शुक्रवार, नवंबर 03, 2006

मध्यान्ह चिट्ठाचर्चा : दिनांक 3-11-2006

धृतराष्ट्र कुछ झल्लाए हुए से थे. संजय नदारद थे और पूर्णकालिक चर्चाकार का भी कोई अता पता नहीं था. इधर नारदजी को अरज (अर्ज) की थी पर वे भी स्वास्थ्य का बहाना बना कर नहीं आए. धृतराष्ट्र बेचैनी से चहल कदमी कर रहे थे.
तभी सामने से आँखें पौंछते हुए संजय ने कक्ष में कदम रखा.
धृतराष्ट्र : कहाँ रह गए थे?
संजय : जी आंखे बन्द कर सोने की कशीष कर रहा था. नया नुस्खा मिला है, सपने में नाज़ुक सी कन्या आती है. क्षमा करें लालच में आ गया था.
धृतराष्ट्र : किसने बताया ऐसा?
संजय : यह देखिये यहाँ, समीरलालजी के सपनों में कोई नाजुक बदन लड़की आती है.

मैं ऐसा था नहीं पहले, मुझे हालात ने बदला
कोई नाजुक बदन लड़की, मेरे ख्वाबों की रानी है.

धृतराष्ट्र : कल से हम भी जल्दी सोएंगे.... तुमसे नहीं कहा, आगे बढ़ो.
संजय : जी, सुखसागर में आज की कथा है कर्दम ऋषि और देवहूति के विवाह की. तथा अपनी दर्दभरी कथा सुनाते हुए मरफ़ी के नए नियम घड़ रहे हैं रविजी. साथ ही रचनाकार पर देवी माँ की अर्चना भी कर रहे है.
धृतराष्ट्र : धीरे धीरे बताओ गाड़ी पकड़नी है क्या?
संजय : मुझे तो नहीं पकड़नी पर यहाँ तो रेल ही ट्रक पर सवार हो गई है.
धृतराष्ट्र : घोर कलजुग. और यह शेर कौन सुना रहा हैं.
संजय : जी..., जोशीजी हैं, लौट आए हैं अपने शेरों के साथ. जरा समझीये इसे..



हम समझ लेते है तेरी आँखों के इशारों को
जो नासमझ समझते है, समझने दो उनको ॰॰॰

और महारज यह कोई फिरंगी ग्रेग है, जिन्होंने कुछ प्यार-व्यार के बारे में लिखा है, पर लगता है डिकोड कर समझना पड़ेगा.
धृतराष्ट्र : बीच में मोबाइल से क्यों उलझ गए, संजय.
संजय : जी वो अनुरागभाई ने लकी मेसेज भेजा है, उसी को जनहित में फोर्वाड कर रहा था. वैसे बॉस आज ओवर टाइम करवाया है आपने.
धृतराष्ट्र : ज्यादा स्याणपट्टी नहीं... अपने तेंवर ठीक करो, इस जोब के लिए कई लोग लाइन में है. संजय : क्या बॉस आप भी बुरा मान गए, यह एक कप कॉफी और पीओ और एक हनीमून कथा यहाँ बांचो (पढ़ो). लिखी है प्रत्यक्षाजी ने और प्रस्तुत कर रहे हैं शुक्लाजी.
बॉस अब अपन को यहीं समाप्त करना होगा. जो चिट्ठे छुट गए हैं, उनके लिए (नियमीत चर्चाकार को ;) ) क्षमा कर देना महाराज.

Post Comment

Post Comment

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब आप तो मध्यक्रम पर कपिलेदेव की तरह शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बड़ा निराला और सधा हुआ अंदाज है, संजय भाई. इंतजार लगवा देते हो अगले दिन का. :)

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative