शनिवार, अगस्त 11, 2007

तो हो जाए एक चिट्ठा वर्कशाप?

ब्लागर मीट तो होती रहती है. क्यों न एक वर्कशाप की जाए? ऐसे नये चिट्ठाकारों को एक जगह ले आया जाए जहां पुराने चिट्ठाकार उनकी समस्याओं का समाधान करें. तकनीकि पहलुओं पर आ रही समस्याओं का निदान करें. एकाध प्रेजेन्टेशन हो जाए. एक दिन का वर्कशाप हो तो कैसा रहेगा?

केवल अच्छा विचार कहने से बात नहीं बनेगी. अपना सुझाव दीजिए और क्या सहयोग कर सकते हैं, यह भी बताईये.

Post Comment

Post Comment

6 टिप्‍पणियां:

  1. अरे ! वाह संजयजी ! आपने तो मेरे मन की कह दी । यदि ऐसा हो जाता है तो मुझ जैसे तमाम ब्‍लागियों की तो लॉटरी खुल जाएगी ।

    चिट्ठे को रंगीन कैसे बनाना, पार्श्‍व कैसे तैयार करना, चित्र कैसे चिपकाना जैसी पचासों बातों के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है । मेरे गुरू रविजी रतलामी को बार-बार कष्‍ट देने में संकोच होने लगा है ।

    किसी और के लिए न सही, मेरे लिए ही सही, यह वर्कशाप जरूर कीजिये । भगवान आपका भला करेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. संजय यह अच्‍छा विचार है, कुछ काम पहले से हुआ है। हमने कुछ मैटीरियल तैयार भी कर लिया है।
    बात आगे बढ़ाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. साधुवादी विचार हैं वैसे इसी कार्य हेतु शायद सर्वज्ञ की कड़ियाँ हैं. हमारे मास्साब श्रीश बेहतर प्रकाश डाल सकेंगे इस पर. मुझे लगता है कि जो कार्य हो चुका है उससे आगे का कार्य किया जाना चाहिये. उनको बस एक लिंक के माध्यम से नये चिट्ठाकारों को बताना चाहिये. मास्साब बतायें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा विचार है, मेरे ख्याल से ऐसी वर्कशाप देश एक अलग अलग हिस्सों मे लगातार होती रहनी चाहिए।

    इसके लिए सामग्री पाने और डालने के लिए यहाँ पर देखें :
    http://wiki.akshargram.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही है। अगली ब्लागर मीट में सबसे पहले यही किया जाये!

    उत्तर देंहटाएं
  6. भाई लोगों इस बारे में काफी जानकारी स‌र्वज्ञ पर है, इसके अलावा कोई भी मदद चाहिए हो तो परिचर्चा पर निम्न दो फोरम हैं।

    हिन्दी स‌हायता
    वैबसाइट/ब्लॉग संबंधी स‌हायता

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative