गुरुवार, मार्च 01, 2007

मध्यान्हचर्चा दिनांक : 1-3-2007

कक्षमें धृतराष्ट्र के सामने संजय बैठे है. लैपटोप पर संजाल का संचार करते हुए संजय स्क्रीन पर नजरे गडाये हुए है. चपरासी आ कर दो मग कोफी के रख जाता है. लम्बी छूट्टी के बाद लौटे संजय को देखते हुए धृतराष्ट्र ने कोफी का मग उठा लिया.

संजय : महाराज हिन्दी चिट्ठा दंगल में बहुत से नए यौद्धा आ जुटे है. नए-नए पैंतरे देखने को मिल रहे है. कोई उकसा रहा है, कोई ताल ठोक रहा है.
धृतराष्ट्र : (मुस्कुराते हुए) तुम तो बस मौज लो, अब देखो कौन क्या लिख रहा है?
संजय : जी महाराज. यहाँ खुशी छाई हुई है, उत्साही हिन्दी-युग्म वालो ने पुरस्कार राशि बढ़ा दी है. कवि खुश नजर आ रहे है.

धृतराष्ट्र : और यह दूकनदारी किसने शुरू कर दी है?
संजय : महाराज, लोकी के रस के ईंधन से उड़ती उडनतश्तरी है, जो चिल्ला रही है, “बाई वन गेट वन फ्री के साथ एक साल पूरे!! “ मगर मामला खरीदने-बेचने का बिल्कुल नहीं है.

धृतराष्ट्र : ठीक है भाई, फीर पाठशाला में क्या हो रहा है, देखो.
संजय : महाराज, पंडितजी वर्डप्रेस तथा वर्डप्रेस.कॉम का अंतर समझा रहें है. वहीं विद्यार्थी रमण इधर-उधर से देख कर अपना पर्जा लिख रहे है. शायद पास हो जाए..तो खेल-खेल में अफ्लातुनजी अपनी उत्तर-पुस्तिकाएं बदल रहे है.अंतर्मन शिकायत लिए पहूँचे हैं की अमुक-अमुक लोगो ने वादा किया मगर लिखा नहीं, यह रही सूची. अब देखते हैं मास्साब क्या सजा देते हैं.

साथ ही चौपाल पर हो रही है 1857 के 150 वर्ष पूरे होने पर सार्थक चर्चा.

धृतराष्ट्र : कवियों का जमावड़ा भी दिख रहा है. देखो जरा कौन क्या लाया है.
संजय : जी महाराज, गुरनामजी कहते हैं की उन्हे लिखना नहीं आता, बस गा कर सुना सकता हूँ वरना ..कोई ना कोई हमारा भी होगा. अभय तिवारी पूछते है, इश्क क्या?अनहद-नाद है प्रियंकरजी की. गा रहे हैं जगन्नाथ आज़ाद की नज़म.

धृतराष्ट्र : बहुत खुब. ज्ञान-विज्ञान भी देख लो.
संजय : यहाँ कुछ खास नहीं, मगर आशीषजी का अपोलो अभियान 14वें चरण में पहूँच गया है.

महाराज, अब आप सुनीये सात बड़ी खबरें. मैं होता हूँ लोग-आउट.

Post Comment

Post Comment

3 टिप्‍पणियां:

  1. अब बहुत दिन बाद आये हो, तो भागना मत!! :)

    वैसे, मध्यान्ह चर्चा की टीम बन चाहिये सातों दिन के लिये ताकि निरंतर होती रहे.

    यह आपकी तसल्ली को कहा गया है, ताकि तब तक आप रोज लिखते रहें. :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे वैलकम बैक जी, मजा आ गया वापस आ गई संजय धृतराष्ट्र की चौकड़ी। अब आते रहिएगा हाँ, फिर से गायब मत हो जाना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. चर्चा वापसी अच्छी लगी! पंकज से कहा जाये कि वो भी शुरू करे गुजराती /राजस्थानी चर्चा!

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative