मंगलवार, जनवरी 16, 2007

इन्तजार में सुधि की साकी

था मुझको मालूम आज की चर्चा की मेरी बारी है
किन्तु बाद रतलामीजी की चर्चा के कुछ शेष न बाकी
कोई चिट्ठा नहीं कि जिसकी चर्चा करते कुछ लिख पाऊं
इसीलिये चलता हूँ सुधि की इंतजार में होगी साकी

Post Comment

Post Comment

1 टिप्पणी:

  1. बहुत सस्ते में छूट कर भाग गये आप तो. अरे यह क्या बात हुई, अगर दिल को अच्छा न लग रहा हो, तो कल की आप कर लेना... :)

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative