बुधवार, अक्तूबर 28, 2009

चर्चा में केवल एक लाईना

  1. रामप्यारी का सवाल : मुझे राष्ट्रीय संगोष्ठी में क्यों नहीं बुलाया गया?

  2. इलाहाबाद से ’ई’गायब :ब्लाग थाने ने रपट लिखने से इंकार किया

  3. आखिर ब्लॉगर हैं..हर स्थिति में अपना झंडा गडेगा ही. : झंडा बायें कोने में सबसे ऊपर लगाना ताकि उसका अपमान न हो

  4. कब आ रही हो!!:चाय चढ़ा दें तुम्हारे लिये?

  5. बहस कम , चर्चे ज्यादा प्रश्न कम , पर्चे ज्यादा :वो तो ठीक है लेकिन उन दो को क्यों छोड़ दिया?

  6. जा कर दिया आजाद तुझे : अब अगली संगोष्ठी में मिलना

  7. ब्लॉगर खाया हो या न हो, अघाया जरूर होता है : उसे हाजमोला का डब्बा दे दो

  8. डाक्टर, ज्योतिषी और वकील खामोखाँ नहीं डराते: वे तो खाली घर-कपड़े बिकवाते हैं

  9. इस पोस्ट को न पढ़ें...खुशदीप:चलो नहीं पढ़ते। लेकिन शीर्षक तो बांच सकते हैं।

  10. गांव में चलते हैं छ: और सात रुपये के नोट : अभी शहर नहीं पहुंचे

  11. प्रसिद्ध लेखकों के अजब टोटके : टोटके अपनायें प्रसिद्ध हो जायें

  12. अखबारों ने फर्जी खबरे छपी : और सिद्ध किया कि वे अखबार ही हैं

  13. आइए आज शाम को ऑनलाइन सीखें कि विंडोज़ 7 पर हिन्दी में काम कैसे करें : हिंदूवादियों और मार्क्सवादियों के लिये समय एक ही रहेगा कि अलग-अलग?


  14. स्वप्न तुम्हारे आकर जब से चूम गये मेरी पलकों को
    :पलकें मुंदी-मुंदी से मुस्काती देख रही अलकों को

  15. मुख्यमंत्री द्वारा हीरा सेम्पल प्रोसेसिंग प्लांट का उद्घाटन :मख्य मंत्री की कैसे हिम्मत हुई यह करने की? क्या सब जौहरी मर गये थे?

  16. हे भीष्म पितामह, हम ब्लॉगर नहीं, पर वहां थे…: आपको पितामह को नहीं भष्मासुर को रिपोर्ट करना है। अब वे आपके बॉस हैं!

  17. हाँकोगे तो हाँफोगे :ग्राहक की संतुष्टि में ही निष्पत्ति है।

Post Comment

Post Comment

24 टिप्‍पणियां:

  1. अनूप जी एक लाईना
    देखन में छोटे लगे घाव करे गंभीर ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. टिप्पणी में भी एक लाइना..
    "क्या एल.पी.जी. गैस हो गयी ख़तम, चर्चा हो गयी इतनी कम.." :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. रपट डायरेक्ट इंटर्पोल पहुँच गई है।

    @
    आइए आज शाम को ऑनलाइन सीखें कि विंडोज़ 7 पर हिन्दी में काम कैसे करें : हिंदूवादियों और मार्क्सवादियों के लिये समय एक ही रहेगा कि अलग-अलग?

    इसे तेरहवें नम्बर पर जान बूझ कर रखे या संयोगात ही। हम सीखेंगे इंटर्वल में !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत संक्षिप्त चर्चा है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. एसएलएम यानी सिंगल लाईन मिसाईल टारगेट पर रही।

    उत्तर देंहटाएं
  6. चर्चा में केवल एक लाईना शब्द इलाहाबाद मे रहगये

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्छा...नया अन्दाज़? अच्छा लगा ये भी..

    उत्तर देंहटाएं
  8. हिंदूवादियों और मार्क्सवादियों के लिये समय एक ही रहेगा कि अलग-अलग?


    यह तो इस पर डिपेंड करेगा कि किलास कौन ले रहे हैं- नामवरजी या अशोक वाजपेयी जी:)

    उत्तर देंहटाएं
  9. cmpershad से सहमत… :)
    एक नाम मेरी तरफ़ से भी, कि विंडोज़ 7 की क्लास अरुण शौरी लेंगे तो आते हैं… :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. on one corner of the template i found the information that Dr Amar was responsible for this change in the template
    So i wish to congratulate him for the same

    उत्तर देंहटाएं
  11. कमाल है जी एकदमे कमाल है ..बहुते बढिया रहा ई प्रयोग

    उत्तर देंहटाएं
  12. हम से इस महाकुम्भ की महाचर्चा में एक लाइन भी नहीं बन पायी, आप लाइन पर लाइन दिए जाते हैं। बैडलक ही खराब है स्सा...**।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आज चर्चा में शिर्फ़ एक लाइना : एक आइना

    बदलाव अच्छा लगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. यह क्या टेम्पलेट है? कापी-पेस्ट नहीं करने देता!

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह भी वाह !!!!

    जो बात चार लाईना में नही कह सके वो.....यहाँ इक लाइना में kah deye yah ....:))

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative