सोमवार, जनवरी 04, 2010

तीन बेवकूफ़ों के बहाने कुछ और बेवकूफ़ी की बातें

image आजकल आमिर खान की फ़िलिम थ्री इडियट् चर्चा में है। इस फ़िल्म के बारे में लोगों ने अलग-अलग मुद्दे को सामने रखते हुये पोस्टें लिखीं। जहां अभय तिवारी निर्देशक विधु विनोद् चोपड़ा को महीन चोट मारते हुये लेखक चेतन आनंद के साथ खड़े होते हैं वहीं रवीश कुमार इस फ़िलिम का लब्बो-लुआब पेश करते हुये इसे आमिर खान की ही फ़िल्म  तारे जमीं से कमतर फ़िलिम बताते हैं। विनीत कुमार की शिकायत इस फ़िलिम या लेखक के रोने-धोने से अलग है। उनको IB7 के एंकर शंकर चौधरी के उस अंदाज से शिकायत है जिस अंदाज में उन्होंने चेतन भगत की बेइज्जती खराब की। वे तो सीधे सीधे सवालै दाग देते हैं --क्‍या IBN 7 के एंकर संदीप चौधरी में भाषाई शऊर नहीं है? डा.अभिज्ञात का मानना है कि चेतन भगत को अपनी लड़ाई नैतिकता के आधार पर लड़ने के बजाय कोर्ट ले जाना चाहिये।

विनीत कुमार के लेख पर किन्ही अनामी पोल-खोल और विनीत् कुमार की ज्ञानवर्धक नोंक-झोंक् भी है। विनीत के इस लेख पर टीवी एंकर संदीप चौधरी के तीखे रवैये पर कार्टूनिस्ट काजल कुमार की महीन टिप्प्णी है:

कोई हैरानी नहीं हुई ये पढ़ कर. सभी चैनलों पर आज बस दो ही चीज़ें प्रचलित हैं - 1. पटापट तेज़ी से बोलना 2. बद्तमीज़ी से बोलना. नई पौध को लगता है कि यही है सफलता व महानता की कुंजी. लानत है.

अर्कजेश  तो किताब और फ़िलिम का तुलनात्मक अध्ययन भी कर दिये और कहते हैं कि किताब के मुकाबले फ़िलिम लचर है।

इस मामले में चेतन भगत का बयान उनके ब्लाग पर है।

इन लेखों के चुनिंदा अंश  यहां दिये जा रहे हैं। ऊपर का कार्टून  कीर्तीश भट्ट का है।

image थ्री इडियट्स मौजूदा सिस्टम से निकलने और घूम फिर कर वहीं पहुंच जाने की एक सामान्य फिल्म है। जिस तरह से तारे ज़मीन पर मज़ूबती से हमारे मानस पर चोट करती है और एक मकसद में बदल जाती है,उस तरह से थ्री इडियट्स नहीं कर पाती है। चंद दोस्तों की कहानियों के ज़रिये गढ़े गए भावुकता के क्षण सामूहिक बनते तो हैं लेकिन दर्शकों को बांधने के लिए,न कि सोचने के लिए मजबूर करने के लिए। फिल्मों के तमाम भावुक क्षण खुद ही अपने बंधनों से आजाद हो जाते हैं। जो सहपाठी आत्महत्या करता है उसका प्लॉट किसी मकसद में नहीं बदल पाता। दफनाने के साथ उसकी कहानी खतम हो जाती है। कहानी कालेज में तीन मसखरों की हो जाती है जो इस सिस्टम को उल्लू बनाने का रास्ता निकालने में माहिर हैं। ऐसे माहिर और प्रतिभाशाली बदमाश हर कालेज में मिल जाते हैं।
सिस्टम के थ्री इटियॉटिक बागी रवीश कुमार
   
image फ़िल्मी दुनिया में लेखक सबसे निरीह जानवर रहा है। सबसे पहले डाका उसके पैसों और नाम पर ही पड़ता है। यहाँ हर निर्देशक को अपने नाम के पहले 'रिटेन एन्ड डाइरेक्टेड बाइ' देखने का शौक़ है। इस दुनिया ने तो बड़े-बड़े फ़िल्मों, बड़ी-बड़ी किताबों पर डाके डाले और किसी को कोई आभार तक नहीं दिया, छोटे-मोटे लेखक तो रोज़ ही मारे जाते हैं। चोपड़ा जी ने कम से कम किताब के अधिकार खरीदे, पैसे भी दिये, और भले आख़िर में, पर नाम दे तो दिया। चेतन भगत को उन के पैर छू कर धन्यवाद देना चाहिये, उन्होने धन्यवाद नहीं दिया इसीलिए चोपड़ा जी को क्रोध आ गया, नहीं तो वो देवता आदमी हैं।



चेतन भगत शुड बी थैंकफ़ुल अभय तिवारी
image सवाल ये कि क्या तटस्थ होने या ऑडिएंस को दिखलाने के लिए भाषाई स्तर पर अपने को ख़त्म कर लेना ज़रूरी है? ऐसा लोगों को वाजिब सम्मान देते हुए नहीं किया जा सकता क्या? ये ज़रूरी है कि एंकर हर शो में ये साबित करे कि वो एंकर है और उससे बात करनेवाले जो भी लोग हैं, उनसे नीचे की कतार में खड़े हैं। देखा-देखी में पूरी की पूरी पीढ़ी तटस्थ होने का मतलब भाषाई स्तर पर लोगों की उतार देना समझा करेगी। लोगों को सम्मान देने और भाषाई स्तर पर सभ्य होने का हुनर क्यों खत्म कर रहे हैं हमारे एंकर, जरा सोचिए।

क्‍या IBN 7 के एंकर संदीप चौधरी में भाषाई शऊर नहीं है? विनीत कुमार
   

image फिलहाल चेतन भगत की जो लड़ाई है उसका नैतिकता से ताल्लुक नहीं है बल्कि मामला व्यावसायिक लाभ में हिस्सेदारी का है। अच्छा होगा कि भगत इसे कानूनी तौर पर हल करें। ढिंढोरा पीटकर तो वे अपनी भद्द ही पिटायेंगे वरना फिल्म के नाम के तीन में एक वे स्वयं साबित होंगे बाकी दो विधु विनोद चोपड़ा और राजकुमार हिरानी तो हैं ही।

3 इडियट्सः चेतन भगत और दो अन्य

डा.अभिज्ञात
image चेतन भगत को फिल्‍म के क्रेडिट हिस्‍से में वाजिब श्रेय मिला या नहीं यह तो फाइव प्‍वाइंट समवन देखने वाला और किताब पढने वाला मनुष्‍य समझ ही जायेगा । इसमें कोई आईआईटी बुद्धि या पटकथा लेखन के कौशल की कतई आवश्‍यकता नहीं है । और यह भी कि सबको पहले से ही पता था कि यह फिल्‍म चेतन भगत के उपन्‍यास पर बन रही है । जिनको पता नहीं था अब पता हो गया है ।
अंत में यदि पूछा जाय कि फिल्‍म देखने और उपन्‍यास पढने में ज्‍यादा मजेदार क्‍या है तो बेहिचक मैं यह कहूंगा कि फाइव प्‍वाइंट समवन के मुकाबले 3 इडियट्स बहुत कमजोर है । वजह : फिल्‍म हमें सिर्फ मनोरंजन देती है जबकि उपन्‍यास मनोरंजन से आगे भी कुछ देता है ।

3 ईडियट्स बनाम फाइव प्‍वाइंट समवन
अर्कजेश
image हाल ही में प्रदर्शित फिल्म '3 इडियट्स' की कहानी को लेकर विवाद खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। लेखक चेतन भगत का कहना है कि यह फिल्म उनकी किताब 'फाइव प्वाइंट समवन' की कॉपी है, जबकि फिल्मकार विधु विनोद चोपड़ा इससे पूरी तरह सहमत नहीं है। भगत ने अपने ब्लॉग पर पूरे मामले पर विस्तार से लिखा है।

चेतन भगत कह रहे हैं 'पढ़ो तब बोलो..'
गिरीन्द्र नाथ झा
image साल के शुरु में आपने भी कुछ संकल्प लिये होंगे। पूरे हों या न हों संक्ल्प किये तो जा ही सकते हैं। गौतम राजरिशी के संकल्प देखिये। शायद आपको भी कुछ संकल्प लेने का मन करे।

- हमब्लौगरों{जैसे हमसाया, हमसफर} को सप्ताह में बस एक पोस्ट लिखने के लिये तैयार करवाना है या गुगल वालों को कुछ ऐसी बंदिश लगाने का निवेदन करना है कि हर ब्लौग पर सात दिन से पहले कोई नयी पोस्ट लग ही न पाये।
- बेवजह यत्र-तत्र-सर्वत्र टिप्पणी देने में कोताही बरतना है अब से और हर दूसरी रचनाओं पर कोई झूठी वाह-वाही नहीं देनी है।
- डा० अनुराग , गिरिजेश राव और हिमांशु की पुरानी पोस्टों के लिये वक्त निकालना है।
- अनुनाद, सबद, वैतागवाड़ी, जिद्दी धुन, आलोचक की सब पोस्टों को शुरु से पढ़ना है।
- किशोर चौधरी, नीरा, संजय व्यास, राहुल और कुश को प्रेरित करना है कि तनिक जल्दी-जल्दी आया करें। अरे हाँ, अपूर्व और रुपम को भी!
- ब्लौग पे इधर-उधर ग़ज़लों और कविताओं के संग हो रहे अत्याचार{emotional or otherwise} को बर्दाश्त नहीं करना है। विशेष कर ग़ज़लों के संग।
- जैसा कि गुरुजी कहते हैं व्यर्थ के ब्लौग-विवादों में अपनी ऊर्जा और अपने बेशकीमति समय को नष्ट नहीं करना है।
- अपने ब्लौग के साइड-बार में अभी तक पढ़े गये कुछ ब्लौगरों द्वारा लिखे गये पसंदीदा पोस्टों का लिंक रखना है।

image अविनाश वाचस्पतिजी ने अपना नाम पुरस्कार सूची से अलग करने का आग्रह करते हुये लिखा है 

मैं अपनी संपूर्ण विनम्रता के साथ हाथ जोड़कर निवेदन कर रहा हूं कि मेरा नाम को किसी ऐसे सम्‍मान में शामिल होने के लिए न जोड़ा जाये तो बेहतर है। इसे मेरा घमंड भी न समझा जाए क्‍योंकि यह मेरा घमंड है भी नहीं। मैं तो बिना किसी पुरस्‍कार और सम्‍मान की अपेक्षा किए बिना हिन्‍दी और हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के विकास के लिए जीवनपर्यंत सक्रिय रहना चाहूंगा और ऐसी किसी भी प्रतियोगिता से दूर ही भला हूं।

 

  1. ब्लॉग जगत में छाया 3 इडियट्स विवाद :बड़ा स्वाभाविक सीन लग रहा हैimage
  2. हिन्दी भाषा को समृद्ध करने की अपील हो, तो टिप्पणी देने के मामले में पैमाना रखें जनाब: पैमाना रखा जायेगा एकाध पैमाने के बाद ठंड भरे इस मौसम से 5 जनवरी के बाद ही थोडी राहत मिल पाएगी !!:  तब तक ब्लाग जगत की गर्मी से काम चलायें
  3. जरा ये कविता भी पढ़ कर देखें!!!: अच्छा पढियेगा बाद में पहले टिपिया दीजिये।
  4. गत वर्ष की शुभकामनायें ---देखिये कितनी काम आई ---: अरे साल निकाल दिया भाई
  5. क्‍या IBN 7 के एंकर संदीप चौधरी में भाषाई शऊर नहीं है?: भाषाई शऊर से एंकरिंग प्रभावित होती है भाई!
  6. टांक लेने दे उसे मोहब्बत के पैरहन पर इश्क़ का बटन ......!!: बाद में तो उखड़ ही जाना है उसे।
  7. ट्रेन हादसों का जिम्मेदार कौन ??: कह नहीं सकते, ज्ञान जी के ब्लाग पर कमेंट बन्द हैं।
  8. “टिप्पणी के द्वार ही बन्द कर दिए!” (चर्चा मंच): पोस्ट् के फ़ाटक खोलने के लिये।
  9. सुबह चांदनी मिली: रोशनी के गले में बांहें डालकर चल दी।image
  10. पत्नी मायके से नहीं लौटती, क्या मैं तलाक ले सकता हूँ?: हां ले लो अगर किसी और मिल जाये वैसे मिलेगा नहीं आसानी से।
  11. शादी के नाम पर खरीदी-बेची जाती लड़कियां ??:और हमारे पहरुए आँखों पर पट्टी बांध कर पड़े हुए हैं
  12. यह है "आज की नारी", आप कौन से जमाने में रहते हैं जनाब ?. . . . . . . . . . . . . . . .प्रवीण शाह।: हम रहे चाहे जिस जमाने  में लेकिन नारी को प्राचीन काल से निकलने नहीं देंगे।
  13. खलनायक जब हंसता है और भयावह लगता है: और उसी समय मुआ टीवी वाला उसकी फोटो खैंच लेता है।
  14. देखा कैसे चल दिया, बिना कहे यह साल:बरसों बीते देखते, इसका ऐसा हाल...
  15. चिठियाना-टिपियाना संवाद: शुरु हुये हैं अभी तो चलेंगे!
  16. इलाहाबाद में अमरूद के लिए तरसने का मजा… !?!: ये मजा है भैये कि सजा?
  17. कार्पोरेट कल्चर से समृद्धि लाने का पाखंड: चालू  आहे।

 

और अंत में:कल ज्ञानजी ने ब्लाग जगत के बारे में अपनी बात कहते हुये लिखा

 ऐसे में हिन्दी ब्लॉगरी को बढ़ावा देने का श्री समीरलाल का अभियानात्मक प्रवचन मुझे पसन्द नहीं आया। यह रेटोरिक (rhetoric) बहुत चलता है हिन्दी जगत में।

पता नहीं ज्ञानजी को यह प्रवचन पसन्द क्यों नहीं आया। समीरलाल जी ऐसा तो बहुत दिनों से करते आ रहे हैं। वे हिन्दी के सच्चे सेवक हैं और हिन्दी की सेवा का कोई मौका गंवाते नहीं। चिट्ठाचर्चा में भी नये चिट्ठों की सूचना वाली मेल में उनकी तरफ़ से अनुरोध रहता है

“आप हिंदी में लिखते हैं। अच्छा लगता है। मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं, इस निवेदन के साथ कि नए लोगों को जोड़ें, पुरानों को प्रोत्साहित करें - यही हिंदी चिट्ठाजगत की सच्ची सेवा है। एक नया हिंदी चिट्ठा किसी नए व्यक्ति से भी शुरू करवाएँ और हिंदी चिट्ठों की संख्या बढ़ाने और विविधता प्रदान करने में योगदान करें।
शुभकामनाएँ! - समीर लाल  (उड़न तश्तरी)

समीरलालजी अपने इसी सेवा भाव के चलते  उस स्थिति को प्राप्त हो गये हैं जिसके लिये कहा जाता है वे व्यक्ति नहीं संस्था हैं।

मजे की बात यह रही कि ज्ञानजी ने समीरलाल जी के जिस् प्रवचन के प्रति नापसन्दगी व्यक्त की उसके आगे के अध्याय समीरजी उनको मेल से टिका गये जिसे ज्ञानजी ने अपनी पोस्ट पर स्थापित कर दिया।

चिट्ठाचर्चा को गाड़ देने की बात ज्ञानजी ने कही उसके संबंध में एक पोस्ट ध्यान आई मुझे। इस पर टिपियाते हुये रविरतलामी जी ने मुझसे आग्रह किया था:

imageफुरसतिया से एक करबद्ध प्रार्थना है. काहे को वे अपनी ऊर्जा चिट्ठा चर्चा में वेस्ट करते हैं. उसके बदले वे नित्य इसी तरह की धुँआधार पोस्ट लिखा करें.

इसके बाद की टिप्पणियां पोस्ट् में देख सकते हैं। आज रविरतलाजी चिट्ठाचर्चा के नियमित चर्चाकार हैं।तो क्या ज्ञानजी का चिट्ठाचर्चा बंद करने का आग्रह यह संकेत है कि निकट भविष्य में वे चिट्ठाचर्चा करते पाये जायेंगे?

फ़िलहाल इतना ही। आपका यह हफ़्ता मजे में बीते} दिन शुभ हो। आप मुस्कराते रहें, खिलखिलाते रहें।

Post Comment

Post Comment

25 टिप्‍पणियां:

  1. एक ही जगह कुछ बेहतरीन पोस्ट का संग्रह बहुत अच्छे ढंग से प्रस्तुत किया आपने बढ़िया प्रस्तुति धन्यवाद जी!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरे कार्टूनों को यूं याद रखने के लिए हार्दिक आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  3. .
    .
    .
    सुन्दर चर्चा,
    धन्यवाद व आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. चर्चा में यह मुद्दा भी जरूरी था, सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनूप जी!
    इशारों ही इशारों मे सभी कुछ तो कह दिया आपने आज की चर्चा में।
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर रचना
    बहुत बहुत बधाई .....

    उत्तर देंहटाएं
  7. यही उत्तम और सामयिक चर्चा है.
    - सुलभ

    उत्तर देंहटाएं
  8. हमने फ़िल्म अभी नहीं देखी. अब देखनी ही पडेगी. अच्छी चर्चा. गौतम जी के संकल्प काम के हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ये तीन इडियट अपने स्टंटों से सब को इडियट बना रहे हैं। वर्ना इतने ब्लागर इडियट पर लिखते क्या??? :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. हम भला किसी ईडियट की चर्चा में क्यों पडे? वैसे ही ब्लॉग जगत में इतने पचडे होते रहते हैं, उन्हें झेल लें, यही बहुत है।
    --------
    विश्व का सबसे शक्तिशली सुपर कम्प्यूटर।
    2009 के ब्लागर्स सम्मान हेतु ऑनलाइन नामांकन चालू है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. इत्ती ठण्ड में इस लाइनने के लिए सौ मार्क्स
    "कह नहीं सकते, ज्ञान जी के ब्लाग पर कमेंट बन्द हैं।"

    उत्तर देंहटाएं
  12. चर्चा अच्छी रही।
    थोडा हंस लेने से जिंदगी के तनाव कम होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. संकलन तो बढ़िया है ही, अभय जी के कान का चित्र विशेष तौर पर पसंद आया. :०)

    आजकल चर्चा सजावट में टेबिल टैग का जबर्दस्त उपयोग चल रहा है. विंडोज़ लाइव राइटर में कैसे जमाते हैं मुझे पता नहीं, पर रॉ एचटीएमएल में अगर टेबिल टैग के साथ cellpadding="5" जोड़ दें तो ये शब्दों की दीवार के साथ जो सटा-सटी है वो दूर हो जाएगी और ज्यादा सुंदर दिखने लगेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आज की चर्चा मीडिया केंद्रित रही ...बहुत अच्छी लगी !
    वहाँ भी लंबा सा टीप आया सोचा यहाँ भी चिपका दूँ !


    मेरी बात संक्षेप में !
    १-विनीत को अपनी पसंद और दूसरे को अपनी पसंद रखने का पूरा हक है |
    २-संदीप का कार्यक्रम काफी समय से देखता रहा हूँ ……उनकी या ऐसे किसी एंकर का अचानक इतना लाउड हो जाना कभी कभी सीमा से ऊपर हो जाता है तो मुझे भी आश्चर्य होता है !
    ३- कभी कभी न्यूज़ चैनल पूर्वाग्रह से ग्रस्त होते हैं ….सो अपने गेस्ट से उसी रूप में ही , उसी भाषा में नंगा करना शुरू कर देते हैं !
    ४- हिन्दी भाषा की पत्रकारिता और पत्रकार अधिकांशतः मुझे ब्लैकमेलर समझ में आते हैं सो वही उनके व्यक्तित्व में भी दिखलाई पड़ता है ….जोकि इंग्लिश के बजाय हिन्दी में ज्यादा है !(कोई इंग्लिश का दास कहे …वह भी स्वीकार !)
    ५-टी आर पी के मामले में मैं पूरी तरह से विनीत से सहमत हूँ …..कि आखिर इसके अर्थशाश्त्र पर आधारित कोई चैनल कैसे समाज के बदलाव की बात कर सकता है ? ….सो यह असंभव ?
    ५-आई बी एन -७ के बारे में पोल-खोल की बात से सहमति ……कि यह चैनल ही है लाउड !!!
    ६- सारे पुरस्कार के तरीके ठीक नहीं …सो पत्रकारिता के कैसे पाक-साफ़ हो सकते हैं?
    ७-एन डी टी वी की चाल अलग है….पर उसके बावजूद मुझे रवीश और कुछ और एंकर पसंद हैं भाई !
    ८- समस्या की जद यही समझ आती है कि हम एक व्यक्ति की किसी बात से असहमति का स्थाई अर्थ उससे हमेशा की असहमति मान लेते हैं !! और इसीलिये अब तक खेमे बन चुके हैं …वही यहाँ नजर आ रहा है तो इसमें कैसा आश्चर्य?

    आज के लिए इत्ता ही !!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. इतने दिनों बाद दिखे भी आप और अभी-अभी सुन भी रहा था आपको...हलकान विद्रोही की मस्त कथा कि भीषण बर्फबारी ने मोबाइल का सिगनल गुम कर दिया है।

    कैसी रही राजस्थान यात्रा? अपना मूडी कुश कैसा है?

    उत्तर देंहटाएं
  16. "ब्लॉग जगत में छाया 3 इडियट्स विवाद :बड़ा स्वाभाविक सीन लग रहा है"

    जय हो !

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुकुल जी
    आपकी चर्चा देखी पर लगता है आप केवल कुछ ख़ास लोगों की
    चर्चा करने से कतराते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस विषय पर हमने भी लिखा था हजूर
    कोई बुराई हो तोउ बताइयेगा जी

    उत्तर देंहटाएं
  19. चिठ्ठाचर्चा देखकर लगता है कि इतनी मेहनत अखबारों के पेज मेकर किया करते तो..

    उत्तर देंहटाएं
  20. फ़ाइव पोंइट समवन पढ़ने के बाद 3 ईडियट्स फ़ीकी लगती है। इस लिए हमारा समर्थन चेतन को जाता है। बकिया चर्चा बढ़िया रही

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही उम्दा चिट्ठा चर्चा अनूप जी।

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative