रविवार, अप्रैल 04, 2010

उड़े आकाश में ब्लॉगर, जमीं पे वो भी है इन्सां, कभी 'राम' ये चेहरा, कभी 'रहीम' मेरा चेहरा

image

यूँ तो घनश्याम ठक्कर के मूल ग़ज़ल का मूल शेर ये है -

 

उडे आकाश में शायर, जमीं पे वो भी है इन्सां,

कभी 'घनश्याम' ये चेहरा, कभी 'ठक्कर' मेरा चेहरा

मगर इस उम्दा शेर की स्केलेबिलिटी भी बेहद उम्दा है. इस पोस्ट का शीर्षक भी इसी स्केलेबिलिटी का नतीजा है. कुछ प्रयोग आप भी करें!

 

घनश्याम ठक्कर बहुभाषी, बहुमुखी प्रतिभाशाली ब्लॉगर हैं. गुजराती, हिन्दी, अंग्रेज़ी में समान रूप से ब्लॉगिंग करते हैं. गीत-ग़ज़ल तो लिखते ही हैं, गायन वादन भी करते हैं.  उनके ब्लॉग पर बहुत सा मसाला है. टहल आएँ (हालांकि नेविगेशन थोड़ा अजीब सा, इरीटेटिंग है), आपका इतवार का दिन यकीनन खुशगवार गुजरेगा.  डाउनलोड के लिए भी बहुत सा मसाला है वहाँ. यहीं से  मैंने ओएसिस ठक्कर के ब्लॉग में लिंकित  हैलोवीन तथा मुड़ मुड़ के न देख रीमिक्स संगीत डाउनलोड कर सुना. इम्प्रेसिव संगीत!

Post Comment

Post Comment

7 टिप्‍पणियां:

  1. उडे आकाश में शायर, जमीं पे वो भी है इन्सां,

    कभी 'घनश्याम' ये चेहरा, कभी 'ठक्कर' मेरा चेहरा


    achi panktiyon ke sath soch ahe aap ne


    http://kavyawani.blogspot.com/


    shekhar kumawat

    उत्तर देंहटाएं
  2. संवेदनशील प्रस्तुति......
    http://laddoospeaks.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छा जिक्र किया आपनें,धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थक शब्दों के साथ अच्छी चर्चा, अभिनंदन।

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative