शनिवार, अगस्त 02, 2008

मौका परस्त बनिये, मौज करिये।

दिहाड़ी दिहाड़ी

कल रात से बिजली गुल रही सो आज बस एक लाइना पेश हैं:

दिहाड़ी मिलना कठिन है क्या इस समय? : साइकिल पे आइये तब कुछ जानकारी मिल पायेगी।

आत्म-गहराई! : डूब गये भाई।

इस मोड़ से जाते हैं... ! : अगले पे मिलेंगे।

आईबी की ऊं फट हट : जित्ता समझा लिखा फ़ट फ़ट।

सूर्या ग्रहण और शिक्षा का स्तर: एक लेवेल पे आ गये कल।

अगर हम कहें और वो मुस्कुरा दें: दुआ है भगवान आपको गूंगा न बना दे।

और तब आप जीत जायेंगे : फ़िर वो आप पर हंसेंगे।

छिन्दवाड़ा के आसाराम बापू आश्रम के स्कूल में तीन बच्चों की मौत : बाकी कुछ कतार में हैं।

क्या व्यवस्था अव्यवस्था में से जन्म लेगी ?: आपै कुछ बतायें दिनेशजी।

मौका परस्त बनिये, मौज करिये।

सुदामा के सात सवाल: पंगेबाज ने उछाले।

मैं तकदी रही तेरा राह सजना: मतलब सजनी अपने सजना से तकादा करती है.......।

पहेली, क्या आप बातयेगे यह कोन सी मशहुर हस्ती हे ?: जानते हैं लेकिन बतायेंगे नहीं वर्ना पहेली बुझ जायेगी।

आपके घर में भी हो सकता है बम: घर में जब घुसें पुलिस बुला के घुसें।

चिंतन आस की किरण : चिंतित हुये हम।


हम शादी कब करेगे ?? : जब पूछा जायेगा तुमको क्या पसंद है।


ज़माना बदल गया ..........: लेकिन हमने अपने को वैसा ही रखा।

Post Comment

Post Comment

7 टिप्‍पणियां:

  1. यह चिट्टा चर्चा पढ़ कर सुबह मुस्कान भरी हो जाती है :)

    मौका परस्त बनिये, मौज करिये।

    इस मोड़ से जाते हैं... ! : अगले पे मिलेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. "मैं तकदी रही तेरा राह सजना": मतलब सजनी अपने सजना से तकादा करती है.......।
    Brilliant!

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैं तकदी रही तेरा राह सजना": मतलब सजनी अपने सजना से तकादा करती है.......

    हा हा हा.. सही दबोचा है

    उत्तर देंहटाएं
  4. हा हा हा हा हा हा
    हा हा हा हा हा हा
    बहुत खूब.
    जवाब नहीं आपका.

    उत्तर देंहटाएं
  5. साइकल क्या खरीदें? भरतलाल की तो चोरी चली गयी!

    उत्तर देंहटाएं
  6. व्यवस्था अव्यवस्था में से ही जनमती है जी। बडे बडे विज्ञानियों ने यही बताया है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहूत नाइन्साफ़ी है ..दुपहरिया से डाटावन वाले सता रहे हैं,
    अउर अब खुदै गुरु महाराज हमरे पँचयें पोज़ीशन पर डट गये ।

    वैसे ज्ञानजी, मैं किसी को नहीं बताऊँगा कि भरतलाल के
    मुँहलगेपन व आवारागर्दी से त्रस्त होकर रीता भउजी ने पीछे
    वाले दालान में साइकिल छिपवा रखी है । यह भी न सोचा कि
    माँगे जाँचे आपका भी काम निकल जाता था ।
    सिर्फ़ आपको बता रहा हूँ ।

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative