शुक्रवार, अक्तूबर 23, 2009

फुरसतिया प्रयागराज में परिचय देवत अपन

चिट्ठाकारी समारोह के द्वितीय सत्र में गर्मागर्म बहस होनी है. अनामी/बेनामी/चिट्ठाजगत् के कुंठासुर/मठाधीश/ भाषा इत्यादि पर विचार विमर्श होगा. पर, इससे पहले चिट्ठाकारों को बहुत ही कठिन परीक्षण से गुजरना पड़ा. उन्हें अपना परिचय देना पड़ा. शुरूआत फुरसतिया ने की. उन्होंने अपना परिचय कुछ इस तरह से दिया – देखें यू ट्यूब वीडियो -

 

बाकी अभी चिट्ठाकारी समारोह जारी है. यशवंत अपना भड़ास निकाल रहे हैं, और लोग मगन होकर उनकी बात सुन रहे हैं. यकीन मानिए, सभा में पिनड्रॉप साइलेंस है. अगली रपट जल्द ही. यह वीडियो गाहे-बगाहे विनीत के रिलायंस नेट कनेक्ट के जरिए यू-ट्यूब पर चढ़ाया गया. उन्हें धन्यवाद.

Post Comment

Post Comment

9 टिप्‍पणियां:

  1. waah yae haen net ka faydaa na hotey huae wahaan ham kuchh miss nahin kar rahey

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत लाजवाब रिपोर्टिंग.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मंच की खाली कुर्सियां और भरी पानी की बोतल के साथ फ़ुरसतिया जी :)वाह क्या सीन है!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढिया है...अगले अंक का इन्तज़ार है..

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम तो बहुत दूर हैं फिर भी देख देख कर वही होने का सुख उठा रहे हैं...
    ज़बरदस्त रिपोर्टिंग है भाई....

    उत्तर देंहटाएं
  6. एकदम ब्रेकिंग न्यूज की स्टाईल में :)
    बढिया!!

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative