बुधवार, नवंबर 12, 2008

चर्चा ऑन डिमाण्ड

ऑन डिमाण्ड चिट्ठा चर्चा में स्वागत आप सभी का ।
कुछ ना कुछ तो होता ही है तथ्य आज ही सीखा ।।

बच्चों को क्या पढा रहे आलोक पुराणिक देखा ?
पकडे कुछ राष्ट्रीय निकम्मे पढ लें पूरा लेखा ।।

ताऊ की भैंस का आप सब देखें इश्क अनौखा ।
टल्ल पढें अतिसुन्दर छोडें न ये सुनहरा मौका ॥

आया हाऊ याद इन्हें तो भला मुझे क्या लेना ।
पत्र आपके नाम एक है जरा ध्यान तो देना ॥

निर्णय उनका अपना है फि हम क्या कह सकते हैं ।
बोलेंगे तो लोग कहेंगे क्यों ज्यादा बकते हैं ?

साध्वी प्रज्ञा बेकसूर हैं यह विसाल कहते हैं ।
पूजा जी की असहमति की लहरों में बहते हैं ॥

लिखें धूल को चंदन कभी न अमर ज्योति यूँ गाये ।
फिर भी, मेरा साया बनकर मुझे याद तुम आए

शादी की थकान से अब तक कैसे थके हुए हैं ।
अमर ज्योति ने तमाम चिट्ठे माँ पर लिखे हुए हैं ॥

छैला बाबू लुभा रहे रंजना सिंह को कैसे ।
ओ पहाड मेरे पहाड तुम दूर खडे क्यों ऐसे ॥

मसिजीवी को भीष्म साहनी जी ने झाड चढाया
रोचक लगा संस्मरण हमको पढकर मन को भाया ॥

नाम कवि योगेन्द्र मौद्गिल पर लघु कथा सुनाएं ।
झाड फूँक की कथा सँभलकर पढें कहीं डर जाएँ ॥

फ्यूचर प्लानिंग के बारे कुछ कहें सुप्रतिम बनर्जी ।
बस यूँ ही लिख दिया पढें मत पढें आपकी मर्जी ॥

ब्लॉगिंग की शोले में अब ताँगा पल्लवी चलाएं ।
मेला देखन ना जइयो तोइ नोंच नोंच खा जाएँ ॥

Post Comment

Post Comment

14 टिप्‍पणियां:

  1. देखो भाई विवेक्सिंघ्जी हमको मालुम था आप आन डिमांड चर्चा जरुर करेंगे ! इसीलिए हम अभी तक जग रहे थे आपके इंतजार में ! अब आपकी शानदार चर्चा पढ़ ली है तो अब आराम से सोने जा रहे हैं ! बहुत धन्यवाद इस सुरीली चर्चा का !

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह!! क्या काव्यात्मक चर्चा छेड़ी है भई!! बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. चर्चा करते कमाल अपने भाई विवेक
    दिन व दिन निखरते वाह भई वाह विवेक

    उत्तर देंहटाएं
  4. सम्बंधित ब्लाग पर चिटठा चर्चा का लिंक छोड़ने से लेखक को सम्मान मिलता है, कि आपने उसे चिटठा चर्चा में शामिल किया है ! आशा है ध्यान देंगें !
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सही काव्यात्मक चर्चा

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह, ऐसी डिमाण्ड सतत होती रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये डिमांड तो पूरी हुई... देखिएगा आगे कोई और मुश्किल डिमांड नही आ जाए.. चलिए हम सरका जाते है अपनी.. 'टिप्पणी ऑन डिमांड'

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहु खूब रही ,शायद हॉल में देखे सेट-अप में सर्वोत्तम ,सर्वश्रेष्ठ,
    केवल एक ही शब्द मेरे ज्ञान में इसकी प्रशंसा हेत शब्द कोष में है
    "गागर में सागर " ? जी नही " गागर में क्षीर-सागर "!!!
    वैसे इस विषय में सर्वाधिकार अजीत वडनेरकर के पास शब्दों के सफर
    में सुरक्षित हैं | anyonasti-kabeeraa ,chitthaवाला chaupaal से

    उत्तर देंहटाएं
  9. लाजवाब काव्यात्मक चर्चा है........बहुत ही सुंदर......

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative