बुधवार, मई 30, 2007

किस किस का अब ज़िक्र करें हम

कितनी चिट्ठों की चर्चायें कीं, पर किसने पढ़ी बताओ
और अगर न चर्चा हो तो कोई शोर नहीं होता है
फिर फिर कर यह प्रश्न उठा जब मैं चर्चा करने बैठा हूँ
क्यों मैं जाग जाग लिखता हूँ, जब सारा आलम सोता है

आठ दिनों में चार बार ही हो पाईं चिट्ठों की चर्चा
चर्चा की खातिर चिट्ठों में कोई बात नहीं है शायद
इधर उधर की छेड़ाखानी, कुछ शिकायतें, कुछ हंगामे
चिट्ठाकारी की लगता है सचमुच में हो रही कवायद

लिखा कभी था गया प्रशंसा कैसे चिट्ठों की होती है
वही चित्र दिख रहा आजकल, केवल झूठी तारीफ़ों का
बात बेतुकी गज़ल कहाती, आडंबर कहलाता चिन्तन
पत्ता भी जो देख न पाये, ज़िक्र किया करते शाखों का

पंकज ने नकाब उलटा है, देखो यहां असलियत कोई
दिल के दर्पण में दिखता है आंसू वाला गहरा रिश्ता
यौवन की अभिलाषा लेकर खड़े हुए हैं गीत सुनहरे
कठपुतली खुद एक पहेली और भला मैं क्या कह सकता

सभ्य आदमी और बहादुर भी ये रचनाकार बताये
गायत्री ने रिश्तों को दीवारों को रिसते देखा है
परमजीत को बस फ़रेब ही देते यहां मोहल्ले आये
विज का चित्र देखिये जाकर और बता आयें कैसा है

किससे वादा करती रचना, कौन राजधानी में आया
कितने गीत और लिखने हैं, प्रश्न एक फिर गया उठाया
हैं समीरजी, चाचाजी के साथ व्यस्त, बाकी सकुशल है
इसीलिये चर्चा का मैने आज यहाँ दायित्व निभाया


Post Comment

Post Comment

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत आभार और साधुवाद,राकेश भाई. बढ़िया चर्चा. आपकी चर्चा में प्रयुक्त मुखड़े के प्रसंग से मैं पूर्णतः सहमत हूँ. कई बार वाकई लगता है कि लोग चर्चा पढ़ते भी हैं कि नहीं. बिना टिप्पणियों के कैसे जान पायेंगे?

    उत्तर देंहटाएं
  2. बकिया करो ना करो, हमरा जरुर करना। नही तो आपके हस्पताल मे आकर हंगामा मचाएंगे। पूरी की पूरी सात सौ लेख, बाकायदा पढकर सुनाएंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. चर्चा लोग पढ़ते हैं। टिप्पणी भले न करें। लिखते रहें। हम पढ़ते हैं आज टिपिया भी रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. साधुवाद!! बढ़िया चर्चा रही।
    शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप की चर्चा पढ़ी । अपनी कविता का भी उलेख पाया । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ई लयो जी, हमहो भी टिप्पणी टिकाए देते हैं। ईब हमार ख्याल रखना, हर बार हमार बिलाग भी शामिल किए रखना!! ;) :D

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative