सोमवार, जून 01, 2009

घड़ी किन किन कारणों से रुकती /बिगड़ती है : घडीसाज़ के औज़ार






आधुनिकता जिस क्रम से जीवन में पाँव पसारती जा रही है, रोगों का अनुपात उसी क्रम में नित नूतन नामों प्रकारों से बढ़ता जा रहा है ऐसा तर्क दिया जा सकता है, दिया भी जाता है कि पुराने समय में तरह तरह के रोग लोगों को काल के गाल में ले जाते थे, इतने संसाधन उपचार पद्धतियाँ विकसित नहीं थी, तो आज की तुलना में कल बेहतर कैसे हुआ? यह सच है कि पहले ऐसी उपचार पद्धतियाँ भले विकसित रही हों और भले हजारों की संख्या में मरने वाला अनुपात अधिक रहा हो, किंतु यह मृत्युदर का अनुपात महामारी आदि के कारण अधिक होता था, कि रोगों के साथ जीते चले जाने वाले जीवनक्रम के परिणाम स्वरूप नई चिकित्सा पद्धतियों संसाधनों ने मृत्युदर गिरा दी हो, बड़े विकराल रोगों से विजय पा ली हो, किंतु यह सत्य है कि आज का समय मनुष्य को अधिक रोग ग्रस्त, अल्पायु से ही देह वहाँ मन की पीडाओं से समझौता कर चलने के क्रम में उलझा हुआ है वहाँ एक रोग को दबाते ही दूसरे का प्रादुर्भाव अधिक विकराल रूपाकार में प्रकट होता है


इसके कारणों की मीमांसा में यों तो बड़ा धैर्य समय तथा लगन चाहिए किंतु यदि इसे एक वाक्य में परिभाषित करना हो तो यही कहूंगी कि घड़ी बिगड़ जाने पर उसके सुधार के लिए घडीसाज़ उसे सुधार कर चालू हालत में ला सकता है, परन्तु हर घड़ी पहनने वाला यदि घड़ी किन किन कारणों से रुकती /बिगड़ती है ( जैसे पानी, आघात या अग्नि का संपर्क या बैटरी का क्षय ) आदि को जान ले बचाव तथा सही ढंग वहाँ विधि से उसका उपयोग करे तो उसे घड़ी खरीदते समय घडीसाज़ के औज़ार साथ ले कर घूमना पड़े बस यही हम भूल गए हैं

कल तम्बाकू निषेध दिवस था इस विषय में लिखने को तो बहुत है, (सोचती हूँ स्वास्थ्य विषयक चिट्ठा भी शुरू करुँ ) किंतु अभी मन बनाया कि आज की चर्चा उन ब्लोग्गर्ज़ को समर्पित करुँ जो हिन्दी में अपने अभियान द्वारा जनकल्याण का महती कार्य कर रहे हैं एलोपैथी, होमियोपैथी आयुर्वेद - इन तीनों उपचार पद्धतियों पर निरंतर सहायक सामग्री द्वारा हिन्दी के ये ब्लोगर्ज़ लिख रहे हैं रोगों से निदान के उपाय बता रहे हैं किसी भी सहायक जानकारी के लिए आप इन से सीधे संपर्क कर सकते हैं

ये रहे उनके सद्य: प्रकाशित विषयों के लिंक्स -








इसके बावजूद तंबाकू का सेवन करने वाले, धूम्रपान करने वाले खोपड़ी से खाली हैं....



आर. अनुराधा






# “पता है, स्मोकिंग दरअसल आप नहीं करते। सिगरेट ही स्मोकिंग करती है। आप तो सिर्फ सिगरेट का छोड़ा हुआ धुंआ पीते हैं।

# “अब यह पूरी
तरह
साबित हो चुका है कि सिगरेट दुनिया में आंकड़ों के होने का एक प्रमुख कारण है।






स्थमा के रोगी का ई०टी०जी० परीक्षण से प्राप्त डाटा और निदान पश्चात की गयी चिकित्सा

डॉ डी. बी. बाजपेयी








तम्बाकू सेवन से प्रतिवर्ष ९० लाख लोगों की होती है मौत

दुनिया में ८० प्रतिशत है तम्बाकू के लती

राहुल




होम्योपैथी-नई सोच/नई दिशायें

डॉ. प्रभात टन्डन

चन्द हफ्तों के अन्दर ही विश्व होम्योपैथी समुदाय का नेटवर्क दुनिया भर के ५४ देशों से ७५० होम्योपैथिक चिकित्सकों , छात्रों और होम्योपैथिक चिकित्सा पद्दति के प्रति रुझान रखने वालों के बीच लोकप्रिय हो चुका है कम्यूनिटी का मुख्य उद्देशय होम्योपैथिक चिकित्सकों के बीच समन्वय और सकारात्मक अनुभवों का आदान प्रदान करना है

होम्योपैथिक वर्ल्ड कम्यूनिटी मे शामिल होने केलिये http://www.homeopathyworl

dcommunity.com पर चटका लगायें


My favourite Homeopathy Blogs & Web Sites




तम्बाकू उत्पादनों पर बड़ी एवं व्यापक चित्रमय चेतावनियाँ अधिक प्रभावकारी


तम्बाकू का प्रयोग , वैश्विक स्तर पर, रोग और मृत्यु का प्रमुख, परन्तु रोका जा सकने वाला कारण है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, तम्बाकू प्रयोग के कारण, दुनिया भर में ५४ लाख लोग प्रति वर्ष अपनी जान गंवाते हैं। इनमें से लाख मौतें तो केवल भारत में ही होती हैं। प्रति दिन, हमारे देश के २५०० व्यक्ति तम्बाकू की वजह से मृत्यु का शिकार होते हैं। मुख के कैंसर के सबसे अधिक रोगी भारत में पाये जाते हैं तथा ९०% मुंह का कैंसर तम्बाकू जनित होता है. हमारे देश में ४०% कैंसर तम्बाकू के प्रयोग के कारण ही होते हैं।





नाक में धुल या धुआं या कोई सुगन्धित महक , या ऐ।सी में बैठता हूँ तो मेरा सांस फूलने लगती है

डॉ रूपेश श्रीवास्तव

कृपया मुझे मेरी बीमारी के बारें में बतायें की मुझे क्या उपचार करना चाहिए, जिससे में हमेसा के लिए मुक्त हो जाऊं | मुझे पता नहीं चल रहा है की मुझे ऐसा क्यों होता है , जब भी मेरे नाक में धुल या धुआं या कोई सुगन्धित महक , या .सी में बैठता हूँ तो मेरा सांस फूलने लगती है और साँसों से घर घर की आवाज़ आने लगती है, ज्यादा काम करने से भी मेरी सांस फूलने लगती है सीधी पर चड़ने से भी मेरी सांस फूलने लगती है | या मुझे ठण्ड लगती है या जब मौसम में बदलाब आता है तब | ऐसा में - साल से झेल रहा हूँ





रक्तज अर्श या खुनी बवासीर (Bleeding Piles)

दि आप किसी शारिरीक या मानसिक बिमारी से ग्रस्त है और एलोपेथि दवाईयाँ खा खा कर थक गये हैं, तो बस आप मुझे एक मेल करें

वैद्य संजय राणा





कफ दोष के रोगियों में कैल्सियम की अधिकता : High Calcium level in Kaphha Dosha Patients ; ई०टी०जी० तकनीक ने खोज निकाला : Latest discovery of the ETG टेक्नोलॉजी




(फ़ेलोपियन टुयुब ब्लोकेज को ठीक करने के अयुर्वेदिक तरीके) Steps to unblock Fallopian tubes blockage in आयुर्वेद


आयुर्वेद प्राचीन समय से असाध्य रोगों मे बहुत ही असरकारी रही है स्त्रियों के बन्ध्यत्व मे टयुब बलोकेज एक मुख्य कारण है , जिसका कोई भी इलाज मोडरन चिकित्सा प्रणाली मे सफ़ल नही है , हालांकि शल्य कर्म का सहारा लिया जा सकता है किन्तु उसमे मे भी कोई गारन्टी नही होती कि शल्य कर्म से ट्युब ब्लोकेज ठीक हो जाए। ट्युब ब्लोकेज क्यों होती है ----इसके व्यापक कारण होते है मुख्य रुप से निम्न्लिखित कारण है जन्मजात आघात के कारण , इन्फ़ेक्सन के कारण .केल्सियम जमा होने के कारण पेलविक शोथ जन्य रोगों के कारण डिम्ब वाहिनि मे अर्बुद( out growth, cysts cancer etc) होने के कारण आयुर्वेद चिकित्सा कैसे ब्लोकेज को ठीक करती है --- फ़ेलोपियन ट्युब के शोथ को ठीक करके। इन्फ़ेक्सन को दूर करके गर्भाशयगत अंगो का विकास करके और उनको स्वस्थ करके। , ट्युब मे हुई व्रणवस्तु(scar ) को मृदु करके उसको दुर करता है और वाहिनि को स्निग्ध करता है





बिना किसी बीमारी के भी हो सकता है दांतों में गैप !

डॉ. प्रवीण चोपड़ा

जो भी कहें, दांतों के बीच गैप दिखता तो भद्दा ही है ---सब से पहले जिस से भी बात की जा रही हो उस का पहला ध्यान आप के अगले दांतों की तरफ़ ही जाता है। वैसे, कुछ डैंटिस्ट इस तरह के गैप का इलाज पोरसलीन लैमीनेट्स ( porcelain laminates or veneers) से भी करते हैं----यह महंगा विकल्प तो है ही , इस के साथ ही इसे किसी अनुभवी डैंटिस्ट से ही करवाना चाहिये जो कि पहले इस तरह का काम करते रहे हों। लेकिन, मैंने बहुत से लोग ऐसे भी देखे हैं कि जिन के दांतों में गैप इस महिला के दांतों जितना होता है या इस से ज़्यादा लेकिन वे किसी झोलाछाप दांतों के कारीगर की बातों में आकर बेकार सा फिक्स दांत इस गैप में लगवा तो लेते हैं, लेकिन फिर इस तरह के फिक्स दांत से क्या होता है, वह तो आप कल देख-सुन ही चुके हैं !





खूब खाएँ मौसमी सब्जियाँ

डाइट विशेषज्ञों की भी यही राय है, हमे मौसमी सब्जियां खानी चाहिए| क्योकि, मौसमी सब्जियां ना केवल खनिज तत्वों से भरपूर होती हैं, बल्कि इनमें मौसम की प्रतिकूलताओं से लडने की क्षमता होती है। मौसम के मुताबिक सब्जियां शरीर को ठंडक ओर गरमाहट देती है। डाइट विशेषज्ञों की राय में रोज विटामिन और खनिज तत्वों को लेने का सबसे बेहतरीन तरीका मौसमी सब्जियां है।




मेदोदोष(Obesity)मे योगत्रयम्

आज के आधुनिक युग मे जहाँ हमने दवाईयों से कई बीमारीयों पर फतह पायी है, वही इनके साईड-इफ़ेक्ट के कारण कई नयी बीमारीयों से ग्रस्त भी हुए हैं, हमारा यह प्रयास होगा कि आप तक ऐसे अचूक तरीके ले आयें ताकि आप बिना किसी अतिरिक्त हानि के स्वास्थ्य लाभ कर सकें।


अकल की दाढ़ का पंगा

डॉ. प्रवीण चोपड़ा

मेरे विचार से एलोपैथी के माध्यम से स्वास्थ्य समबन्धी विषयों पर हिन्दी में ब्लॉग लिखने वाले पहले व्यक्ति डॉ. चोपड़ा ही हैं

इनके ब्लॉग पर विषयों का वैविध्य देखना हो तो यह निम्न सूची देखें-




सेहत हज़ार नेमत कही गयी है आप का और आपके अपनों का जीवन सुखमय बीते, इन शुभ कामनाओं के साथ यहीं विराम लेती हूँ
धन्यवाद नमस्ते

(सबसे ऊपर का चित्र बीड़ी बुझईले से साभार )




Post Comment

Post Comment

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही महत्वपूर्ण विषय आधारित चर्चा......आभार कि आपके माध्यम से बहुत सारे उपयोगी लिंक प्राप्त हुए।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. चिट्ठाचर्चा पर गत सप्ताह व इस बार भी पोस्ट को पब्लिश करने में बहुत कठिनाई आ रही है, गत सप्ताह पोस्ट लिखी जाने के बाद ५-६ घंटे की माथापच्ची के बाद भी पोस्ट नहीं हो पाई तो दोपहर में अनूप जी उसे पब्लिश कर पाए. लगभग वही स्थिति इस बार भी हुई. रात्रि २ बजे पोस्ट तैयार हो जाने, सेव हो जाने के पश्चात ऐसी अड़ी कि पब्लिश होने का नाम ही न ले. अनूप जी प्रवास पर थे, तो अंत में संजय बेंगाणी जी ने उसे अपने कम्प्युटर से पोस्ट करने में सफलता पाई. तदर्थ उनकी आभारी हूँ. अब एडिट करने का जोखिम नहीं लेना चाहती, सो, परिवर्तन यहीं टिप्पणी में दे रही हूँ. कष्ट के लिए खेद है.



    कृपया पहले व दूसरे पैरा की पंक्तियों को सुधार कर यों पढें -
    (३ स्थान पर "वहाँ" की अपेक्षा "व" अपेक्षित है)

    - अल्पायु से ही देह व मन की पीडाओं
    - क्रम में उलझा हुआ है व एक रोग को दबाते
    - तथा सही ढंग व विधि से उसका उपयोग करे



    जहाँ लिंक्स के शब्द गुंथे हुए-से हैं, उन्हें इस प्रकार पढ़ें -


    - अस्थमा के रोगी का ई०टी०जी० परीक्षण से प्राप्त डाटा और निदान पश्चात की गयी चिकित्सा
    डॉ डी. बी. बाजपेयी



    - होम्योपैथी-नई सोच/नई दिशायें
    डॉ. प्रभात टन्डन



    - कफ दोष के रोगियों में कैल्सियम की अधिकता : High Calcium level in Kaphha Dosha Patients ; ई०टी०जी० तकनीक ने खोज निकाला : Latest discovery of the ETG टेक्नोलॉजी

    उत्तर देंहटाएं
  4. विषयाधारित चर्चा एक अच्छा प्रयोग है. इस प्रयोग को आगे बढाने के लिये मेरा अनुमोदन स्वीकार करें.

    स्वास्थ्य एक महत्वपूर्ण विषय है और चिट्ठाकार इस में काफी कुछ योगदान दे सकते हैं, अत: इस विषय को चर्चा द्वारा प्रस्तुत करने के लिये आभार!!

    सस्नेह -- शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
    http://www.Sarathi.info

    उत्तर देंहटाएं
  5. "इसके कारणों की मीमांसा में यों तो बड़ा धैर्य व समय तथा लगन चाहिए ..." और इसका परिचय आपने इस सारगर्भित चर्चा में दे दिया है। इससे चिकित्सा जगत की ब्लाग गतिविधियों की भी जानकारी मिली। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है सेहत हज़ार नियामत... आज की चर्चा में चिकित्सा से जुड़े कई ब्लॉग पढ़ने को मिले... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut hee badiya post hai shej kar rakh lee hai shubhkamnayen v aabhaar

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्वास्थ्य पर अच्छी पोस्ट.... बुकमार्क करने योग्य

    उत्तर देंहटाएं
  9. स्वास्थयवर्धक चर्चा. :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्वास्थ्य जैसे संवेदनशील मुद्दे पर संवेदनशीलता से की गयी चर्चा । इतने लिंक तो हैरत में डालने वाले हैं । आपके उद्यम को प्रणाम ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अतिशय उपयोगी विषयों की जानकारी कराने के लिए चर्चाकार को धन्यवाद.

    ''सेहत हज़ार नेमत कही गयी है। आप का और आपके अपनों का जीवन सुखमय बीते, इन शुभ कामनाओं के साथ''

    -ऋ.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर! हम कल ट्रेन में थे लेकिन चर्चा पोस्ट हो गयी न! अति सुन्दर! संजय बेंगाणी नियमित पोस्ट करा करें जी!

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative