शनिवार, जून 13, 2009

शनीचरी चर्चा केवल एकलाईना


  1. छोटे वस्त्र: दुर्व्यवहार करने का न्योता ! : मोहल्ले की खास पेशकश

  2. ब्लागिंग नहीं करोगे तो ये तो होगा ही :दिन दहाड़े ठग लेगा कोई ताऊ का चेला

  3. श्रीमान-श्रीमती के बीच नारीवादी विमर्श: चालू आहे

  4. निरापद लेखन:की तरफ़ अग्रसर हुये गोलू पाण्डेय

  5. घुना हुआ ''तीसरा खम्‍भा'': महाशक्ति के हत्थे चढ़ा

  6. स्वप्नलोक में फ़िर स्वागत है !:फ़ूलमाला भी तो लाओ

  7. हम वापिस आ गए :क्या सोच के आये थे- ब्लागर खुश होंगे, टिप्पणियां देंगे?

  8. ये आधुनिकता है या अश्लीलता:अपनी राय भेजिये एस.एम.एस. से

  9. मां से बडा कोन ?:किसके बस की है ये पैमाइश?

  10. और तुम मुस्कराती हो कंटीली टहनियों में....:किसी अधखिले फ़ूल को धकियाते हुये

  11. वे एहसानों का हिसाब रखते हैं.. : पक्के बहीखाते में

Post Comment

Post Comment

6 टिप्‍पणियां:

  1. शनीचरी चर्चा केवल एकलाईना
    देखा हमने भी आईना

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमको का पता था हमारी फरमाइश इतनी जल्दी पूरी हो जायेगी
    हमने तो पिछली पोस्ट पर टिप्पडी मजाक में की थी :)
    वीनस केसरी

    उत्तर देंहटाएं
  3. बात तो सही कही आपने फ़ूलमाला तो भूल ही गए :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनुप जी आपकी लगन को सलाम.. चर्चा मिस नहीं होने देते..

    उत्तर देंहटाएं
  5. देर से आये हैं पढ़ने इस एक लाइना को

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative