शनिवार, फ़रवरी 27, 2010

विज्ञान चर्चा - डार्विन की आत्मकथा

नमस्कार, चिठ्ठा चर्चा में आपका स्वागत है. पिछली बार डार्विन पर की गई चर्चा में विस्तार से कई पहलुओं पर चर्चा नही हो पाई थी. इसलिए आज भी चर्चा का विषय मैंने इसे ही चुन लिया.
हम सब जानते हैं विकासवाद के सिद्धांत के प्रतिपादन के एवज में डार्विन को धर्म के ठेकेदारों(चर्च ऑफ़ इंग्लैंड)की कटु आलोचना का सामना करना पड़ा था, बाद में चर्च ऑफ इंगलैंड ने डार्विन के साथ किये गये अन्याय पर माफी मांग ली.

नया सर्वहारा पुनर्जागरण नया सर्वहारा प्रबोधन नामक नेट पत्रिका ने डार्विन के जन्म की द्विशती के उपलक्ष्य में एक आलेखनुमा रिपोर्ट प्रकाशित की है, समय के आभाव के कारन मैं उसपर टिप्पणी कर पाने में असक्षम हूँ.

साहित्य शिल्पी
इन दिनों डार्विन की आत्मकथा का हिंदी अनुवाद प्रस्तुत कर रहा है.


चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 1
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 2
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 3
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 4
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 5
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 6
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 7
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 8
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 9
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 10
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 11
चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा भाग - 12



यह तो हुआ लिंकों का प्रस्तुतीकरण इस विषय पर "चर्चा" तब ही हो पाएगी जब आप टिप्पणियों में अपना मत जाहिर करेंगे. अब इजाजत दीजिये. चर्चा विषयपरक होने के कारन मैं अन्य चिठ्ठों को स्थान नही दे रही जिनमे किसी अन्य मुद्दों पर लिखा जा रहा है. उनकी चर्चा अगले माह की अंतिम शनिवार को. आपका दिन सार्थक हो.

||चिठ्ठा चर्चा मंच और मेरी ओर से आप सब को होली की हार्दिक शुभकामनाएं||

- लवली

Post Comment

Post Comment

13 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी चर्चा,होली पर आपको भी बहुत शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस चर्चा के बहाने चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा के लिंक सभी एक जगह मिल गये । अब इसे पहली फुर्सत में पढ़ लिया जाये । इस लिंक के लिये बहुत बहुत धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. चिट्ठाचर्चा के पाठकों के लिए डार्विन पर इतनी विषद सामग्री के लिए आभार
    आपको और चिट्ठाचर्चा परिवार ,पाठकों को भी होली की रंगारंग शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. डार्विन की आत्मकथा के लिंक के लिए धन्यावाद. बुकमार्क कर रहा हूँ. अभी तो नहीं... फुर्सत में पढता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक ही विषय पर इतने सारे लिंक्स.. फुर्सत में देखना होगा।
    आज तो मुख्य समाचार की तरह मुख्य लिंक से ही काम चलाना पड़ रहा है। संभव है व्यस्तता की वजह से! उम्मीद है अगली चर्चा में विस्तृत चर्चा पढ़ने को मिलेगी।

    होली की हार्दिक शुभकामनाएं, रंगों का यह पर्व आपके पूरे परिवार के लिए मंगलमय हो।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया जानकारी दी आपने !! आपकी चर्चा है यहाँ ..
    http://nukkadh.blogspot.com/2010/02/blog-post_2119.html
    होली और मिलाद उन नबी की शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं

  7. व्हाट ऍन आइडिया लवली जी,
    मुरीद हुआ आपकी तीक्ष्ण बुद्धिमता का,
    काम के लिंक दिये, यानि मोटा सा होमवर्क
    हम्मैं समझाया, आप लोग चुप्पै बईठ के पढ़ो,हम आते हैं
    और..खुद बिना किसी एहसान खिसक लीं,पकवान बनाने होंगे ?
    हम प्रस्तुत कड़ियों की आपकी समीक्षा चटनी से ही सँतुष्ट हो लेते ।
    ब्यूटीफुल आइडिया लवली जी..कौन कहता है कि,दिमागदार लोग ब्लॉगिंग नहीं करते ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. @अमर जी क्या पकड़ा है सर जी -
    -------------
    हमें धर - पकड कर चर्चा में दिया बिठाय
    टिप्पणी देने की बारी में कोरी वाह - वाह टिपियाय
    नही चाहिए ऐसी टिप्पणियाँ जो पढ़ कर कोफ़्त हो जाए
    "चर्चा" शब्द सार्थक हो तब कोई बात बन पाए
    इसलिए कहा - आप सब पढ़िए हम थोड़ी देर में आए
    सोंचा कम से कम ऐसे तो बात बन जाए
    पकवान के बहाने की खिंचाई पर विषयवस्तु पर कहाँ टिपियाए?
    "व्हाट एन आइडिया सर जी" - ऐसे हम भी कहने का मौका पाए ..
    -------------------
    होली मुबारक .. :-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. क्‍या विज्ञान चर्चा टिप्‍पणी सापेक्ष है ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. @अर्कजेश यह चर्चा विषयपरक थी. मुझे जो समीक्षा अथवा समालोचना करनी थी. वह मैं इस बार समयाभाव के कारन नही कर पाई. रही बात चर्चा के टिप्पणी सापेक्ष होने की तो ऐसी कोई बात नही है ..पर मेरा प्रयास होता है की पाठकों को विषयवस्तु पर चर्चा के लिए प्रेरित कर पाऊं.मेरी टिप्पणी को उसी परिप्रेक्ष्य में लिया जाए.

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस बार रंग लगाना तो.. ऐसा रंग लगाना.. के ताउम्र ना छूटे..
    ना हिन्दू पहिचाना जाये ना मुसलमाँ.. ऐसा रंग लगाना..
    लहू का रंग तो अन्दर ही रह जाता है.. जब तक पहचाना जाये सड़कों पे बह जाता है..
    कोई बाहर का पक्का रंग लगाना..
    के बस इंसां पहचाना जाये.. ना हिन्दू पहचाना जाये..
    ना मुसलमाँ पहचाना जाये.. बस इंसां पहचाना जाये..
    इस बार.. ऐसा रंग लगाना...
    (और आज पहली बार ब्लॉग पर बुला रहा हूँ.. शायद आपकी भी टांग खींची हो मैंने होली में..)

    होली की उतनी शुभ कामनाएं जितनी मैंने और आपने मिलके भी ना बांटी हों...

    उत्तर देंहटाएं
  12. डार्विन की आत्मकथा जानकारी में ही नहीं थी...
    धन्यवाद...इन लिंकों के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैंने ये सभी पोस्ट पहले पढ़ी थी और अपने मित्रों को भी पढ़ाने के लिये फिर से ढ़ूंढ़ रहा था जो आज मिला.. बढ़िया लगा.. :)

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative