बुधवार, मार्च 18, 2009

नज़रों में ख्वाब ले के, महकेंगें साथ साथ

फूलों की क्यारियों में ,
हाथों में ले के हाथ |
नज़रों में ख्वाब ले के,
महकेंगें साथ साथ |

ये इरादे हमारे नहीं हैं जी। न हम कोई चुनाव में खड़े हो रहे हैं जो आपको वोटर समझ के भरमा रहे हों। ये योजना अनुपम अग्रवालजी की है। देखिये आगे-आगे होता है क्या?

निशान्त मिश्र ऐसी बातें पेश करते रहते हैं जो शायद पता सबको होती हैं लेकिन उनके प्रति गंभीर होकर सोचना मुश्किल होता है। निशांत जिस तरीके से ज्ञान और समझ की बाते बताते हैं उससे एक बारगी लगता तो है कि हां इसको करना चाहिये। कल उन्होंने उन बीस बातों को लिखा जो उनको लगता है कि अगर वे उनको पहले पता होतीं तो बेहतर होता! उन बीस बातों में से एक है:
कितनी भी व्यस्तता क्यों न हो, अपना शौक पूरा करो - मैं हमेशा से ही लेखक बनना चाहता था। मैं चाहता था कि एक दिन लोग मेरी लिखी किताबें पढ़ें लेकिन मेरे पास लिखने का समय ही नहीं था। पूर्ण-कालिक नौकरी और पारिवारिक जिम्मेदारियां होने के कारण मुझे लिखने का वक़्त नहीं मिल पाता था। अब मैं यह जान गया हूँ कि वक़्त तो निकालना पड़ता है। दूसरी चीज़ों से ख़ुद को थोड़ा सा काटकर इतना समय तो निकला ही जा सकता है जिसमें हम वो कर सकें जो हमारा दिल करना चाहता है। मैंने अपनी ख्वाहिश के आड़े में बहुत सी चीज़ों को आने दिया। यह बात मैंने १५ साल पहले जान ली होती तो आजतक मैं १५ किताबें लिख चुका होता। सारी किताबें तो शानदार नहीं होतीं लेकिन कुछेक तो होतीं!


संयोग कि ज्ञानजी ने आज की अपनी पोस्ट में लिखा निशांत मिश्र के बारे में लिखा:
मेरे और निशान्त मिश्र में क्या साम्य है? शायद कुछ भी नहीं। निशान्त एक दक्ष अनुवादक लगते हैं। उनकी जेन/ताओ/सूफी/हिन्दू प्रेरक कथाओं के अनुवाद मुझे अपने मोहपाश में बांध चुके हैं। इतना सुन्दर अनुवाद --- और मैं अंग्रेजी से हिन्दी बनाने के अटपटे शब्दों से उलझता रहता हूं।

मुझसे बीस साल छोटे निशान्त मुझे ईर्ष्याग्रस्त कर रहे हैं अपनी केपेबिलिटीज से। अपने बौनेपन पर केवल हाथ ही मल सकता हूं मैं! और यह आशा कर सकता हूं कि फुरसतिया इससे मौज न निचोड़ लें!


अब चूंकि ज्ञानजी की आशा है कि हम इसमें मौज न निचोड़ लें इसलिये हम इस बारे में और कुछ न कहेंगे।

अनीता कुमार


बी.एस.पाबला जी की ब्लाग पोस्ट से पता चला कि आज एक लड़की का जन्मदिन है। लड़की है अनीता कुमार जी जो मुम्बई में प्रोफ़ेसर हैं। अनीताजी अपने बारे में कहती हैं:
मेरी हालत उस लड़की जैसी है जो मेले में घूम रही है और ललचाते हुये, सब कुछ देखकर अपने दामन में समेट लेना चाहती है। एक बार तो उन्होंने लिखा कि भगवान से कहना पड़ेगा …जितनी बार मैंने कहा था कि उठा ले उतने ही साल का इज़ाफा दे दे, सब सीख लूँ तो तेरे ही स्वर्ग की वेबसाईट बना दूँ। बागवानी, संगीत, उपन्यासों, फिल्मों, ब्लॉगरों के बारे में भी उनकी जानकारी काबिलेतारीफ है।

अनीताजी को उनका जन्मदिन मुबारक हो!

फ़िलहाल के लिये इतना ही। बाकी चर्चा और एक लाइना शाम को देखिये।

Post Comment

Post Comment

25 टिप्‍पणियां:

  1. अनीताजी कोजन्मदिन की शुभकामनाये....

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर चर्चा। आपका तो मैं मुरीद हूँ।

    मैने एक नया ब्लॉग शुरू किया है आप सबके लिए। एक बार देखें जरूर। टिप्पणी न भी करें तो चलेगा। ब्लॉगवाणी वाले इसे कैसे अपने यहाँ शामिल करेंगे यह भी बताने का कष्ट करें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनिता जी को जन्मदिन की बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. हमारी भी अनिता जी को जन्म दिन की शुभकामनाएं ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अनीता जी को हमारी भी शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. फूलों की क्यारियों में ,
    हाथों में ले के हाथ |
    नज़रों में ख्वाब ले के,
    महकेंगें साथ साथ |
    हम तो समझ रहे थे कि होली के बाद फुरसतिया जी पर प्रेम का रंग चढा है पर नहीं SSSSSSSSSSSSSSS
    अनिताजी को जन्मदिन की बधाई, पर हमारी हालत तो उस बच्चे जैसी है जो ‘हैपी बर्थडे’ गाने के बाद केक की तरफ घूरता रहता है:)

    उत्तर देंहटाएं
  7. संक्षिप्त किंतु सुंदर चरचा देव....
    नमस्कार

    उत्तर देंहटाएं
  8. अनिता जी को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अच्‍छी चर्चा ... अनीताजी को उनका जन्मदिन मुबारक हो!

    उत्तर देंहटाएं
  10. अनीता जी को बधाई दे आई, अब आपको धन्यवाद दे रही हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  11. अनिता जी को जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर और सार्थक चर्चा. अनीता जी को हमारी भी शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  13. अनीता जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई । पर अनूप जी आपके लिए कुछ भी नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप सभी मित्रों का तहे दिल से शुक्रिया। पाबला जी के लिए क्या कहूं उन्हों ने तो मुझ जैसी साधारण सी हस्ती को बहुत सम्मान दे दिया। अनूप जी आप को भी खास तौर से धन्यवाद, हमें चिठ्ठाचर्चा जैसे प्रतिष्ठित चिठ्ठे में जगह देने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  15. घणा तेज चैनल है आप का! पोस्ट लिखने से पहले ही चर्चा तैयार कर लेता है शायद। इम्प्रेसिव!
    और अनीताजी को जन्मदिन मुबारक!

    उत्तर देंहटाएं
  16. अनीता जी को जन्मदिवस की मंगलकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. महकते ख्वाबोँ पर नज़र आखिर नज़र है.

    आखिर हर ख्वाब भी तो चाहता एक घर है .

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह जी, फोटो भी चर्चा सरीखी ही सुंदर...-:)

    उत्तर देंहटाएं

  19. कितनी भी व्यस्तता क्यों न हो, अपना शौक पूरा करो
    वही तो कर रहा हूँ, सभी काम छोड़ टीपने बैठा हूँ..
    इसे फटे में टाँग अड़ाना तो नहीं न मानते हैं, आप ?

    बीस साल छोटे निशान्त मुझे ईर्ष्याग्रस्त कर रहे हैं..
    यह तो आप होते ही रहते हैं.. ऎसे में निर्लिप्त श्री कृष्ण का ध्यान किया करें !

    घणा तेज चैनल है.. ..
    सुबह फोन लाइनें व्यस्त नहीं न होती हैं, इसीलिये !

    आप सभी मित्रों का तहे दिल से शुक्रिया ।
    अभी कैसे.. अभी तो मैंने उखड़े दिल से भी शुभकामनायें नहीं दीं हैं !
    चलिये इसी बीच मेरी शुभकामनायें भी प्रोमोट होकर तहे-दिल का ग्रेड पा चुकी हैं ।
    आप ग्रहण कर के पावती भेज दें !

    मुझ जैसी साधारण सी हस्ती को...
    पाबला जी ने यह कब कहा कि ' जस्सी जैसी कोई नहीं ..
    '

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपने सुबह एक लाईना और बाकी चर्चा का आश्वाशन दिया था, अभी तक तो आधी लाइन भी नज़र नहीं आई...चुनावी मौसम में आप भी नेताओ वाला काम करने लगे. कहीं पञ्च वर्षीय योजना में तो नहीं डाल देंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  21. अनिता जी को जन्मदिन की बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ..

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  22. अनूप जी
    आप बहुत सुन्दर चर्चा करते है भाई आपका जबाब नहीं . धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  23. आनन्द आ गया शुक्ला साहब आपकी चर्चा में।

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative