शुक्रवार, अक्तूबर 13, 2006

दैनिक जागरण में हिंदी ब्लाग

पिछली पोस्ट में मैंने दैनिक जागारण में छपे हिंदी ब्लाग से संबंधित लेख का जिक्र किया था। लेख फोटो यहां दिये जा
रहे हैं। पढ़ने के लिये चित्र पर क्लिक करें।





Post Comment

Post Comment

1 टिप्पणी:

  1. जागरण आदि हिन्दी अखबारों की जिम्मेदारी ज्यादा बढ़ गयी है, क्योंकि उन्हे बहुत बड़े समूह की आवश्यकताओं को पूरा करने की जिम्मेदारी है, जिसमें विविधता ही विविधता है। इस तरह के लेख कम से कम ६ महीना पहले आने चाहिये थे। किन्तु फिर भी ठीक है, अभी भी बहुत देर नही हुई है। हिन्दी अखबारों को तकनीक और अन्य क्षेत्रों के सबसे अगली पंक्ति में हो रही प्रगति पर कड़ी नजर रखनी चाहिये अन्यथा वे अपने पाठक वर्ग से न्याय नही कर पायेंगे।

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative