शुक्रवार, अगस्त 24, 2007

चोरी भी करते हैं लेकिन शान से

यों तो चिट्ठों पर चर्चा के काबिल अधिक नहीं मिल पाता
आखिर कब तक रवि रतलामी, फ़ुरसतिया, समीर को गाता
कितने दिन आलोक पुराणिक या सागर की बात करूँ मैं
या दुहाई मेरे पन्ने की , बोलो कितनी देर लगाता

इसीलिये चर्चा का दामन छोड़ दिया कर एक बहाना
जितना पढ़ूँ लिखूंगा उतना, ये भी मुश्किल था कह पाना
किन्तु यहां पर जब देखी है सरे आम घनघोर डकैती
तो हो गया असंभव मुझको अब बिल्कुल भी, चुप रह जाना

तो मुलाहिजा फ़रमाइये

वह चोरी जब करते हैं, करते हैं सीना तान के

लिखना आता नहीं उन्हे है, हमने देखो मान लिया
और न तुकबन्दी ही सीखी, ये भी सच है जान लिया
भाव पास कुछ नही, चाह है शायर पर कहलाने की
इसीलिये ही राहजनी करवे करें उन्होंने ठान लिया

दूजों का हक हथियाते् हैं सदा बपौती मान के

चिट्ठों पर सोचा है कोई उनके जितना पढ़ा नहीं
वे लेखक हैं और कोई भी उनसे ज्यादा बड़ा नहीं
उनका हक है चाहे जिसकी रचना कह अपनी छापें
कोई उनके जितना ऐसे पैडस्टल पर चढ़ा नहीं

सारे शिष्टाचार पी गये ठंडाई में छान के

हर अच्छी कॄति इनकी होती और किसी का नाम नहीं
नीति और ईमान किसी से इनको कोई काम नहीं
ये है सच्छी बात पुतेगी गर्द समय की चेहरे पर
पंथ प्रगति का कभी चूमने पाता इनके पांव नहीं

बज़्मे अदब में, खरपतवारी पौधे हैं ये लान के

Post Comment

Post Comment

6 टिप्‍पणियां:

  1. http://aapkamitrgss.blogspot.com/2007/07/few-english-poems.html

    one more here

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने अच्छा किया जो यह कहा! कहते रहिये!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आगाह करके संभलने का मौका तो देते भाई...वैसे ऐसी सब बातों को वो अपने ब्लॉग से मिटा देते हैं तो कैसे कोई आगाह भी करे. शायद भविष्य में संभलें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरा तो मानना है कि कुछ भी नया नही है सब कुछ कहा जा चुका है. बस कहने का अन्दाज नया होता है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. http://sarathi.info/archives/495
    http://hubpages.com/hub/Nai_Subah

    i have pointed it out so many times
    i am requesting every blogger to visit these pirated copied sites and keep posting comments
    the link in your post above does not work now

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहने का अंदांज
    नया हो मौलिक हो
    तो उस पर अधिकार
    ओरिजनल लेखक का है
    अब वर्ण माला तो पुरानी
    ही है ले - ख़ाक हो रहा है लेखक

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative