर पालीवाल आलोक धन्वा १२. ब्लॉगर साथी कविता सत्र में १३. दोपहर बाद के सत्र में चर्चारत साथी गायत्री शर्मा, यशवंत, जय कुमार झा, जाकिर अली रजनीश और अनूप शुक्ल


कल सुबह के सत्र के बाद जब हम दोबारा गये। हाल के बाहर ही विश्वविद्यालय के छात्र मिल गये। दूर-दूर आये छात्र ब्लॉगिंग के बारे में अपनी राय बता रहे थे। काफ़ी लोगों को ब्लॉगिंग के बारे में पहली बार जानकारी मिली। एक छात्र बोला- अरे ई टॉपिकै डाउट्फ़ुल है। आचार संहिता की बहुत बात होती है। अपनाता कोई नहीं है।

सत्र में छात्रों को ब्लॉग की तकनीकी जानकारी दी गयी। संजय बेंगाणी और शैलेश भारतवासी ने बच्चों को जानकारी दी।

शाम का सत्र कविता पाठ का था। कई ब्लॉगरों ने अपनी रचनायें सुनायीं। शमा की जगह आलोकधन्वा की टार्च घूमती रही। जिसके पास टार्च पहुंची उसने कविता पढ़ना शुरु किया।

आलोक धन्वा जी ने शुरुआत की:
हर भले आदमी की एक रेल होती है
जो उसके मां के घर की तरफ़ जाती है
सीटी बजाती हुयी, धुआं उड़ाती हुई


और लोगों के बाद विवेक सिंह ने अपनी कविता बांची:
ब्लॉगिंग में यदि हो गया लागू ब्लॉगाचार
यह रोटी हो जायेगी जैसे बिना अचार
जैसे बिना अचार लगेगी रूखी-रूखी
यह अच्छी लगती हमको तो टो टूकी
विवेक सिंह यों कहें किधर से बाहर भागूं
ब्लॉगाचार कहीं ब्लॉगिंग में हो यदि लागू।


कविता सत्र के बाद लखनऊ के रहने वाले रवि नागर जी ने कई कवितायें हारमोनियम के साथ गाकर सुनाईं अद्भुत।

कविता पाठ के बाद फ़िर आपस में बतकही के कई दौर मिले। आलोक धन्वा जी ने ब्लॉगिग के बारे में अपनी राय बताते हुये कहा -यह सबसे कम पाखंड वाली विधा है।

इस पर राजकिशोर जी ने कहा पाखंड की कुछ उपस्थिति भी आवश्यक है समाज के लिये।

इस बीच अशोक पाण्डेय कबाड़खाना वालों से बहुत लम्बी बातचीत हुई। आलोक धन्वाजी और अन्य कई लोगों ने उनसे बतियाते हुये उनकी कमी महसूस की।

यह पोस्ट अभी सुबह-सुबह चाय पीते हुये लिखी जा रही है। कई साथी यहां खुले में मौजूद हैं। पीछे से संजय बेंगाणी की आवाज आई -अरे भाई दरवाजा खोलो।

पता चला उनका दरवाजा कोई बाहर से बंद कर गया। उनके साथ सुरेश चिपलूनकर जी ठहरे हुये हैं। हमारी त्वरित टिप्पणी थी - राष्ट्रवादी को हिंदूवादी बंद करके निकल लिये।

यहां चर्चा करते हुये हम इस समय तक लिखी गयी पोस्टों पर आई टिप्पणियों पर भी मौज लेते हुये चर्चा हो रही है।

जाकिर अली- यहां क्या बतायें हम खुद ही लि्खेंगे। माडिफ़ाइड ललित जी की पोस्ट के क्रम में मेरा यह प्रयास रहेगा कि अपने अगले कार्यक्रम में उनको अवश्य बुलवाऊंगा।
रवीन्द्र प्रभात- सब कुछ सकारात्मक है। विचार, वातावरण और कार्यक्रम सब कुछ सकारात्मक दिशा में चल रहा है और यह ब्लॉगजगत के लिये बड़ी उपलब्धि है।
जय कुमार झा-हम जब कार्यक्रम करायेंगे तो और ब्लॉगरों को बुलवायेंगे।
अनीता कुमार- सबको गुडमार्निंग।
अजित गुप्ता -सुबह सुबह बहुत अच्छा लग रहा है। फ़ूल खिले हैं। चिड़िया चहचहा रही है बहुत अच्छा लग रहा है।
संजय बेंगाणी- चाय बहुत ही स्वादिष्ट है।
ऋषभ शर्मा -आज का दिन ऐतिहासिक है। १०.१०.१०। सारे दस नम्बरी यहां हैं। सत्र की शुरुआत भी दस बजे से होनी है।
हर्षवर्धन- बाहर वाले किसी दस नम्बरी की पोस्ट आयी है क्या?
सिन्हा जी-हम तो क्रिय ही नहीं किये। प्रतिक्रिया क्या दें?
विवेक सिंह-त्रिपाठी जी की नींद पता नहीं पूरी हुई कि नहीं।
सिद्धार्थ त्रिपाठी- अरे बस नहीं आयी अभी तक।

फ़िलहाल इतना ही। अब हम लोग सेवाग्राम की तरफ़ निकल रहे हैं।

Post Comment

Post Comment

21 टिप्‍पणियां:

  1. वाह जी बहुत बढ़िया.
    पूरा देश ही विगाड़ देना है :-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपलोग सेवाग्राम में गांधीजी की कुटिया का भ्रमण कीजिए, फोटो खीचिए। कैमरे की बैटरी बचाकर रखिएगा। आज बहुत से अन्य संग्रहणीय दृश्य मिलेंगे। विश्वविद्यालय के स्थापत्य का नमूना पहाड़ी टीलों की सैर कराकर दिखाऊंगा। ‘गांधी हिल्स’ पर वह सबकुछ है जो सेवाग्राम आश्रम की कुटिया में आप देखकर आएंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सिद्धार्थ जी , प्रयाग के बाद अब वर्धा ?
    जहां भी आप होंगे ब्लोगरी और हिन्दी की धूम तो होगी ही . हम तो पढ़ कर ही संतोष कर लेते हैं .हाँ दूर से ललचते भी हैं की काश हम भी होते .हमने अपने कैमरे में बड़ी बैटरी बचा रखी है ........कभी आने पर .

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह, मज़ा आ रहा है बोलती तस्वीरें देख के. शानदार रिपोर्टिंग. असल में आपको रिपोर्टर होना चाहिये था.... :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. .
    आप लिखते चलो, मैं पढ़ता रहूँगा
    मज़ा आ रहा है, कुछ बोलूँगा नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
  6. ‘आज का दिन ऐतिहासिक है। १०.१०.१०। सारे दस नम्बरी यहां हैं।
    दस नम्बरी मण्डल को प्रणाम :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाकई........ हमारी तरफ से भी समग्र दस नम्बरी समूह को प्रणाम.

    बाकि दिखाते रहिये....... हम देखते रहेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया.. परन्तु मैं सुरेश जी को इन तस्वीरों में पहचान नहीं पा रहा

    उत्तर देंहटाएं
  9. दस नम्बरी हा हा कैसा अद्भुत संयोग !कुदरत भी पहचानती है :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाई महक जी,

    अनूप जी एकदम्मे "कलाकार" टाइप के व्यक्ति हैं… सम्मेलन की रिपोर्टिंग में इस बात का विशेष ध्यान रखा गया है कि राष्ट्रवादी और हिन्दूवादी ब्लॉगरों को कोई "फ़ुटेज" नहीं दिया जाये, अब तक तीन पोस्ट हो चुकीं… फ़ोटो से तो परहेज़ है ही, नाम भी मौज लेने की कतार में ही शामिल है… :) :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. @SURESH BHAISHAB

    kalakar type nahi ..... khalish kalakar ......
    sabse bara kalakar ...... ab dekhiye na ......
    rashtrawad/hinduwad/brahmanwad/dalitwad/nariwad/
    purushwad/yewad/owad se lekar islamabad ...matlb
    yahan lagbhag har blogger ...kisi na kisi wad ke sath jure hue hain ...........lekin inke 'mauj'
    par kisi ne aajtak kisiwad ka thapa nahi lagaya.

    blogroopi rasoi me postroopi laziz vyanjan me'o'
    namak hain......jiske bine blogwood ke sare
    vyanjan phika hai.......(ye ek mouj lene ki dhrista hai...shresht jan maf karenge)

    pranam

    उत्तर देंहटाएं
  12. मुझे मालूम नहीं था कि बेटार्च के पढ़ूंगा और वो भी व्‍यंग्‍य तो न चित्र खिंचेगा और न ही होगा जिक्र। पर आप मत करें फिक्र यहां पर प्रस्‍तुत है जो वो रचना जिसका मैंने पाठ किया टॉवर बनाओ झगड़ा मिटाओ

    उत्तर देंहटाएं
  13. देखते रहें सब खंड खंड में पाखंड। यह पा अमिताभ बच्‍चन वाला नहीं है जी जन्‍मभूमि बाबरी विवाद हल करने का उपाय

    उत्तर देंहटाएं
  14. कविता पाठ के दौरान एक जनकवि ने कविता सुनाई थी "क्यों..."


    उसी समय मेरे दिमाग में दो पंक्तियाँ अकविता की मंडराई... मुलाईजा फरमाएं..
    वाम-विरोधी है.

    "घर में तेरे बिना दुध के बच्चे रोये..

    तु पव्वा पीकर यहाँ पड़ा है?

    क्यों?"

    उत्तर देंहटाएं
  15. Lagta hai Mahatma Gandhi Hindi Vishwavidyalaya men saare moorkh wahan ka blog chala rahe hain . Shukrawari ki ek 15 November ki report Priti Sagar ne post ki hai . Report is not in Unicode and thus not readable on Net …Fraud Moderator Priti Sagar Technically bhi zero hain . Any one can check…aur sabse bada turra ye ki Siddharth Shankar Tripathi ne us report ko padh bhi liya aur apna comment bhi post kar diya…Ab tripathi se koi poonche ki bhai jab report online readable hi nahin hai to tune kahan se padh li aur apna comment bhi de diya…ye nikammepan ke tamashe kewal Mahatma Gandhi Hindi Vishwavidyalaya, Wardha mein hi possible hain…. Besharmi ki bhi had hai….Lagta hai is university mein har shakh par ullu baitha hai….Yahan to kuen mein hi bhang padi hai…sab ke sab nikamme…

    उत्तर देंहटाएं
  16. Praveen Pandey has made a comment on the blog of Mahatma Gandhi Hindi University , Wardha on quality control in education...He has correctly said that a lot is to be done in education khas taur per MGAHV, Wardha Jaisi University mein Jahan ka Publication Incharge Devnagri mein 'Web site' tak sahi nahin likh sakta hai..jahan University ke Teachers non exhisting employees ke fake ICard banwa kar us per sim khareed kar use karte hain aur CBI aur Vigilance mein case jaane ke baad us SIM ko apne naam per transfer karwa lete hain...Jahan ke teachers bina kisi literary work ke University ki web site per literary Writer declare kar diye jaate hain..Jahan ke blog ki moderator English padh aur likh na paane ke bawzood english ke post per comment kar deti hain...jahan ki moderator ko basic technical samajh tak nahi hai aur wo University ke blog per jo post bhejti hain wo fonts ki compatibility na hone ke kaaran readable hi nain hai aur sabse bada Ttamasha Siddharth Shankar Tripathi Jaise log karte hain jo aisi non readable posts per apne comment tak post kar dete hain...sach mein Sudhar to Mahatma Handhi Antarrashtriya Hindi Vishwavidyalaya , Wardha mein hona hai jahan ke teachers ko ayyashi chod kar bhavishya mein aisa kaam na karne ka sankalp lena hai jisse university per CBI aur Vigilance enquiry ka future mein koi dhabba na lage...Sach mein Praveen Pandey ji..U R Correct.... बहुत कुछ कर देने की आवश्यकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. महोदय/महोदया
    आपकी प्रतिक्रया से सिद्धार्थ जी को अवगत करा दिया गया है, जिसपर उनकी प्रतिक्रया आई है वह इसप्रकार है -

    प्रभात जी,
    मेरे कंप्यूटर पर तो पोस्ट साफ -साफ़ पढ़ने में आयी है। आप खुद चेक कीजिए।
    बल्कि मैंने उस पोस्ट के अधूरेपन को लेकर टिप्पणी की है।
    ये प्रीति कृष्ण कोई छद्मनामी है जिसे वर्धा से काफी शिकायतें हैं। लेकिन दुर्भाग्य से इस ब्लॉग के संचालन के बारे में उन्होंने जो बातें लिखी हैं वह आंशिक रूप से सही भी कही जा सकती हैं। मैं खुद ही दुविधा में हूँ।:(
    सादर!
    सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
    महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय
    वर्धा, महाराष्ट्र-442001
    ब्लॉग: सत्यार्थमित्र
    वेबसाइट:हिंदीसमय

    इसपर मैंने अपनी प्रतिक्रया दे दी है -
    सिद्धार्थ जी,
    मैंने इसे चेक किया, सचमुच यह यूनिकोड में नहीं है शायद कृतिदेव में है इसीलिए पढ़ा नही जा सका है , संभव हो तो इसे दुरुस्त करा दें, विवाद से बचा जा सकता है !

    सादर-
    रवीन्द्र प्रभात

    उत्तर देंहटाएं
  18. There is an article on the blog of Mahatma Gandhi Antarrashtriya Hindi Vishwavidyalaya , Wardha ‘ Hindi-Vishwa’ of RajKishore entitled ज्योतिबा फुले का रास्ता ..Article ends with the line.....दलित समाज में भी अब दहेज प्रथा और स्त्रियों पर पारिवारिक नियंत्रण की बुराई शुरू हो गई है…. Ab Rajkishore ji se koi poonche ki kya Rajkishore Chahte hai ki dalit striyan Parivatik Niyantran se Mukt ho kar Sex aur enjoyment ke liye freely available hoon jaisa pahle hota tha..Kya Rajkishore Wardha mein dalit Callgirls ki factory chalana chahte hain… besharmi ki had hai … really he is mentally sick and frustrated ……V N Rai Ke Chinal Culture Ki Jai Ho !!!

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative