रविवार, फ़रवरी 15, 2009

ईंट और रोड़े का मेल मिलाप, हैप्पी प्रेम चौदस के साथ

पचासों टिप्पणियाँ पाने के नुस्खे देखें। भीगे हुए बालों को सुखाते देख पाई पाई का हिसाब लेने के लिए दारू ने अंगड़ाई ले ही ली है और सीकर पुलिस वाले भला फुसला कर बगा ले जाने की रपटें दर्ज कर रहे हैं। कमरे की सजावट तो बहुत ही बढ़िया है, तीनो में से श्रेय किसे जाता है?

आदर्श प्रधानमंत्री के दस असंभव मापदंड पैदा हो गए हैं और पुलिस कह रही है कि चोरी के बजाय खोना लिखवाइए। इससे अच्छा मुंडेती वाले से थोड़ी भाषा न सीख लेवें?
जो इंसान मछली जल की रानी है के आगे बढ़ा ही नहीं उससे उर्दू और हिंदी गज़ल के फ़र्क से क्या मतलब?

जलानेविवि की दीवारें बोल रही हैं, ससुराल, गेंदा फूल। बात सही है, आदमियों को क्यों छोड़ दिया, पर इसी बहाने मेंगलूर की बिटिया की उत्तेजक तस्वीर ही सही। नुक्ताचीनी की पराकाष्ठा तो तब हुई जब चपाती और फुलके में फ़र्क के ऊपर शोधात्मक लेख लिखे गए। और फिर कह रहे हैं कि मैं अब कोई टिप्पणी नहीं लिखूँगा

सवाल आया, हम कहाँ जा रहे हैं? और जवाब भी शीघ्र मिल गया। और राहुल गाँधी के अब तक कुँवारे रहने का राज़ भी।

मज़बूत कूटशब्द चुनें वरना पतंगे अपने अज्ञान की वजह से भस्म हो जाते हैं।

और अंत में, प्रेम चौदस मुबारक हो।

कार्टून

यूनियन बैंक की शाखा खुल गई है इस शुभ उपलक्ष्य पर दें ताली

Post Comment

Post Comment

16 टिप्‍पणियां:

  1. आज की चिटठा चर्चा का अंदाज भी निराला रहा !

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या 'शीघ्र मिल गया ' की कड़ी सही है ? या आपका विनोद हमारे सिर के ऊपर से गया ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. अफ़लू साहब कड़ी सही थी लेकिन मेरा निशाना चूक गया लगता है :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी छोटी सटिक चर्चा। आज हास्य-विनोद के त्योहार - चाहे वो वेलाइंटाइन डे हो या होली, जानलेवा बन गए हैं क्योंकि आज आदमी हंसना भूल गया है। आज तो कमेंट में भी ध्यान रखना पडता है कि कहीं किसी ब्लागर तो गलत न समझ लें। असहिष्णुता का दौर चल रहा है। जितना कम कहे उतना अच्छा। अरे, मैं तो बहुत कुछ लिख गया:)

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह जी वाह.. आप ने भी छोटी बहर काम चला लिया.. वाह..

    उत्तर देंहटाएं
  6. हास्य और हास्यापद मे अन्तर करना भूल गये हैं . जैसे जिस पोस्ट पर अफलातून जी ने कहा हैं वो घुघूती जी की एक बहुत सीरीयस पोस्ट हैं लेकिन आलोक ने हेडिंग मिलान करने के चक्कर में उस पोस्ट की गरिमा को हास्य पद बना दिया .
    हँसना कौन नहीं चाहता पर बेवक्त हँसना और मुद्दों पर बात ना करना किसी भी समाज को शोभा नहीं देता . कभी न कभी हम को ये जरुर तय करना होगा हम किस तरफ़ हैं , मूक दर्शक बने रहना वक्त पर और बेवक्त की ठिठोली दोनों ही हमारे समाज को नुक्सान पंहुचा रही हैं . बेवक्त का विनोद सर के ऊपर से ही जाता हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  7. रचना जी कह तो सही ही रही हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. रचना जी सही शब्द हास्यास्पद है।
    मैंने दोनो लेखों की चर्चा की है, उनका उल्लेख किया है। किसी की विचारधारा या सिद्धांत पर कोई टिप्पणी नहीं की है। अनावश्यक रूप से "विवाद" न खड़ा करें। मैं टिप्पणियों का इतना भूखा नहीं हूँ :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. aalok
    aap maere kament ko upar aaaye aflatoon ji kae kament aur cmpershad ji kae kament sae jod kar daekhae

    tippni na karey blogger iskae liyae option haen aap uska istaemaal kar lae . comment karney ki suvidha ko band kiya jaa saktaa haen . kament hataya jaa saktaa so on so forth

    sahii shabd bataaney kae thanks aagey dhayaan rakhuki ki hasyaspad baato par kament naa nahin karu

    उत्तर देंहटाएं

  10. मैं भी ' शीघ्र मिल गया ' के लिंक को टटोल कर अचंभित था,
    सहसा ध्यानाकर्षण का साहस भी न हुआ,
    सोचा कि, पुराने चिट्ठाकार हैं,
    सो यह भी कोई 'लीला ' होगी..
    मूढ़ भक्तगण बस भजन गाने से मतलब रखे और क्या ?
    अफ़लातून जी को धन्यवाद, कि निवारण के निमित्त बने ।

    पर, कृतघ्न भी नहीं हूँ, कि ' टिप्पणियों के नुस्खे ' का लिंक देने पर आपको धन्यवाद भी न दूँ ।
    स्वस्थ रहें, प्रसन्न रहें,छोटन के उत्पात को सहते रहें, लिखते रहें, यदा कदा मार्गदर्शन देते रहें ।


    उत्तर देंहटाएं
  11. ये चिट्ठाचर्चा भी टविटर का ही कमाल दिख रही है-आज की कारस्तानियाँ टाईप. :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह! प्रेम चौदस। अब भला किसे आपत्ति हो सकती है इस दिन के साथ? यार आलोक, आप कहाँ से यह शब्द पकड़ लाते हैं? मानना पड़ेगा। "भला फुसला कर बगा" लेने वाले को भी अच्छा पकड़ा। पारखी नज़र है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. रमण जी प्रेम चौदस का नामकरण किन्ही पंडित ओम् व्यास ने किया है। वैसे इस बहाने लेख की एक कड़ी भी ठीक हो गई, धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative