सोमवार, नवंबर 09, 2009

शाम की चर्चा में केवल एक लाईना

१.तांक-झांक, एस एम एस की निराली दुनियां मे!:ताक-झांक करते पकड़े जाने तक निरालेपन की गारंटी

२.प्रभाष जोशी के क्रिकेटिया गल्प: स्वाति के कविता पाठ के संग

३. चंद सौलिड ख्वाहिशों का मरहमी लिक्विडिफिकेशन..: किंग साइज विल्स पेनकिलर के संग

४. काग़ज़ पर स्वीमिंग पूल .......:और कागज फ़ाइल में बंद।

५.वंदेमातरम्‌ की नहीं, रोटी की बात करें :कम से कम विषय में नयापन तो होगा।

६.अवसाद में डूबे आत्मकथ्य - 1: मेरे सामान में शामिल हैं

७.पुरानी डायरी से - 7 : तलाश : की नहीं कि डर गये।

८.मैं तो निकल पड़ा हूँ..... तुम भी निकल चलो।

९.हम क्वालिटी बेचते हैं : लेकिन कोई खरीदार नहीं मिलता।

१०. विश्वास रखो, दोस्तों, भगवान सजा देगा इन पापियों को, धैर्य रखो…. :दारू की खाली बोतलों।

११. रामदेव जी, सारी सृष्टि का जन्म ही "वैसी" जगह से होता है तो? उसमें कोई क्या कर लेगा?

१२. खुल रही हैं यादों की परतें:जख्मों की सीवन उधड़ने लगी है।

१३. हद हो गई बेशर्मी की!पहले गहरी नींद सुलाते हैं और फ़िर चिल्लाते हैं जागो,जागो!:वाह भैया एक तो डबल मेहनत करें और आप कहो बेशर्म है।

१४."पुरानों को नमन और नयों को प्रणाम!!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक") :बीच के लोगों का कैसे बनेगा काम?

१५.नवाब साहब, किस और बबलगम...खुशदीप :दोनों को आज स्लॉग ओवर में डाल दिये।

१६. मेरी पसंद:अंगारों पर नंगे पांव

१७. बारिश में दास्तान:धर दबोचा ख्बाब ने रंगे हाथों।

१८. वन्दे मातरम् पर देश द्रोहियों को चेतावनी देती एक माइक्रो पोस्ट ......................... Micro post on Vande Matram:समझ गए तो ठीक वरना . एक पोस्ट और लिख देंगे| "

१९.चेहरा छुपा दिया है हमने नकाब में-15 :ब्लागरों की खुल रही है पोल हिसाब से।

२०.डरपोक एक 'लघुकथा' :शुक्र है यह उपन्यास नहीं है।

२१.बाबा रामदेव तुमने ये क्या किया :सियासत के लिए!

२२. क्या आप औरतो कि इज्ज़त कर के उस पर अहसान करते है. :औरतों की इज्जत कहां होने लगी भाई!

२३."भगत सिंह होने का मतलब" :भला कुछ आज के जमाने में?

२४. हर कोई बेईमान दिखता है..:नजर दिखवा लेव

२५.धीरे धीरे चल चाँद गगन में :कहीं मोच न आ जाये

२६. समलैंगिकों और किन्नरों का सरकारी पदों पर आरक्छन -एक व्यंग्य:मजाक-मजाक में इसके लिये कन्वेशिंग तो नहीं कर रहे भाई।

२७. मैं रजनी कान्त:मैंने आज तक ना किसी से झगडा किया है (तो अब कर लो)

२८.जीने का दिल करता नही पर मौत है कि आती नही :कृपया प्रतीक्षा करें आप कतार में हैं।

२९.हम सब कर्ज़दार हैं ....... :अच्छा!!!EMI बताओ।

३०.विधानसभा को बना दिया सब्जी मंडी! :मंड़ी वाले पढ़ेंगे तो दौड़ा लेंगे।

३१.दो पाटों के बीच में ...... :ये कोमल कली पिस गई है !

३२.चुप्पी तोड़ो नहीं तो डूब मरो :अपने रिस्क पर! क्रियाकर्म की कोई गारण्टी नहीं।

३३.संतो के प्रवचनों के बाद :सिद्ध हुआ कि गुड तो खाया परन्तु गुलगुले से परहेज किया!

३४.बहुत आँसू तेरे बह गए.. :वाटर हार्वेस्टिंग की तर्ज पर टीयर हार्वेस्टिंग करते तो कित्ता अच्छा होता।

३५. धूम्रपान से दिल के दौरे का खतरा:सही है-जिसका पैसा फ़ुंकेगा उसका दिल तो बैठेगा ही।

३६. मरीज़ों की प्राइवेसी की परवाह कैसी ? :किसलिये, क्यॊं?

३७. नागरिक समाज के लिए लालगढ़ आंदोलन से जुड़ी एक ज़रुरी बहस :अब आंदोलन के बाद क्या बहस भाई!

३८. निजी जिंदगी की अहम पदोन्नति:बिटिया के बने बाप! स्वीकारो बधाई आप!

३९.सब कुछ लुटाकर रह गए :लूटने वाले मुफ़्त के कुली बनकर रह गये।

४०. अवसर… मौका… जो पहला मिले छोड़ो मत… :दूसरा वाला पहले से तेज भागता है।

४१. कुछ दूर तलक साथ चलो,भूल कर शिकवे-गिले:बाद में फ़िर जी भर कर लड़ेंगे दिलजले।

४२.राजस्थान पत्रिका में 'मेरा बसेरा' :पत्रिका में बस गये पाबलाजी? क्या किराया है?

४३.काश ऐसे में तुम चले आते, आज मौसम बड़ा सुहाना था। :क्या हुआ भैये क्या मौसम को चौपट करवाना था?

४४.स्वाइन फ्लू यानी भय का वायरस : सबसे पहले शोले में गब्बर के आदमियों में पाया गया।

४५. फ़ायदेमंद है चाय:बशर्ते कोई मुफ़्त में पिलाता रहे।

४६.महात्मा गाँधी के नाम एक ख़त ! :कौन डिलीवर करेगा उनको जाकर!कौनौ कोरियर सर्विस चालू है क्या यहां से वहां तक?

४७. हमें तो भूतों से शिकायत है:चुड़ैलों के बारे में हम कुछ न कहेंगे!

४८.चार दोस्तों ने पूरी रात कुत्ते को तापकर गुजार दी... :सबेरे कुत्ता उबासी भरता हुआ भाग खड़ा हुआ!

४९. कपूतों के ये सपूत.....:पान की दुकान पर दिखे।
५०.कि मैं जमीन के रिश्तों से कट गया यारों.. :अच्छा गोंद इस्तेमाल करना था, जुड़े रहते।

५१.घूम रही सड़कों पर गैया..... :नाच रहे सब ता-ता थैया.?

Post Comment

Post Comment

22 टिप्‍पणियां:

  1. संकलित एक लाईना चर्चा अच्छी रही।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. वन्दे मातरम!
    हम तो समझ गये। याद भी है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक लाइन पर चलते हुए भी संतुलन नहीं खोना आपकी विशेशता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक लाइन में पूरे चिट्ठे का निचोड़ बताना आसन नहीं है....बहुत सराहनीय कार्य है....ह्रदय से बधाई....आपको...!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज तो चर्चा बहुत विस्तृत है। अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर चर्चा, इससे बहुत कुछ मिल जाता है. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया लगी यह चर्चा आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक लाइन की चर्चा तो बहुत बढ़िया रही।
    ङम बी यह प्रयोग आजमा कर देखेंगे!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढिया चर्चा. मेहनत का फल दिखाई दे रहा है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. याद आया कि ये तो चिट्ठा चर्चा की हज़ारवीं पोस्ट है..सो बधाई देने दोबारा चले आये..बधाई हो.

    उत्तर देंहटाएं
  11. शुक्रिया वन्दनाजी लेकिन ये एक कम हजारवीं पोस्ट है। हजारवीं पोस्ट आज आयेगी शायद!

    उत्तर देंहटाएं
  12. अनूप जी,
    हज़ारवीं पोस्ट के लिए अग्रिम बधाई...एक लाइन वाली चर्चा...यानि सौ सुनार की और एक लुहार की...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  13. शुभ इक्यावन की एकलाइना चर्चा बेहतर है । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. एक लायना में इतना कुछ ...आप ही कह सकते हैं ...बधाई ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर,उम्मीद नहीं थी कि लोग एस एम् एस की ताकझांक को इतना पसंद करेंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  16. लेजेंडरी एक-लाइना में शामिल हो पाना हमेशा से मुझे एक अजीब से पुलक देता है...शुक्रिया देव!

    उत्तर देंहटाएं

  17. आज एक लाइन में क्या, हम तो एक्कै शब्द में टिप्पणी देबे :
    ग़ज़्ज़ब !

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative