बुधवार, मार्च 11, 2009

ताऊ के पाकिस्तान के अगले हुक्मरान बनने की अफ़वाह


टिप्पणी बाबा

आज होली है। होली तो हो ली है! न्यूजीलैंड में भारतीय टीम ने इतिहास रच के डाल दिया। जीत गये। इतिहास रच गया तो पड़ा रहेगा! जब-तब उलट-पुलट के देखते रहेंगे!

न्यूजचैनेल वालों को लगता है जबरियन भांग पिलाकर ड्यूटी पर बैठाया गया है। स्टार न्यूज वाला बार-बार कह रहा है- 11 मार्च ,2009 पिछले 33 सालों से बार-बार आ रहा है लेकिन .....। मन किया फोन करके कहें क्या के रिया है रे चौथे खम्बे की नयी-नयी ईंट! लेकिन किये नहीं! पता है वो भी हें हें करके कह देता बुरा न मानो होली है।

उधर पाकिस्तान में फ़िर से तख्ता पलट की अफ़वाहें फ़ैल रही हैं। ताऊ ने कहीं पढ़ रखा है -पाकिस्तान की अफ़वाहों की सबसे बड़ी खराबी ये है कि वे सच निकलती हैं! इसको सच मानते हुये ताऊ ने अपनी दोनों भैसों को पाकिस्तान के लिये रवाना कर दिया कि वे पाकिस्तान जाकर यह अफ़वाह फ़ैलायें कि पाकिस्तान के अगले हुक्मरान ताऊ ही होंगे। भैंसो को विदा करने के बाद ताऊ उर्दू सीखने लगे और पाकिस्तान की छीछालेदर की नेट प्रैक्टिश करते हुये पोस्टों की छीछालेदरं करने लगे। उनकी देखा देखी कुछ इधर उधर के लोग भी छीछालेदर पर उतर आये! ताऊ ने ज्ञानजी से उनका हंटर भी मांग लिया है ताकि वे जब-तब फ़टकार सकें!


उधर टिप्पणी बाबा समीरलाल के बारे में खुलासा करते हुये लोगों ने बताया कि वे नये और पुराने ब्लागरों को टिप्पणी का प्रसाद बांटने में भेदभाव बरतते हैं! समीरलाल ने अपनी सफ़ाई में कहा- लेकिन सब टिप्पणियों में साधुवाद का तड़का तो बराबर लगाता हूं! हमको ज्यादा सताओगे तो एक बार हम फ़िर से टंकी पर चढ़ जायेंगे। टंकी टूटने के डर से सब चुप हो गये।

हमें पता है कि आप होली के दिन थके हुये हो इसीलिये हम सुने-सुनाये चुटकुले सुनाके आपको बोर नहीं करना चाहते। ये सब बबालियों के काम हैं और फ़िर बोर करने के लिये एक लाईना हैं न!

एक लाईना


  1. बेहतर उम्मीदवारों को जिताने की जिम्मेदारी अब मतदाताओं पर: मतदाता ने ये काम जाने कब से उम्मीदवारों को सौंप रखा है

  2. टेलीविजन की होली रिपोर्टर ने कहा- जरा सटिए न :अब लेडीस की बात कैसे टालते?

  3. हर रंग लगे रसीला....... : गारंटी है भाई !

  4. पूरे परिवार के विरुद्ध 498-ए का मुकदमा है, गिरफ्तारी का भय है, क्या करें? :कुछ दे दिवा के छुट्टी पाओ

  5. एनडीए के बिखराव से उलझन में आडवाणी :ये लोहे में जंग कैसे लग गया जी?

  6. खेल के होली देखा अपने को : तो डर गये और ब्लाग लिखने बैठ गये

  7. कुछ डॉक्टर टीवी पर ही दिखते हैं?: बाकी जगह लोग उनको देख ही नहीं पाते

  8. ये कैसी होली :बूझो तो जाने!

  9. उनके लिये तो वो होली का गुलाल है ! : पांच रुपये का सौ ग्राम का भाव है

  10. मोरा फागुन में जियरा बहके..... : महीने भर की ही तो बात है भैया झेल लेव

  11. होली के बहाने यादें बचपन की :बचपने को याद करने के लिये भी बहानेबाजी ?

  12. छत्तीसगढ़ी शाइनिंग... : बिन बिजली बिन तेल!

  13. कौम के तथाकथित ठेकेदार: अपना काम शुरू कर दिये

  14. वो हवा में 8 बनाने को कहती है : और हमें लगता है डमरू बजवाना चाहती है!

  15. अमेरिकी डॉलर पर
    हिन्‍दी ब्‍लॉगर का स्‍कैच प्रकाशित
    : पकड़ने वाले को चार सौ बीस रुपये नकद इनाम


  16. एक किरण आशा की
    :के साथ हजार सपने फ़्री

  17. अपनी खुद की टास्क बार बनाये...... : होली में काम करवाओगे?

  18. इंडिया गेट के रंग : जयश्री के संग

  19. दिल में होली जल रही हैं..:सही है! थोड़े आलू-सालू भूंज के लाओ यार!!!

  20. आज दोपहर दिल्ली में! :शाम को किधर रहे भाई!

  21. ग़ज़लों को हमें अपनी चाकू सा बनाना है :इसके बाद आलू के सीने उतार देना है!!

  22. मार्च में प्रवेश मई में परीक्षा और हो गये अध्यापक: मैगी अध्यापक- दो महीने में तैयार

  23. आज बिरज में होरी रे रसिया... : घर मिथिला में होली बिरज में! कमाल है जी!

  24. होली है..हुदंग है.: और झाजी की मूछें हैं!

  25. मुशर्रफ को पडे दो थप्‍पड :बस केवल दो!

  26. कितने वर्ष जीना चाहोगे? :सौ साल!


  27. जमकर होली मनाईये और पांच बार नहाईये
    : पानी संजय तिवारी के यहां से लाइये!

  28. रंगों की होली वाकई बेमानी है :आज ही के दिन टसुये बहाना भी कौन ईमानदारी है!

  29. गुलाल मल दो गालों से,ओंठो से रंग दो लाल : ये भी एक मनचाहा बवाल है!

  30. नबाबों की तरह मनाये होली : कोई नबाब तो बनाये

  31. ताऊ द्वारा होली पर पोस्ट की छीछालेदर : आदत से बाज नहीं आये आज भी

  32. बनारस की होली बनारस की बोली में :भांग की गोली मुफ़्त में

और अंत में


आप सभी को होली एक बार फ़िर से मुबारक।

सागर भाई के गीत-संगीत के चिट्ठों की चर्चा पर पाठ्कों की प्रतिक्रिया देखकर यह विचार किया गया है कि हफ़्ते में एक दिन (शनिवार को ) मुख्यत: गीत संगीत के चिट्ठों की चर्चा की जाये। यह काम सागर, तरुण और मनीष भाई मिलकर करेंगे। इन गीत-संगीत के रसिकों के जिम्मे अब शनिवार की चर्चा की सम्मिलित जिम्मेदारी रहे्गी।सागर और तरुण की चर्चा से तो आप परिचित हैं हीं। मनीष से भी आप अवश्य परिचित होंगे। एक शाम मेरे नाम पर उनके जलवे आप पहले भी देख चुके हैं। यहां चर्चाकार के रूप में भी उनके जलवे आप जल्द ही देखेंगे।

फ़िलहाल इतना ही। कल की चर्चा शिवकुमार मिश्र करेंगे। लेकिन वो तो कल करेंगे! तब तक आप क्या करेंगे? बोर हो रहे हैं तो टिपियाने ही लगिये!

Post Comment

Post Comment

22 टिप्‍पणियां:

  1. टीवी पर इतनी चीख पुकार के बाद भी कि आज ११ तारीक है, पोस्ट अब लग रही है जब १२ तारीक होने में चंद मिनट बाकी है। :) खैर, चलो छोड देते हैं कि बुरा न मानना अभि होली के चंद मिनट बाकी है। छोटी लेकिन ‘छिछालेदार’ चर्चा नहीं:)

    उत्तर देंहटाएं
  2. अनूप शुक्लजी,
    नमस्कार.
    @उधर टिप्पणी बाबा समीरलाल के बारे में खुलासा करते हुये........
    बेचारे करते तो है। कही पुरानी ज्ञानीयो के यहॉ तो छोटे बडे चिठाकारो मे छूआछुत वाली फर्क बनाऐ हुऐ है।
    @मानते हुये ताऊ ने अपनी दोनों भैसों को पाकिस्तान के लिये रवाना कर दिया कि वे पाकिस्तान जाकर यह अफ़वाह फ़ैलायें कि पाकिस्तान के अगले हुक्मरान ताऊ ही होंगे।
    सही का जी आपने ताऊ है! कुछ भी कर सकता है !बडा ही जानदार चरित्र बन पडा यह ताऊ, आने वाले समय मे विदेशी फैटम एवम देशी चाचा चोधरी कि भी कुटाई कर देगा ताऊ नाम । हमारा तो लाडका है ताऊ!!!!
    आपने चिठा चर्चा मे अपनी भुमिका के साथ न्याय किया बधाई सर जी।
    ..........................................................
    सुना है ६००० हिन्दी के चिठ्ठे है। पर चिठाचर्चा मे तो फिक्स २५ से ४० चिठो कि चर्चा होती है। जबकी कि अग्रेजी भाषाओ मे इसका उल्टा होता है वहॉ व्य्क्ती प्रभाव से अधिक विषयो को पसन्द करते है जबकि अपने यहॉ पहले व्यक्ति होता है विषय तो व्यक्ती विशेष कि जुडजाने से ठिक हो ही जाता है यह मनोघारणा को चेन्स करेगे तभी हम हिन्दि ब्लोग जगत को आने वाले समय मे खुश देख पाऐगे। अन्यथा ने ले ।
    होली कि मगल कामनाओ के साथ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पाकिस्तानियो के लिये तो हुक्मरान ताऊ ही ठीक रहेगा ! और वो भी जर्मन लठ्ठ व हन्ट्रर के साथ |

    उत्तर देंहटाएं
  4. हे प्रभुजी, आपने लिखा:चिटठाचर्चा मे तो फिक्स २५ से ४० चिठो कि चर्चा होती है। जबकी कि अग्रेजी भाषाओ मे इसका उल्टा होता है

    अन्यथा लेने जैसी कोई बात नहीं है लेकिन आपसे अनुरोध है कि अंग्रेजी भाषा के उस ब्लाग/साइट का लिंक (देशी पंडित अगर हो तो उसको छोड़ दें जिसमें एक पोस्ट की चर्चा एक बार में होती है) देने की कृपा करें जहां अंग्रेजी ब्लागों की चर्चा की जाती है ताकि उससे हम सीख सकें!

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस छोटी पर जानदार शानदार चर्चा के लिये बहुत धन्यवाद. आज तो भंग भवानी कुछ ज्यादा ही तेज चढी है.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. हा हा अनूप जी आपका कोई सानी नहीं है सर। होली की व्यस्तताओं के बीच भी कैसी सुन्दर चर्चा की आपने अहा!

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमारे यहां एक विधायक हैं जिनको पानी वाले बाबा के नाम से जाना जाता है. आज आपने टिपणि वाले बाबा की भी खोज कर ली. टिपणि वाले बाबा का पोज और एक्शन बडा सुथरा लग रहा है. आनन्द आया .गुरु आखिर गुरु ही रहेंगे.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ग़ज़लों को हमें अपनी चाकू सा बनाना है :इसके बाद आलू के सीने उतार देना है!!

    मार्च में प्रवेश मई में परीक्षा और हो गये अध्यापक: मैगी अध्यापक- दो महीने में तैयार


    ये दोनों एकलाइना सर्वश्रेष्‍ठ लगी। अच्‍छी चर्चा लगी आज। इसका यह मतलब भी नहीं है कि रोजाना बकवास होती है :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. Sabko holi ki badhai aur lagta hai ye Tippani wale baba ko hum abhi tak naye aur aparichit blogger lagte hain, itti bari bari tipanniya jhole me daale ghumte hain aur hume choti tika dete hain......kuch karna parega, Tau ko pak ka hukumaran hone do .......;)

    bura na mano holi hai, holi hai bhai holi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  10. Hey Prabhu kya aapne un 6000 chittho per har din post hote dekha hai, ye 6000 ka aankra waisa hi hai jaise apne yehan saansad lekin kaam kuch hi karte hain nahi to govinda jaise bhi hain jinki haaziri shayad 10-15 percent bhi nahi......

    aur be practical, it's not possible, 6000 posts ek din me parna aur charcha karna......Woh to Prabhu hi kar sakte hain.....Happy Holi.

    But aapke point me dum hai, lagta hai aapne kai purani charchayen pari nahi.

    bura na mano Happy Holi, holi hai ji holi hai

    उत्तर देंहटाएं
  11. अनूपजी ठीक ही कहा आपने आप लोग चाकू को आलू के सीने में घोंपकर तरकारी के स्वाद पर मगन हैं.
    जाकी रही भावना जैसी,प्रभु मूरत देखी तिन तैसी.
    आप तो ब्लाग जगत के भैंसे और भैंसियों का कीर्तन करते रहिए आप उन्हीं की पूछ पकड़कर भवसागर से पार होंगे.
    आप भी अवतारी हैं प्रभु अपने भक्तन को लीला दिखाते रहिए.हम पापियों को काहे उंगली करते हैं फिर हम बांस करेंगे तब सब किल्लायेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  12. टिप्पणी वाले बाबा का फोटो तो उनके प्रोफाईल में लगना चाहिये ।
    एक लाईना अच्छी लगी । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. हिमाँशु: अगर इजाजत हो तो प्रोफाईल में तो नहीं मगर ब्लॉग पर जरुर चिपका देते हैं. :) सजेशन बेहतरीन है.

    अनूप जी, चुटकुला सुना निकल गया-खेद है मगर उसका हिट-डायरेक्शन बदल दिया था वो भी नहीं जमा क्या?? :)चलो, कोई बात नहीं, आम जनता की तरह आँसूं पौंछा कर इन्तजार करो अगले आईटम का.. हा हा!!

    बेहतरीन मिनि चर्चा.

    होली मुबारक!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. अब 6000 नहीं
    हिन्‍दी ब्‍लॉग
    10000 हो गए हैं
    बकौल बालेन्‍दु दाधीच
    गलत न बोलें
    नहीं तो लेंगे
    हम कान खींच।

    उत्तर देंहटाएं
  15. हम तो बोर नही हो रहे है.. क्या करे टीपियाए क़ी नही? चलो टीप देते है..
    शिकायते आ रही है.. संभालिए...

    उत्तर देंहटाएं
  16. टिप्पणी वाले बाबा :) सुन्दर चर्चा

    उत्तर देंहटाएं
  17. टिपण्णी वाले बाबा पढ़ कर हमें तो पोटली बाबा की याद आ गयी...आया आया झेनु वाले छुन्नू का बाबा गीतों का कहानियो का किस्सों का छाबा :)
    आपको होली के दिन फुर्सत कैसे मिल गयी, आज तो रंग के डर से कंप्यूटर बंद ही कर के रखते हैं. क्या पता कहीं होली का रंग चढ़ गया तो साल भर कुछ पोस्ट करने में दिक्कत हो...अच्छी चर्चा रही, एक लाईना मस्त

    उत्तर देंहटाएं
  18. हाय! कित्ता स्लिम-ट्रिम है टिप्पणी वाला बाबा! कित्ता हैण्डसम!
    ---- नयी फिलम की हीरोइन चमेलीजान।

    उत्तर देंहटाएं
  19. मेल से प्राप्त सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी की टिप्पणी
    ________________________________________________
    आज की चिठ्ठा चर्चा तो कमाल की हो गयी। ताऊ जी ने जो छीछालेदर की है उसका पात्र बनना भी बड़ा आनन्दकर होगा। काश हम भी होते वहाँ...!
    होली के बहाने जब बड़े बुजुर्ग इतना दिलफ़ेंक बहादुर बनने को तैयार हैं तो हम नौजवानों को तो मौजमस्ती करना ही चाहिए। अफ़सोस हम वैसा कर न सके।

    बेहतरीन चर्चा की बधाई।

    सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी

    उत्तर देंहटाएं
  20. ताऊ से निपट लेंगें -मगर वे बाज कहाँ आयेंगें ! कुछ फिजा बदली तो !

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative