शनिवार, दिसंबर 19, 2009

आज की चर्चा में सिर्फ़ कार्टून चर्चा

 

आज की चर्चा में कुछ कार्टूनिस्ट साथियों के जलवे देखिये। इसके पहले की चिट्ठाचर्चा में कार्टून चर्चा भी देखिये अगर मन करे।

 

image जयपुर ,राजस्थान के चंद्र्शेखर हाडा आमतौर पर राजनीतिक विषयों पर और आमजीवन से जुड़े कार्टून बनाते हैं। एक माह से नये कार्टून नहीं आये। उनके कार्टूनों में से कुछ यहां दिये जा रहे हैं। image

  image

image
image image
image हरिओम तिवारी अपने बारे में खुद कहते हैं----बचपन से मास्सबों के कार्टून बना-बनाकर कर कक्षा में अव्वल आता रहा। जवानी में नौकरशाही में घुसने के दंद-फंद में उलझकर औंधे मुंह गिरा, उठा तो कार्टून जैसे चिरपिरी शक्ल निकल आई थी। गांव का एक चित्रकार दूसरे के घरों की दीवार खराब करता था। सो उससे प्रेरणा लेकर अपने घर की दीवारों पर कला के ख्वाब बुने, पिताजी की डांट से खुमारी टूटी। उनके कुछ कार्टून यहां देखिये। imageimage
image image
image image
image दिल्ली के काजल कुमार के कार्टून की जद में आम जीवन, राजनीति ,समाज सब कुछ आता है। वे बैंक में डाका डालने आये हुये डाकू को बैंक मैनेजर से सलाह भी दिलवाने का काम् कर देते हैं कभी कि उसे डाका डालने के बजाये लोन ले लेना चाहिये। कौन वापस करता है। image
image  image
image image
image अब देखिये इरफ़ान के कार्टून के रंग और ढंग image
image image
image image
image राजेश कुंमार दुबे के लिये 

कार्टून एक विधा से बढकर,व्यंग्य के सारथी के समान,एक सामाजिक आंदोलन है! देखिये उनके कुछ कार्टून!.

image
image image
image image
कीर्तेश भट्ट ने कोपेनहेगन सम्मेलन पर कई कार्टून बनाये हैं। देखिये कुछ कार्टून् image
image image
image image
image के एम मिश्राजी इलाहाबाद के हैं। उनके एनिमेशन कार्टून और साथ के लेख जानदार और मारूं टाइप होते हैं। देखिये कुछ इधर लिंक दिये हैं। पोस्ट् देखिये मजा आयेगा।

मंहगाई का तोड़ (व्यंग्य/कार्टून)

हमीं से मोहब्बत, हमीं से लड़ाई ……..(व्यंग्य/कार्टून)

मराठी वनमानुषों का हल्लाबोल । (व्यंग्य/कार्टून)

ये आग कब बुझेगी ? (व्यंग्य/कार्टून)


   

और अंत में: फ़िलहाल इतना ही। बाकी फ़िर कभी।

Post Comment

Post Comment

33 टिप्‍पणियां:

  1. सब कार्टून एक साथ.. दिन बन गया...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कार्टून केन्द्रित सम्पूर्ण चर्चा । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वैसे इतनी मेहनत की किसने? शुक्ला जी ने?

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब ! सारे कार्टून एक ही जगह पर पढने का मजा कुछ और था !

    उत्तर देंहटाएं
  5. @रंजन, मेहनत सब कार्टूनिस्ट साथियों की है। अब कुछ मेहनत कुश को करनी है और इस टेम्पलेट में यह व्यवस्था करनी है ताकि यह पता चल सके कि किसने चर्चा की। फ़िलहाल मैंने यहां बता दिया। ध्यान दिलाने के लिये शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. चिट्ठा चर्चा का एक और संग्रहणीय पन्ना ....शुक्ल जी साल के अंत में इससे सुंदर चर्चा तो हो ही नहीं सकती थी ....आभार सभी कार्टूनिस्टों से मुलाकात यादगार रहेगी

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी चर्चा सभी कार्टून एक जगह ? बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. अनूप जी,

    एक गुदगुदाती हुई सुबह के लिये धन्यवाद!

    सभी कार्टूनिस्ट की मेहनत और पैनी नज़र महौल तो हल्का करती है लेकिन चिंतन भी जगाती है।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  9. भा गई ये चर्चा और इसका अलहदापन ,....!

    उत्तर देंहटाएं
  10. काबिले तारीफ़ प्रयोग है ....निसंदेह..यदि आप साल भर के कुछ चुनिन्दा कार्टून इकठ्ठा कर सके तो नायाब हो जायेगी ....

    उत्तर देंहटाएं


  11. इन गुदगुदी में छिपा दर्द भुलाने को
    आनन्दम.. आनन्दम.. न कहें तो और क्या कहें ?

    उत्तर देंहटाएं
  12. bahut khoob!
    shukriya.
    saptah bhar ke ullekhniy cartoons ke zikr ke liye saptah mein ek din zarur diya jana chaheeye.

    उत्तर देंहटाएं
  13. इन्‍हें देख पढ़ कर
    आज का पढ़ने का
    कोटा पूरा हो गया।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी चर्चा...धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बाप रे! हिन्दी ब्लॉगरी में तो कार्टन भर भर कर कार्टूनिस्ट भरे पड़े हैं - एक से बढ़ कर एक। ...बहुत बढ़िया
    अनूप जी एक और 'ग़जब' की चर्चा। धन्यवाद।

    @बैंक में डाका डालने आये हुये डाकू को बैंक मैनेजर से सलाह भी दिलवाने का काम् कर देते हैं कभी कि उसे डाका डालने के बजाये लोन ले लेना चाहिये। कौन वापस करता है।

    अभी भी हँसे जा रहा हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छा संकलन कर लाए। बधाई और धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुकुल जी !
    गजबै कई डारेव !!
    सब एक से बढ़कर एक !!!
    '' को बड़ छोट कहत अपराधू '' !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. एक साथ इतने काटून देखकर काफी अच्‍छा लगा. वैसे तो प्रतिदिन अखबारों में काटून देखता था लेकिन आज एक साथ इतने काटून से दिल बाग बाग हो गया.

    उत्तर देंहटाएं
  19. महागुरुदेव,

    हंसते-हंसते हम खुद ही कॉर्टून लगने लग गए हैं...अनूप चर्चा के लिए आभार...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब!! आज तो लाटरी लग गई, इतने सारे बेहतरीन कार्टून एक साथ...सुन्दर चर्चा, अद्भुत कार्टून, अद्वितीय कार्टूनिस्ट. सभी बधाई के पात्र हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  21. बढिया कार्टून॥ पर इसमें कहीं चिठा-चर्चा का ज़िक्र नहीं है.... आखिर वहां भी तो मौज मस्ती होती है:)

    उत्तर देंहटाएं
  22. चलिए आज किसी ने सुध तो ली
    सभी शामिल महानुभावों को बधाइयां
    इसे भी देखिये
    http://ant-rang.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  23. बढ़िया कार्टून संग्रह. हिन्दी ब्लॉगिंग में उम्दा प्रतिभाएँ शामिल होती जा रही हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  24. यह भी खूब रही...
    कई कार्टून तो गज़ब की चुटकी काटते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  25. वाह ! हिन्‍दी ब्‍लागिंग कार्टूनों से अति समृद्ध है । इस चर्चा से यह साफतौर पर प्रमाणित होता है

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative