शनिवार, सितंबर 23, 2006

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं

आज के चिट्ठाचर्चा की शुरुआत बधाई और शुभकामनाऒं से करें तो कैसा रहेगा! लेकिन पहले सबेरे का माहौल तो देख लीजिये. ये आज की फोटो (नीचे देखें)इल्हा दो मोज़ाम्बीक के सबेरे की है जिसे सुनील दीपक ने खासतौर से उनके लिये खीची है जो सप्ताहांत होने के कारण सबेरे-सबेरे बिस्तरायमान होंगे.

हां तो अब बात बधाई की.पंकज बेंगानी ने अपने ब्लाग सफर का साल पूरा किया और कल जुकाम से लड़ते हुये सबकी बधाइयां बटोरी.चिट्ठाचर्चा की तरफ़ से पंकज बेंगानी उर्फ मास्साब को सालगिरह पर बधाई. वैसे बधाई के हकदार देबाशीष भी हैं जिनके ब्लाग नुक्ताचीनी को ब्लागस्ट्रीट ने आज का खास ब्लाग बताया.

कुछ रोजमर्रा की छोटी-छोटी लगने वाली घटनायें जिंदगी में बड़े असर डालती हैं.संजय बता रहे हैं अपने बचपन की एक घटनाजिसने उनकी सोच में बदलाव की भूमिका तैयार की और वे आस्तिकता से नास्तिकता की तरफ बढ़े.

मनीष अपने गांव के बरगद के किस्से बयान कर रहे हैं जो कि बूढ़ा हो गया है लेकिन हरकतें देखिये:-
मुलुल-मुलुल ताकता रहता है गाँव की तरफ
गाँव की सारी जवान घसहिनें
तपती दोपहर में जब
इसकी छाँव मे सुस्ताती हैं
आपस में हँसी-ठिठोली करती हैं
दम साधे उनकी बातें सुनता है
बड़ा रसिया है

रवि रतलामी को बहाना मिला अपनी सारी कमियां प्रदूषण के मत्थे मढ़कर खुश होने की .आप खुदै पढो़ खबर. उधर रचनाकार में समस्यापूर्ति के लिये आयी हुये तरही शेर भी पढ़िये.

बुश और मुश आतंकवाद के नाम पर आपस में हुश-हुश करके खुश हो रहे हैं.इससे अगर आप ऊब रहे हों तो थोड़ा मन बदलने के लिये कविता सागर में डूबकर दुष्यन्त कुमार की गजल सुन लीजिये:-
सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,
सारी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए।

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए।

राजेश जानकारी दे रहे है एक नयी साइट के बारे में जिसका नाम है जोहो. .राजदीप सरदेसाई सनसनी प्रिय हैं यह जानकारी मीडिया युग से मिलती है. सरदेसाई को पत्र अंगरेजी में लिखा गया है तकि वे पढ़ सकें और हो सके तो समझ सकें.
उधर थाईलैंड में हुये तख्तापलट पर भारत सरकार की कूटनीतिक चुप्पी की पड़ताल हो रही है इंडियागेट पर.

अवधियाजी संगीत के असाधारण ताल के बारे में जानकारियां देते हुये कुछ गानों के ताल कैसे बनाये गये इसकी जानकारी देते हैं:-

सबसे अधिक विभिन्न प्रकार के विचित्र तालों का प्रयोग करने वाले संगीतकार हैं आर.डी. बर्मन| उदाहरण के लिये तनिक गौर से सुनकर देखियेगा फिल्म पड़ोसन का गाना एक चतुर नार करके श्रिंगार..... को, ताल सुनकर झूम उठेंगे आप पर उसमें एक प्रकार की विचित्रता का भी अनुभव होगा| पंचम दा ने पश्चिम के वाद्ययंत्रों को इस्तेमाल करके भारतीय संगीत की रचना करने का बड़ा ही मधुर और सफल प्रयोग किया है|


उनमुक्त आज जानकारी दे रहे हैं अमेरिका में पेटेंट और कंप्यूटर प्रोग्राम के बारे में.उधर प्रभाकर गोपाल पुरिया दिशाशूल के बारे में कहावतों की जानकारी दे रहे हैं.अगर सब कहावतों पर अमल करें तो निकलना मुश्किल हो जाये.

शिल्पा अग्रवाल अपनी मां की याद संजोते हुये याद करती हैं:-
खिङकी के पीछे ,टकटकी लगाए,
मेरा इन्तजार करती है जो|

सुई में धागा डालने के लिये,
हर बार मेरी मनुहार करती है जो|

तवे से उतरे हुए ,गरम फुल्कों में,
जाने कितना स्वाद भर देती है जो|

मुझे परदेस भेज ,अब याद करके,
कभी-कभी पलकें भिगा लेती है जो|

अगर आप गूगल के लिये हिंदी में काम करना चाहते हैं तो देर न करें रविरतलामी के द्वारा बताई हुयी साइट में अपने आप को रजिस्टर करा दें अंतिम तारीख है २५ सितम्बर.रजिस्ट्रेशन की बात तो ठीक है लेकिन ये कैसी प्रतियोगिता है जो ३१ सितंबर को होगी.ये कोई गूगल सितंबर है क्या जो ३१ को भी रहेगा.

खास खबर:-विश्वत सूत्रों से पता चला है कि आज पूना में ब्लागर मीट का आयोजन किया गया है.शिरकत करेंगे देबाशीष,शशिसिंह और स्रजन शिल्पी.जगह सी-डेक अतिथि ग्रह और समय सबेरे ९-१२ का है.उधर टोरंटो से तीन घंटे की दूरी पर स्थित बफ़ैलो(क्या नाम है) में आयोजित कवि सम्मेलन में हिंदी के धुरंधर ब्लागर अपने जौहर दिखायेंगे जिनमें शामिल होंगे राकेश खंडेलवाल,अनूप भार्गव और उड़नतस्तरी वाले समीर लाल. पूना की ब्लागर मीट और टोरंटो के कवि सम्मेलन की शानदार सफलता की मंगलकामनायें

आज की टिप्पणी


१.भारत लोकतांत्रिक देश हैं और शासन करने के लिए चुनाव जितना पड़ता हैं, इसलिए वोट महत्वपुर्ण हो जाते हैं. परतुं वोटो के लिए राष्ट्रहित की अनहद अनदेखी खतरनाक होगी. या तो देश फिर से विभाजीत होगा या फिर कोई हिटलर पैदा होगा.
संजय बेंगानी
२.waah waah....janma divas ki shubhkaamanaye. Vaise tou be-sir-pair ki baate ki apne mujhse..ab sir-pair ki baat suniye :

wishes tumhe pankaj bhai,
wishes karo meri sweekaar,
jaise poora ek kiya,
sukhad shatak tum karna paar.

:) Aur haa apki photoshop ki classes me kaafee seekha uske naate main apne hisse ke RiN se aapko mukt karti hoo :)

निधि

आज की फोटो



सबेरा हो गया
 सबेरा हो गया

Post Comment

Post Comment

1 टिप्पणी:

  1. कवियों और ब्लॉगरो को हार्दिक शुभकामनाएं।
    चिट्ठा चर्चा लगे रहो, हम तुम्हारे साथ है।

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative