मंगलवार, अगस्त 21, 2007

एक चर्चा ये भी है

1.विश्वास करें पर सतर्कता के साथ:जब समाज के यही हालत हैं तो यकीन किस पर किया जाय?

2.कुछ चेकिंग-ऊकिंग करने के लिए पोस्ट है, क्योंकि खोमचा शिफ्ट होने वाला है:हां भई नानैसेंस है पोस्ट!

3.लेखक वरिष्ठ पत्रकार है:क्या सच में ऐसा होता है? कहीं आप मजाक तो नहीं कर रहे हैं रवीशजी?

4.महाशक्ति मनाऐगा महार्षि अरविन्‍द का जन्‍मोत्‍सव:पढ़ा तो दुख भी हुआ।

५.‘भूचुनौना’ का इंडिया टीवी:होम करते ही हाथ जले और चैनल खुलते ही मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा।

6.कृष्णसखा:एक माला में बुनकर!

7.अखबार की बातें:हत्या लूट डकैती चोरी!

8.हेब्रॉन, सिंघाड़ा और नगा चटनी:का जायज़ा लेकर लौटै पत्रकार अभिषेक श्रीवास्तव के रिपोर्ट!

9.क्‍या भारतीय कम्‍यूनिस्‍ट चीनी हितों के लिए काम कर रहे हैं:कुछ गिव एंड टेक रहा ही होगा !

10.किसी को छोटा कह हम कैसे बड़े हो जाते हैं:सोचते हैं!

11.कविता हमारे समय का सबसे बड़ा फ्रॉड है?:वाक्य मेरा नहीं, बल्कि नक्सल आंदोलन के बड़े नाम विनोद मिश्रा का है।

12.बात इतनी है आदमी शाइर, या तो होता है या नहीं होता:बलंडर ऑन यूजर पार्ट !

13.78 बच्चों का पिता 100 पूरे करना चाहता है: अपना सहयोग प्रदान करें पर होगा 115 डॉलर का जुर्माना!

14.गम का साथी:अकेला सा महसूस करता है!

15.माया कि माया: जो जमीन सरकारी है , वो जमीन हमारी है।

16.पवार साहेब तो पू-रे युधिष्ठिर निकले!:अपने किसान होने की विश्वसीनता का फायदा उठा रहे हैं।


17.बाढ़ का कहर और देश का विकास:आज ज़रूरत है ऐसी ही दीर्घकालीन योजनाओं की!

18.गाँधारी का श्राप और प्रभु श्री कृष्ण का श्राप स्वीकारना :ऐसा मत कहो माता

19.फ़ुर‍सतिया कहां से हो लें?..: घबरायें नहीं आप जहां भी हैं वहीं से शुरू कर दें मंजिल मिलेगी।

20.हम होगें कामयाब एक दिन...ही...ही...ही..: मिलना हो तो आइये भूत बंगले।

21.एक चर्चा ये भी है:रचना करती है एक नये हिंदी चिटठा समुदाय की!

22.हटिये,अब हमें नहाने दीजियेएक लंबी लड़ाई के लिये!

Post Comment

Post Comment

3 टिप्‍पणियां:

  1. अनूप जी,एक ही लाईन में चिठ्ठे की पोस्ट की जानकारी देने का आप का प्रयास सफल रहा है।बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह नियमित क्यों नहीं हो है जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छा हुआ फिर से आ गये. हम सोचे कि कहीं बंद ही न कर दी हो. :)

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative