मंगलवार, अगस्त 04, 2009

अगर शादी की रात को बेड टूट जाये तो ?

नमस्कार ! चिट्ठा चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है ।

क्या आपको भी लगता है कि मीडिया हिन्दू विरोधी है ? यदि लगता है तो इसका कारण भी अवश्य जानना चाहते होंगे । कारण बता रहे थे सुरेश चिपलूणकर जी । हमने छिप के सुन लिया और चोरी छिपे आपको पढ़वाने का लोभ संवरण न कर सके । अब इससे पहले कि चिपलूणकर जी यहाँ आकर हमें हड़कायें और अपना माल वापस माँगें आप पढ़ना चाहें तो पढ़ लीजिये । फ़िर हमसे मत कहना कि बताया नहीं था । तो पढिये :

पेश हैं रिश्ते ही रिश्ते – (दिल्ली की दीवारों पर लिखा होता है वैसे वाले नहीं, ये
हैं असली रिश्ते)

-सुज़ाना अरुंधती रॉय, प्रणव रॉय (नेहरु डायनेस्टी टीवी- NDTV) की
भांजी हैं।

-प्रणव रॉय “काउंसिल ऑन फ़ॉरेन रिलेशन्स” के इंटरनेशनल सलाहकार बोर्ड के
सदस्य हैं।

-इसी बोर्ड के एक अन्य सदस्य हैं मुकेश अम्बानी।

-प्रणव रॉय की पत्नी हैं राधिका रॉय।

-राधिका रॉय, बृन्दा करात की बहन हैं।

-बृन्दा करात, प्रकाश करात (CPI) की पत्नी हैं।

-प्रकाश करात चेन्नै के “डिबेटिंग क्लब” के सदस्य थे।

-एन राम, पी चिदम्बरम और मैथिली शिवरामन भी इस ग्रुप के सदस्य थे।

-इस ग्रुप ने एक पत्रिका शुरु की थी “रैडिकल रीव्यू”।

-CPI(M) के एक वरिष्ठ नेता सीताराम येचुरी की पत्नी हैं सीमा चिश्ती।

-सीमा चिश्ती इंडियन एक्सप्रेस की “रेजिडेण्ट एडीटर” हैं।

-बरखा दत्त NDTV में काम करती हैं।

-बरखा दत्त की माँ हैं श्रीमती प्रभा दत्त।

-प्रभा दत्त हिन्दुस्तान टाइम्स की मुख्य रिपोर्टर थीं।

-राजदीप सरदेसाई पहले NDTV में थे, अब CNN-IBN के हैं (दोनों ही मुस्लिम चैनल हैं)।

-राजदीप सरदेसाई की पत्नी हैं सागरिका घोष।

-सागरिका घोष के पिता हैं दूरदर्शन के पूर्व महानिदेशक भास्कर घोष।

-सागरिका घोष की आंटी रूमा पॉल हैं।

-रूमा पॉल उच्चतम न्यायालय की पूर्व न्यायाधीश हैं।

-सागरिका घोष की दूसरी आंटी अरुंधती घोष हैं।

-अरुंधती घोष संयुक्त राष्ट्र में भारत की स्थाई प्रतिनिधि हैं।

-CNN-IBN का “ग्लोबल बिजनेस नेटवर्क” (GBN) से व्यावसायिक समझौता है।

-GBN टर्नर इंटरनेशनल और नेटवर्क-18 की एक कम्पनी है।

-NDTV भारत का एकमात्र चैनल है को “अधिकृत रूप से” पाकिस्तान में दिखाया जाता है।

-दिलीप डिसूज़ा PIPFD (Pakistan-India Peoples’ Forum for Peace and Democracy) के सदस्य हैं।

-दिलीप डिसूज़ा के पिता हैं जोसेफ़ बेन डिसूज़ा।

-जोसेफ़ बेन डिसूज़ा महाराष्ट्र सरकार के पूर्व सचिव रह चुके हैं।

-तीस्ता सीतलवाड भी PIPFD की सदस्य हैं।

-तीस्ता सीतलवाड के पति हैं जावेद आनन्द।

-जावेद आनन्द एक कम्पनी सबरंग कम्युनिकेशन और एक संस्था “मुस्लिम
फ़ॉर सेकुलर डेमोक्रेसी” चलाते हैं।

-इस संस्था के प्रवक्ता हैं जावेद अख्तर।

-जावेद अख्तर की पत्नी हैं शबाना आज़मी।

-करण थापर ITV के मालिक हैं।-ITV बीबीसी के लिये कार्यक्रमों का भी निर्माण करती है।

-करण थापर के पिता थे जनरल प्राणनाथ थापर (1962 का चीन युद्ध इन्हीं के नेतृत्व में हारा गया था)।

-करण थापर बेनज़ीर भुट्टो और ज़रदारी के बहुत अच्छे मित्र हैं।

-करण थापर के मामा की शादी नयनतारा सहगल से हुई है।

-नयनतारा सहगल, विजयलक्ष्मी पंडित की बेटी हैं।

-विजयलक्ष्मी पंडित, जवाहरलाल नेहरू की बहन हैं।

-मेधा पाटकर नर्मदा बचाओ आन्दोलन की मुख्य प्रवक्ता और कार्यकर्ता हैं।

-नबाआं को मदद मिलती है पैट्रिक मेकुल्ली से जो कि “इंटरनेशनल रिवर्स नेटवर्क(IRN)” संगठन में हैं।

-अंगना चटर्जी IRN की बोर्ड सदस्या हैं।

-अंगना चटर्जी PROXSA (Progressive South Asian Exchange Network) की भी सदस्या हैं।-PROXSA संस्था, FOIL (Friends of Indian Leftist) से पैसा पाती है।

-अंगना चटर्जी के पति हैं रिचर्ड शेपायरो।

-FOIL के सह-संस्थापक हैं अमेरिकी वामपंथी बिजू मैथ्यू।

-राहुल बोस (अभिनेता) खालिद अंसारी के रिश्ते में हैं।

-खालिद अंसारी “मिड-डे” पब्लिकेशन के अध्यक्ष हैं।

-खालिद अंसारी एमसी मीडिया लिमिटेड के भी अध्यक्ष हैं।

-खालिद अंसारी, अब्दुल हमीद अंसारी के पिता हैं।

-अब्दुल हमीद अंसारी कांग्रेसी हैं।

-एवेंजेलिस्ट ईसाई और हिन्दुओं के खास आलोचक जॉन दयाल मिड-डे के दिल्ली संस्करण के प्रभारी हैं।

-नरसिम्हन राम (यानी एन राम) दक्षिण के प्रसिद्ध अखबार “द हिन्दू” के मुख्य
सम्पादक हैं।

-एन राम की पहली पत्नी का नाम है सूसन।

-सूसन एक आयरिश हैं जो भारत में ऑक्सफ़ोर्ड पब्लिकेशन की इंचार्ज हैं।

-विद्या राम, एन राम की पुत्री हैं, वे भी एक पत्रकार हैं।

-एन राम की हालिया पत्नी मरियम हैं।

-त्रिचूर में आयोजित कैथोलिक बिशपों की एक मीटिंग में एन राम, जेनिफ़र अरुल और केएम रॉय ने भाग लिया है।

-जेनिफ़र अरुल, NDTV की दक्षिण भारत की प्रभारी हैं।

-जबकि केएम रॉय “द हिन्दू” के संवाददाता हैं।

-केएम रॉय “मंगलम” पब्लिकेशन के सम्पादक मंडल सदस्य भी हैं।

-मंगलम ग्रुप पब्लिकेशन एमसी वर्गीज़ ने शुरु किया है।

-केएम रॉय को “ऑल इंडिया कैथोलिक यूनियन लाइफ़टाइम अवार्ड” से सम्मानित किया गया है।

-“ऑल इंडिया कैथोलिक यूनियन” के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं जॉन दयाल।

-जॉन दयाल “ऑल इंडिया क्रिश्चियन काउंसिल”(AICC) के सचिव भी हैं।

-AICC के अध्यक्ष हैं डॉ जोसेफ़ डिसूज़ा।

-जोसेफ़ डिसूज़ा ने “दलित फ़्रीडम नेटवर्क” की स्थापना की है।

-दलित फ़्रीडम नेटवर्क की सहयोगी संस्था है “ऑपरेशन मोबिलाइज़ेशन इंडिया” (OM India)।

-OM India के दक्षिण भारत प्रभारी हैं कुमार स्वामी।

-कुमार स्वामी कर्नाटक राज्य के मानवाधिकार आयोग के सदस्य भी हैं।

-OM India के उत्तर भारत प्रभारी हैं मोजेस परमार।

-OM India का लक्ष्य दुनिया के उन हिस्सों में चर्च को मजबूत करना है, जहाँ वे अब तक नहीं पहुँचे हैं।

-OMCC दलित फ़्रीडम नेटवर्क (DFN) के साथ काम करती है।

-DFN के सलाहकार मण्डल में विलियम आर्मस्ट्रांग शामिल हैं।

-विलियम आर्मस्ट्रांग, कोलोरेडो (अमेरिका) के पूर्व सीनेटर हैं और वर्तमान में कोलोरेडो क्रिश्चियन यूनिवर्सिटी के प्रेसीडेण्ट हैं। यह यूनिवर्सिटी विश्व भर में ईसा के प्रचार हेतु मुख्य रणनीतिकारों में शुमार की जाती है।

-DFN के सलाहकार मंडल में उदित राज भी शामिल हैं।

-उदित राज के जोसेफ़ पिट्स के अच्छे मित्र भी हैं।

-जोसेफ़ पिट्स ने ही नरेन्द्र मोदी को वीज़ा न देने के लिये कोंडोलीज़ा राइस से कहा था।

-जोसेफ़ पिट्स “कश्मीर फ़ोरम” के संस्थापक भी हैं।

-उदित राज भारत सरकार के नेशनल इंटीग्रेशन काउंसिल (राष्ट्रीय एकता परिषद) के सदस्य भी हैं।

-उदित राज कश्मीर पर बनी एक अन्तर्राष्ट्रीय समिति के सदस्य भी हैं।

-सुहासिनी हैदर, सुब्रह्मण्यम स्वामी की पुत्री हैं।

-सुहासिनी हैदर, सलमान हैदर की पुत्रवधू हैं।

-सलमान हैदर, भारत के पूर्व विदेश सचिव रह चुके हैं, चीन में राजदूत भी रह चुके हैं।

-रामोजी ग्रुप के मुखिया हैं रामोजी राव।

-रामोजी राव “ईनाडु” (सर्वाधिक खपत वाला तेलुगू अखबार) के संस्थापक हैं।

-रामोजी राव ईटीवी के भी मालिक हैं।

-रामोजी राव चन्द्रबाबू नायडू के परम मित्रों में से हैं।

-डेक्कन क्रॉनिकल के चेयरमैन हैं टी वेंकटरमन रेड्डी।

-रेड्डी साहब कांग्रेस के पूर्व राज्यसभा सदस्य हैं।

-एमजे अकबर डेक्कन क्रॉनिकल और एशियन एज के सम्पादक हैं।

-एमजे अकबर कांग्रेस विधायक भी रह चुके हैं।

-एमजे अकबर की पत्नी हैं मल्लिका जोसेफ़।

-मल्लिका जोसेफ़, टाइम्स ऑफ़ इंडिया में कार्यरत हैं।

-वाय सेमुअल राजशेखर रेड्डी आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री हैं।

-सेमुअल रेड्डी के पिता राजा रेड्डी ने पुलिवेन्दुला में एक डिग्री कालेज व एक पोलीटेक्नीक कालेज की स्थापना की।

-सेमुअल रेड्डी ने कहा है कि आंध्रा लोयोला कॉलेज में पढ़ाई के दौरान वे इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने उक्त दोनों कॉलेज लोयोला समूह को दान में दे दिये।

-सेमुअल रेड्डी की बेटी हैं शर्मिला।

-शर्मिला की शादी हुई है “अनिल कुमार” से। अनिल कुमार भी एक धर्म-परिवर्तित ईसाई हैं जिन्होंने “अनिल वर्ल्ड एवेंजेलिज़्म” नामक संस्था शुरु की और वे एक सक्रिय एवेंजेलिस्ट (कट्टर ईसाई धर्म प्रचारक) हैं।

-सेमुअल रेड्डी के पुत्र जगन रेड्डी युवा कांग्रेस नेता हैं।

-जगन रेड्डी “जगति पब्लिकेशन प्रा। लि।” के चेयरमैन हैं।

-भूमना करुणाकरा रेड्डी, सेमुअल रेड्डी की करीबी हैं।

-करुणाकरा रेड्डी, तिरुमला तिरुपति देवस्थानम की चेयरमैन हैं।

-चन्द्रबाबू नायडू ने आरोप लगाया था कि “लैंको समूह” को जगति पब्लिकेशन्स में निवेश करने हेतु दबाव डाला गया था।

-लैंको कम्पनी समूह, एल श्रीधर का है।

-एल श्रीधर, एल राजगोपाल के भाई हैं।

-एल राजगोपाल, पी उपेन्द्र के दामाद हैं।

-पी उपेन्द्र केन्द्र में कांग्रेस के मंत्री रह चुके हैं।

-सन टीवी चैनल समूह के मालिक हैं कलानिधि मारन-कलानिधि मारन एक तमिल दैनिक “दिनाकरन” के भी मालिक हैं।

-कलानिधि के भाई हैं दयानिधि मारन।

-दयानिधि मारन केन्द्र में संचार मंत्री थे।

-कलानिधि मारन के पिता थे मुरासोली मारन।

-मुरासोली मारन के चाचा हैं एम करुणानिधि (तमिलनाडु के मुख्यमंत्री)।

-करुणानिधि ने ‘कैलाग्नार टीवी” का उदघाटन किया।

-कैलाग्नार टीवी के मालिक हैं एम के अझागिरी।

-एम के अझागिरी, करुणानिधि के पुत्र हैं।

-करुणानिधि के एक और पुत्र हैं एम के स्टालिन।

-स्टालिन का नामकरण रूस के नेता के नाम पर किया गया।

-कनिमोझि, करुणानिधि की पुत्री हैं, और केन्द्र में राज्यमंत्री हैं।

-कनिमोझी, “द हिन्दू” अखबार में सह-सम्पादक भी हैं।

-कनिमोझी के दूसरे पति जी अरविन्दन सिंगापुर के एक जाने-माने व्यक्ति हैं।

-स्टार विजय एक तमिल चैनल है।

-विजय टीवी को स्टार टीवी ने खरीद लिया है।

-स्टार टीवी के मालिक हैं रूपर्ट मर्डोक।

-Act Now for Harmony and Democracy (अनहद) की संस्थापक और ट्रस्टी हैं शबनम हाशमी।

-शबनम हाशमी, गौहर रज़ा की पत्नी हैं।

-“अनहद” के एक और संस्थापक हैं के एम पणिक्कर।

-के एम पणिक्कर एक मार्क्सवादी इतिहासकार हैं, जो कई साल तक ICHR में काबिज रहे।

-पणिक्कर को पद्मभूषण भी मिला।

-हर्ष मन्दर भी “अनहद” के संस्थापक हैं।

-हर्ष मन्दर एक मानवाधिकार कार्यकर्ता हैं।

-हर्ष मन्दर, अजीत जोगी के खास मित्र हैं।

-अजीत जोगी, सोनिया गाँधी के खास हैं क्योंकि वे ईसाई हैं और इन्हीं की अगुआई में छत्तीसगढ़ में जोरशोर से धर्म-परिवर्तन करवाया गया और बाद में दिलीपसिंह जूदेव ने परिवर्तित आदिवासियों की हिन्दू धर्म में वापसी करवाई।

-कमला भसीन भी “अनहद” की संस्थापक सदस्य हैं।

-फ़िल्मकार सईद अख्तर मिर्ज़ा “अनहद” के ट्रस्टी हैं।

-मलयालम दैनिक “मातृभूमि” के मालिक हैं एमपी वीरेन्द्रकुमार-वीरेन्द्रकुमार जद(से) के सांसद हैं (केरल से)

-केरल में देवेगौड़ा की पार्टी लेफ़्ट फ़्रण्ट की साझीदार है।

-शशि थरूर पूर्व राजनैयिक हैं।

-चन्द्रन थरूर, शशि थरूर के पिता हैं, जो कोलकाता की आनन्दबाज़ार पत्रिका में संवाददाता थे।

-चन्द्रन थरूर ने 1959 में द स्टेट्समैन” की अध्यक्षता की।

-शशि थरूर के दो जुड़वाँ लड़के ईशान और कनिष्क हैं, ईशान हांगकांग में “टाइम्स” पत्रिका के लिये काम करते हैं।

-कनिष्क लन्दन में “ओपन डेमोक्रेसी” नामक संस्था के लिये काम करते हैं।

-शशि थरूर की बहन शोभा थरूर की बेटी रागिनी (अमेरिकी पत्रिका) “इंडिया करंट्स” की सम्पादक हैं।

-परमेश्वर थरूर, शशि थरूर के चाचा हैं और वे “रीडर्स डाइजेस्ट” के भारत संस्करण के संस्थापक सदस्य हैं।

-शोभना भरतिया हिन्दुस्तान टाइम्स समूह की अध्यक्षा हैं।

-शोभना भरतिया केके बिरला की पुत्री और जीड़ी बिरला की पोती हैं

-शोभना राज्यसभा की सदस्या भी हैं जिन्हें सोनिया ने नामांकित किया था।

-शोभना को 2005 में पद्मश्री भी मिल चुकी है।-शोभना भरतिया सिंधिया परिवार की भी नज़दीकी मित्र हैं।

-करण थापर भी हिन्दुस्तान टाइम्स में कालम लिखते हैं।

-पत्रकार एन राम की भतीजी की शादी दयानिधि मारन से हुई है।

यह बात साबित हो चुकी है कि मीडिया का एक खास वर्ग हिन्दुत्व का विरोधी है, इस वर्ग के लिये भाजपा-संघ के बारे में नकारात्मक प्रचार करना, हिन्दू धर्म, हिन्दू देवताओं, हिन्दू रीति-रिवाजों, हिन्दू साधु-सन्तों सभी की आलोचना करना एक “धर्म” के समान है। इसका कारण हैं, कम्युनिस्ट-चर्चपरस्त-मुस्लिमपरस्त-तथाकथित सेकुलरिज़्म परस्त लोगों की आपसी रिश्तेदारी, सत्ता और मीडिया पर पकड़ और उनके द्वारा एक “गैंग” बना लिया जाना। यदि कोई समूह या व्यक्ति इस गैंग के सदस्य बन जायें, प्रिय पात्र बन जायें तब उनके और उनकी बिरादरी के खिलाफ़ कोई खबर आसानी से नहीं छपती। जबकि हिन्दुत्व पर ये सब लोग मिलजुलकर हमला बोलते हैं।

(नोट – यह जानकारियाँ नेट पर उपलब्ध विभिन्न वेबसाईट्स, फ़ोरम आदि पर आधारित हैं, इसमें मेरा कोई योगदान नहीं है। यदि इसमें कोई गलती दिखाई दे अथवा किसी नाम या रिश्ते में विसंगति अथवा गलती मिले तो टिप्पणी करें, तत्काल उसमें सुधार किया जायेगा…अपनी तरफ़ से कोई और रिश्ता उजागर करना चाहते हों तो वह भी इसमें जोड़ें…)

वैसे तो कुछ लम्बा हो गया पर आजकल जमाना ही लम्बे का है तो हम क्या करें । फुरसतिया ने लम्बी पोस्ट लिखकर समीर जी, ज्ञान जी और डॉक्टर अमर कुमार जी को चेता दिया है कि वे पति-पत्नी के रिश्ते को ज्यादा अच्छी तरह जानते हैं ।

दुर्योधन को मित्रता दिवस पर एक मित्र ने ऐसा SMS भेज दिया कि क्या बतायें । बदबू आती है । इससे अच्छा SMS तो हमारे मित्र ने भेजा है । पूछा है :
अगर शादी की रात को आपका बेड टूट जाये तो सुबह घरवालों को क्या जवाब दोगे ?
अब हमें क्या पता बेड कौन तोड़ गया हम
तो शादी की रात को फेरे ले रहे होंगे न । पर मित्र को हमने यह जवाब नहीं भेजा ।

हो सकता है कुछ लोगों का खाना इस चर्चा से न पचे । उनके लिए यथासंभव खाना पचाने वाली चर्चा शाम को करने का प्रयास करने की कोशिश करने का प्रयत्न करने की रिक्वेस्ट अनूप जी से करेंगे या हम करेंगे ।



चलते-चलते

वे हैं रेल विभाग में, पर न चलाते रेल ।
हम हैं तेल विभाग में, पर न लगाते तेल ॥
पर न लगाते तेल, या कहें लगा न पाते ।
अगर लगा सकते तो शायद खूब लगाते ॥
विवेक सिंह यों कहें, रेल भी तेल चलाता ।
लगा रहे थे रेल तभी तो तेल मिला था ॥

Post Comment

Post Comment

37 टिप्‍पणियां:

  1. उनके लिए यथासंभव खाना पचाने वाली चर्चा शाम को करने का "प्रयास" करने की "कोशिश" करने का "प्रयत्न" करने की रिक्वेस्ट अनूप जी से करेंगे :):):)

    उत्तर देंहटाएं
  2. aapka prashn atyant hi rochak hai sath hi sochaniya bhi....kripa kar iski paricharcha sheeghra karen..intezar rahega.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत मेहनत कर डाली चर्चा करने में। ब्रेक तक नहीं लिया। आजकल पनवाड़ी-कबाड़ी तक के अपने-अपने चैनल हैं। फ़िर हिन्दू लोग चन्दा करके एक ठो चैनल अपना काहे नहीं खरीद लेते जिसमें सब कुछ भारतीय हो, हिन्दुत्व से सजा-धजा!

    उत्तर देंहटाएं
  4. इंतजार है ऐसे चैनल का

    शायद विहिप, बजरंग दल या आर.एस.एस. को इसके बारे में सोचना होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बाप रे!! इत्ती लम्बी रिश्तेदारी के बाद भी उम्दा चर्चा कर ही डाली. तो बधाई भी समेट लो/

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरे भाई।
    चिन्ता क्यों करते हो?
    आराम से जमीन पर बिस्तर लगाओ
    और सुख की सुहागरात मनाओ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. भाई रिश्तेदारी हो तो ऐसी.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. भाई बहुत दूर तक रिश्तो का पीछा किया और करवाया

    उत्तर देंहटाएं
  9. बढ़िया चर्चा है.
    मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए आपको धन्यवाद और मुझे बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  10. रिश्ते ही रिश्ते...। चिपलून्कर जी तो बड़े खोजी निकले। पढ़कर मजा आ गया।

    यही सब तो लोकतंत्र के भस्मासुर हैं जिन्हें हम सर आँखों पर बिठाये घूम रहे हैं। (सत्यार्थमित्र)http;//satyarthmitra.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. बडी़ लम्बी दूर तक रिश्ता निभाती चर्चा:) वैसे रिश्ते यहां भी कम नही है... अब देखिए विवेकजी चिठाचर्चा पर, चिठाचर्चा अनूप जी चलाते हैं, विवेकजी उनके अच्छे मित्र है, विवेकजी तेल पिलाते हैं और ज्ञानजी रेल चलाते हैं और दोनों के अच्छे मित्र दुर्योधन की डायरी [डायेरिया नहीं] रखने वाले है.....इस तरह चिठाचर्चा हुई ना रिश्तेदारी की डोर:)
    डिस्क्लेमरः यदि इस डोर में कहीं राखी की गांठ दिखाई दे तो कृपया बता दें ताकि वह रिश्ता काट दिया जाय:-)

    उत्तर देंहटाएं
  12. रिश्तो के भी रूप बदलते है.. नये नये खाँचो में ढलते है..
    शीर्षक देखते है हम तो सीट से उछल गये.. सोचते है कल चर्चा कर डाले और आपका जवाब भी वही टीका दे.. पर सिर्फ़ सोच ही रहे है..

    उत्तर देंहटाएं
  13. Just install Add-Hindi widget on your blog. Then you can easily submit all top hindi bookmarking sites and you will get more traffic and visitors !
    you can install Add-Hindi widget from http://findindia.net/sb/get_your_button_hindi.htm

    उत्तर देंहटाएं

  14. भई कोई हमें कुछ भी कहे.. यहाँ तक कि विवेक सिंट का अविवेकी सदस्य मान बैठे, फिर भी...
    हम्मैं तो यह अनुसँधानी चर्चा बहुतै भायी है, भाई !
    इससे पहले कि आप प्रतिक्रियावादी ताकतों के दबाव में यह चर्चा वापस लौटा ले जायें,
    हमने तो इसे पृष्ठाँकित कर लिया है, चाहे कोई हमें कुछ भी कहे..

    उत्तर देंहटाएं
  15. हाय रे रिश्ते , ये कैसे कैसे रिश्ते

    अच्छी ज्ञानवर्धक चर्चा

    उत्तर देंहटाएं


  16. वर्तनी की एक अशुद्धि क्या बवाल करा सकती है ?
    चाहे नमूना देख लो.. गलती से ह के स्थान पर ट हो गया रहा !
    चाहे तो मिलाय लेयो.. सँशोधित टिप्पणी जारी की जारही है !

    भई कोई हमें कुछ भी कहे.. यहाँ तक कि विवेक सिंह का अविवेकी सदस्य मान बैठे, फिर भी...
    हम्मैं तो यह अनुसँधानी चर्चा बहुतै भायी है, भाई !
    इससे पहले कि आप प्रतिक्रियावादी ताकतों के दबाव में यह चर्चा वापस लौटा ले जायें,
    हमने तो इसे पृष्ठाँकित कर लिया है, चाहे कोई हमें कुछ भी कहे..

    उत्तर देंहटाएं
  17. are Kush bhai, socho mat.. Tika do..

    mast charcha raha.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. afsos इन सब में भी jyaadatar hindoo ही हैं......

    उत्तर देंहटाएं
  19. जे बात तभी हम कहे सागरिका घोष काहे इतना चिल्लाती है ...बेचारे राजदीप ..कभी सबको एक साथ देखा करते थे ...हम भी सोच रहे थे सारे इंटेलिजेंट लोग अपना अलग अलग चैनल क्यों खोल लेते है ? वैसे दूरदर्शन आज भी गुमशुदा की फोटो दिखाता है .ओर मूक बध्रो के लिए समाचार ..उसके नीचे बेटियों के लिए लिखे केप्शन नजर आते है .मुआ ..पिछड़ा हुआ .मुफ्त में दिखाता है ...
    हिन्दुस्तान में कब कोई रिपोर्टर किसी बेहूदा खबर को पढने से मना करेगा उसी का इन्तजार कर रहे है .....
    वैसे @ cmpershad ji की टिपण्णी को सौ नंबर

    उत्तर देंहटाएं
  20. बड़िया चर्चा , खूब रिश्ते

    उत्तर देंहटाएं
  21. अरे भैया, आज तो आपने गज़ब धा दिया - भाई भतीजावाद के बारे में इतनी जनरल नालिज का धन पा के हम तो धन्य हो गए.

    उत्तर देंहटाएं
  22. ओर हाँ कृपया ऐसे सनसनी खेज शीर्षक से पाठको को गुमराह न करे ...क्लिक करे ओर देखे कुछ ओर इसे क्या कहते है ?दो लोग रौशनी डाल सकते है ..अजित जी ओर ज्ञान जी .

    उत्तर देंहटाएं
  23. रोचक चर्चा और रोचक टिप्पणियां।

    उत्तर देंहटाएं
  24. हमें अन्देशा था कि आजकल दहेज में कण्डम सामान देकर टरकाने का जुग चल रहा है। अब पहले ही दिन बेड टूट जाये भला! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  25. वाह वाह विवेक भाई ग़ज़ब लिखा भाई ग़ज़ब लिखा ! अहा ! अहा ! कोई जवाब नहीं। आज न जाने क्यूँ लगा जैसे उड़कर आप तक पहुँचे और गले लगा लें यार।

    उत्तर देंहटाएं
  26. ये रिश्तों की डोर तो कुछ ज्यादा ही लम्बी हो गई!!

    उत्तर देंहटाएं
  27. रुचिकर चर्चा । हम तो देर से हाजिरी ही लगा सकते हैं बस ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. अहा, दुनिया के गोल होने की ख़बर सही निकली...

    उत्तर देंहटाएं
  29. बाप रे.......रिश्तों ने उलझा कर रख दिया

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative