मंगलवार, सितंबर 30, 2008

ब्लागिंग आनलाइन चौपाल है

आलोक पुराणिक

  • आज की चर्चा की शुरुआत एक गुलगुली खबर से। खबर ये है कि अगड़म-बगड़म लेखक आलोक पुराणिक आज के दिन ही पैदा हुये थे। यहां वनलाइनर जो आप देखते हैं उनको जारी रखवाने और लगातार लिखवाने के पीछे आलोक पुराणिक की ही साजिश है। उन्होंने यह भ्रम हमारे मन में बैठा दिया कि आगे केवल वनलाइनर ही चलेंगे और सब बैठ जायेगा। इसी झांसे में फ़ंसकर यहां वनलाइनर पेश किये जाते हैं। पिछले सत्ताइस साल से लगातार लिख रहे आलोक पुराणिक को जन्मदिन की मंगलकामनायें। उनसे इस मौके पर बातचीत हुई। आप इस बातचीत का फ़ुल मजा लेना चाहें तो पढिये- ब्लागिंग मस्ती की पाठशाला है -आलोक पुराणिक


  • कूड़े को रिसाइकल करके उसका दुबारा उपयोग किया जाता सकता है और तमाम समस्यायें हल हो सकती हैं। कूड़ा प्रबंधन के बारे में जानकारी देती हुई विवेक गुप्ता की पोस्ट पढ़कर शायद आप भी कह उठें- कूड़ा कितना सोणा है


  • चवन्नीचैप सिनेमा से जुड़ी खबरों, समीक्षाओं का बेहतरीन ब्लाग है। इस बार अपने संस्मरणात्मक लेख में चवन्नी गुरू चंडीदत्त शुक्ल से लिखवाये हैं उनकी सिनेमाई यादें- हमका सलीमा देखाय देव. इस संस्मरणात्मक लेख पर लोगों की कम प्रतिक्रियायें देखकर ब्लाग पर टिप्पणी ब्लागर की नेटवर्किंग के समानुपाती होती है सिद्दांन्त की पुष्टि सी होती है।



  • एक लाइना



    1. औंधे मुंह गिरा शेयर बाजार:और उसकी बत्तीसी हाथ में आई


    2. भ्रष्टाचार या शिष्टचार ? : कुछ भी कहो लेकिन अगर ये न हों अदालतों का काम न चले


    3. ढ़पोरशंखी कर्मकाण्ड और बौराये लोग : ज्ञानदत्त पाण्डेय के ब्लाग पर काबिज


    4. हलवाईगिरी से निपटेंगे :दही बड़े कड़े बनाने का एलान


    5. उबासी के बीच कोई उदासी :पोस्ट


    6. तू डाल डाल मै पात पात ! :बस इसी में निपट गई सब बात


    7. सारे मुसलमान पहन लें जनेऊ...सारे हिंदू करवा लें खतना.. बस झगड़ा खत्म ! : सबके जनेऊ होते होते तो मुसलमान बनते कहां से भैये?


    8. प्रेम गली से खाला के घर तक: मामला लबालब लवमय है


    9. केले के चिप्स :खाकर ब्लाग लिखने से हाजमा दुरुस्त रहता है


    10. भविष्य के कंप्यूटर :देखते ही आंखे फ़टीं


    11. एक शाम दोस्तों के नाम : कुछ और नहीं था अच्छा काम?


    12. माता स्वरूप देवी की महिमा : का वर्णन सुनते ही ब्लागिंग की सारी बाधायें दूर हो जाती हैं


    13. अर्जुन सिंह रोये क्यूं : क्योंकि उनको अंदाज हो गया था कि वे ब्लाग पर पोस्ट होने वाले हैं


    14. कितनी ही कोशिश कर लो दिल्ली झुकने वाली नहीं दहशतगर्दों : तुमको पता होना चाहिये सिस्टम में गठिया होने के कारण दिल्ली चाहकर भी नहीं झुक सकती


    15. एक अमूल्य उपहार :अखबार में काव्यपाठ का समाचार


    16. मेरा मन एकाग्र नहीं होता, उपाय बताईये :हर ब्लाग पर जाकर निस्वार्थ भाव से टिप्पणी करें


    17. इस शहर मे रिक्शा नही चलते: बताओ भला ऐसे कैसे चलेगा?


    18. लिख सतीश तू बिना सहारे गाने वाले मिल जायेंगे : वही फ़िर तुम्हारे गीत का मतलब भी बतलायेंगे


    19. अनुत्तरित प्रश्न: न जाने कब अपने जबाब पेश करेंगे


    20. यह मुल्क हमारा होकर भी हमारा क्यों नहीं लगता? : जाकी रही भावना जैसी/देश की सूरत तिन देखी तैसी


    21. फिर फटा गुजरात में बम : फ़िर एक पोस्ट लिखने बैठ गये हम


    22. आई है ईद, लेकर उदासियाँ कितनी.... :खुशियां ही लेकर आई है ईद जरा फ़िर से देखो


    23. कौन सफल है आतंकवाद या राजनीति? :राजनीतिक आतंकवाद


    24. सफाई में ही भगवान का निवास है : इसीलिये भाई लोग देश के माल पर हाथ साफ़ करते हैं, भगवान से मिलते हैं


    25. आतंकवाद : सर्वसुलभ है


    26. चिट्ठाकारों से एक छोटी-सी गुजारिश : कि वे शहर को जगाने में सहयोग करें


    27. गुब्बारे बताएंगे कब आएगा तूफान : लेकिन खबर आपको मिलेगी तूफ़ान के बाद


    28. तूने भी ज्यादती बनाने वाले मुझसे की.: इस ज्यादती की खबर जब चिट्ठाकारों को होगी तब देखना कित्ते लोग पोस्ट लिखते हैं


    29. अमेरिका का संकट, दुनिया की मुसीबत :ये होता है सनम बनाने का खामियाजा- वो तो डूबे हम भी ले डूबे


    और अंत में



    फ़िलहाल इत्ते में ही काम चलाइये। आज फ़िर लाइट ने धोखा दिया और तमाम धांसू च फ़ांसू पोस्ट रह गयीं। ब्लागर साथियों के सवालों के जबाब भी रह गये। नये चिट्ठाकार भी ।

    चर्चाकार साथियों ने तमाम चर्चा में बदलाव की बात कही है। मामला अभी कुछ तय नहीं हो पाया है। फ़िलहाल मुझे लगता है कि एक साथी दिन में सबेरे जैसे चर्चा करता है वैसे करता रहे। जित्ते चिट्ठे कवर कर सके कर दे। इसके बाद जिसको जैसा टाइम मिले वैसा करता रहे। इसी बहाने हम अपने वन लाइनर, तरुण अपने एक-दूजे के लिये और कुश अपने काफ़ी के सवाल और सुजाता अपने मुद्दे रोज ठेल सकते हैं। एकाध या जित्ते मन चाहे।

    बतायें इस बारे में क्या विचार है आपका!!

    कल की चर्चा करेंगे कुश। अब उनका मन है खुश।

    Post Comment

    Post Comment

    22 टिप्‍पणियां:

    1. मुझे बस अलोक पुराणिक जी को जन्म दिन की बधाई कहना है !

      उत्तर देंहटाएं
    2. बहुत बढ़िया ....आलोकजी को मेरी ओर से भी जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई...कम्प्यूटर खोला ही था कि आपका पोस्ट मिल गया .... अधिक भटकने की जरूरत भी नहीं पड़ी... कम समय में ही सारे पोस्टों की जानकारी मिल गयी ...धन्यवाद।

      उत्तर देंहटाएं
    3. इस पाल की
      किधर है ढाल
      पाल चौपाल
      ढाल निढाल।

      जन्‍मदिन का
      है यह कमाल
      पर जन्‍म दिन
      तो 31 सितम्‍बर
      को मनेगा।

      सभी आमंत्रित हैं
      चौपाल में निढाल
      होने के लिए।

      केक की जगह
      सुनने को मिलेंगे
      व्‍यंग्‍य।

      जिससे शेयर बाजार
      में आयेगी
      नई तरंग।

      उत्तर देंहटाएं
    4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      उत्तर देंहटाएं
    5. .

      काम चलाने भर का काफ़ी है,
      अब ’ दुःखी मन मेरे.. ’ भाई कुश का इंतेज़ार है !

      उत्तर देंहटाएं
    6. आलोक जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं पहुँचें। आपकी लेखनी दिग्‍-दिगन्त में व्याप्त हो।

      सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके।
      शरण्ये त्रयम्बके गौरि नारायणी नमोस्तुते॥


      शारदीय नवरात्रारम्भ पर हार्दिक शुभकामनाएं!
      (सत्यार्थमित्र)

      उत्तर देंहटाएं
    7. आज की चर्चा अच्‍छी रही। जब समय कम रहता है, तब आपकी चि‍ट्ठा चर्चा के जरि‍ए महत्‍वपूर्ण पोस्‍ट तक पहुँचना आसान हो जाता है। बहुत मेहनत का काम है आपका। आलोक जी को जन्‍मदि‍न की हार्दिक शुभकामनाऍं।

      उत्तर देंहटाएं
    8. आलोक जी को मेरी तरफ़ से जन्मदिन की बहुत सारी मुबारकबाद, और साथ ही ईद मुबारक...

      उत्तर देंहटाएं
    9. आज तो पुराणिक दिवस है! उन्हें बधाई।

      उत्तर देंहटाएं
    10. एकल पंक्तिया चकाचक है जी... आलोक जी को बधाई.. कल की चर्चा ज़रूर करेंगे..

      उत्तर देंहटाएं
    11. आलोक जी जन्म दिवस की बधाई ! चर्चा बढिया रही !
      शुभकामनाएं !

      उत्तर देंहटाएं
    12. आप हिन्दी की सेवा कर रहे हैं, इसके लिए साधुवाद। हिन्दुस्तानी एकेडेमी से जुड़कर हिन्दी के उन्नयन में अपना सक्रिय सहयोग करें।

      ***********************************
      सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके।
      शरण्ये त्रयम्बके गौरि नारायणी नमोस्तुते॥


      शारदीय नवरात्र में माँ दुर्गा की कृपा से आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हों। हार्दिक शुभकामना!
      (हिन्दुस्तानी एकेडेमी)
      ***********************************

      उत्तर देंहटाएं
    13. आलोक जी को जन्मदिन मुबारक.

      उत्तर देंहटाएं
    14. जन्मदिन की शुभकामनाओं के लिए सभी मित्रों का शुक्रिया है जी

      उत्तर देंहटाएं
    15. आलोक जी को जन्‍मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं।
      कुश हुए खुश, अब कॉफी से पहले पिलाएंगे जूस :)

      उत्तर देंहटाएं
    16. आलोक जी को जन्मदिन मुबारक.

      बहुत ही बढ़िया लिखा है.बहुत बधाई.

      ईद मुबारक!!

      नवरात्रि की हार्दिक मंगलकामनाऐं.

      उत्तर देंहटाएं
    17. आलोक जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें व आपको साधुवाद।

      उत्तर देंहटाएं
    18. आलोक जी को जन्मदिन मुबारक.

      उत्तर देंहटाएं
    19. आलोक जी को जन्मदिन की शुभकामनायें ...!!
      एक लाइना तो चालू...रहना चाहिए इसमे कोई दो मत नहीं है. अब इसके लिए कौन कितने फूल पत्ती चढ़ाते हैं ये बाद की बात है. आप मेहनत कर रहे है, यह सच्ची बात है.

      उत्तर देंहटाएं

    चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

    नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

    Google Analytics Alternative