सोमवार, दिसंबर 18, 2006

कैसे हो भाई, जैसे भी हों, कृपया अन्यथा न लें

( आज की चिट्ठा चर्चा भाई रवि रतलामी द्वारा की गयी है, प्रकाशन मेरे द्वारा किया गया है, किसी भी प्रकार की जूता लात के लिए रवि भाई से ही सम्पर्क किया जाए. नोट: बीच बचाव करने/कराने वाले हैलमेट पहन कर आएं, हैलमेट शुकुल की दुकान से ही खरीदें। - जीतेन्द्र चौधरी )

चिट्ठाचर्चा बमार्फत उड़नतश्तरी

(दरअसल यह पोस्ट समीर ने चिट्ठाचर्चा के लिए कड़ियों युक्त लिखा था, मगर, यह सोचकर कि लोग अन्यथा ले लेंगे, उसे संपादित कर, उसकी कड़ियाँ हटाकर अपने चिट्ठे पर प्रकाशित कर दिया. कड़ी युक्त पोस्ट उनके कम्प्यूटर पर सेंध लगाकर प्राप्त कर ली गई है, जो कि लाल रंग में असंपादित अंश सहित यहाँ प्रस्तुत है.)

सन २००६ तो अब बीता ही समझो. बड़ा ऐतिहासिक वर्ष रहा हमारे लिये. इसी वर्ष हमारी उड़नतश्तरी ने चिट्ठा जगत में प्रवेश किया, चिट्ठा चर्चा लिखना शुरू किया और अन्य चिट्ठाकारों का असीम स्नेह भी पाया. इतने कम समय में ऐसा लगने लगा कि न जाने हम कब से इस हिन्दी चिट्ठा परिवार के सदस्य हैं.

इतने कम समय में ही कितनी नई पहचानें बनीं, कितनी नई मुलाकातें हुई. बहुत ही आनंद कारी रहा यह अबतक का सफर. इस बीच काफी नियम सीखे, काफी नियम बदलते देखे और काफी नियम बनते देखे.

अब २००६ को धन्यवाद करने को तो बहुत सारी चीजें है, सब तो लिख पाना संभव नहीं है और २००७ के स्वागत का रोमांच भी है कि न जाने क्या क्या ला रहा है अपनी झोली में भर कर.

वैसे जब २००६ पर चिट्ठा जगत के नजरिये से नजर डालता हूँ तो पाता हूँ कैसे हमने पोस्ट लिखना सीखा और कैसे लोगों ने हमारा लिखा पढ़ना सीखा. कैसे हमने औरों के लिखे पर टिप्प्णियां करना सीखा और कैसे लोगों ने हमारे लिखे पर. देखते देखते टिप्प्णियों के तरीके में भी बदलाव देखे. कुछ नये रिवाज भी देखें. कुछ टिप्पणियों को पोस्टों में बदलते देखा तो कुछ पोस्ट रुपी टिप्पणियां देखीं. कुछ पोस्टों पर पंगे होते देखे तो कुछ टिप्पणियों पर दंगे होते देखे. कहीं दिखीं ज्ञान की बातें तो कहीं हास्य और फिर कहीं गीत संगीत कहीं लोगों को सद्बुद्धि बंटते देखा. सब देखा, देख रहा हूँ और लगता है कि देखता रहूँगा. लोगों को खुश होते देखा, दम देते देखा और गम पीते देखा. किसी की भविष्यवाणियां की और इसी बहाने अपना वर्तमान सुरक्षित करने का प्रयास किया, कभी टिप्पणी के तरीके बखाने, कुछ विधायें सीखीं तो कुछ सिखायी. कभी चित्रों के माध्यम से बादलों के उस पार गये, उत्तरांचल घुमे फिर कभी खंडहरी किलों में, तो कभी इस पार पचमढ़ी फिर अहमदाबाद फिर गुजरात का डैम और कभी गयाना और न जाने कहाँ कहाँ. इतना सब कुछ बस अपने लेपटाप के सामने बैठे बैठे होता चला गया, एक अजूबा सा लगता है.

कितने जाने अनजानों के बारे में जाना, कितना साहित्य के बारे में जाना. कभी तकनीकी के बारे में, कभी देश विदेश की जानकारी, कभी पुराणों में तो कभी गीता-रामायण में. कभी दंगा प्रधान शहर का और कभी पंगा प्रधान परिवेश का ब्यौरा. कभी जाना कि गीत और गीत का अर्थ क्या होता है तो कभी जाना कि आवारा भीड़ का खतरा क्या होता है. किसी ने बताया कि लड़कियां क्या चाहें तो कोई बता गया कि भैंस के पेट में दर्द क्यूँ होता है. कितने कवि सम्मेलन सुनें, कितनों में बुलाये गये और कितनों में बुलाये जाने की आस लगाये घर में बैठे रहे. न जाने कितने चिट्ठे नये खुले, कितने खुलते ही बंद हो गये, कुछ दम खा कर और कुछ बिना कुछ खाये बंद कर गये तो कुछ ने स्थान बदल लिये. कितने चिट्ठों पर चर्चा हुई और कितनी चर्चा चिट्ठों पर हुई. अथाह सागर में गोते लगा रहे हों जैसे और बस, लगाते ही चले जा रहे हैं.

इसी जगत में अभी अभी एक नया फैशन आया-बुरा मानने का. मगर जैसे ही कोई नया फैशन आता है, नये नये परिवेश और उनकी काट भी तुरंत निकाल लेते हैं हम सब. तो इस नये फैशन के साथ भी नये तरीके दिख रहे हैं. लोग कुछ कहना भी चाह रहें हैं, कह भी रहे हैं और पहले से बढ़ चढ़ कर कह रहे हैं. सहनशीलता नये समय के साथ साथ खत्म होती जा रही है. कतिपय लोग एक दूसरे की टांगे खींच रहे हैं गोया चिट्ठा लेखक, लेखक नहीं कोई सांसद हों. जो उर्जा सार्थक लेखन में लगना चाहिये, वही उर्जा समय के साथ साथ एक दूसरे की खिंचाई में और परनिंदा की गंदी नाली में बहने लगी है और अनेकों उस नाली में कुद कर छपाक छपाक स्नान का आन्नद ले रहे हैं. वैसे तो खिंचाई मौज मजे में, सदभावनापूर्वक करना एक स्वस्थ परंपरा है और मनोरंजक और आन्नददायक भी मगर व्यक्तिगत आक्षेप और द्वेषवश की गई खिंचाई देखकर क्षोब भी होता है और खेद भी.

ऐसे ही माहौल में कुछ और तरीके दिखे कि कुछ भी कहना हो, कह जाओ, सोचो मत और अपना लिखा कथन दुबारा मत पढ़ों (अपने लिखे में वज़न के लिए नुक़्ता लगाओ या न लगाओ, बस लिखते जाओ). भूल जाओ कि सामने वाले को अच्छा लगेगा कि बुरा. या जो आप कहना चाह रहे हैं वो वाकई आपके शब्द भी कह रह हैं कि नहीं. बस शुरुवात कुछ यूँ करो कि कृप्या अन्यथा न लें और शुरु हो जाओ जो कहना है कि आप बेवकूफ हैं, नालायक है.. और जब बात खत्म करो तो एक स्माईली लगा दो ताकि सनद रहे और बात बढ़े तो आप कह सकें कि मै मजाक कर रहा था, वो देखो स्माईली. यह स्माईली दिखने में जरुर छुटकु सा है मगर मौके पर बजरंगी पहलवान से ज्यादा जबरी और बेहतरीन अंग और चरित्र रक्षक. मुफ्त में अंतरजाल पर उपलब्ध अनेंकों जुगाड़ों का बेताज बादशाह.

आने वाले साल २००७ में तो हमेशा ख्याल रखना होगा और टिप्पणियों का स्वरुप शायद और भी बदले मगर अभी तो कुछ इस तरह का आसार लगता है:

-कृप्या अन्यथा न लें मगर आपकी कविता बहुत अच्छी लगी. :)

-कृप्या अन्यथा न लें मगर आप क्या वाहियात बात करते हैं, बेवकूफी भरी। आशा है आप बुरा नहीं मानेंगे। :)

आदि आदि...यानि तारीफ में भी और गरियाने में भी, हर जगह -कृप्या अन्यथा न लें का प्रयोग संस्कारों का हिस्सा बन जायेगा. क्या मालूम कब कौन किस बात का बुरा मान जाये. आपकी कौन सी सिरियस बात को मजाक और मजाक को सिरियसली ले लिया जाये. समय बदल रहा है, आप जिसे रोता हुआ समझ रहे हैं दरअसल वो हंस रहा है और जिसे आप हंसता देख रहे हैं वो रो रहा है और जो चुपचाप बैठा है उसका तो क्या-क्या मालूम हंस दे कि रो दे या यूँ ही तटस्थ बना रहे (यानी कि सबकुछ खिचड़ी है). वैसे तो श्यूर शाट पंगे वाली टिप्पणी में एक से ज्यादा स्माईली लगाने का प्रचलन भी है.

खैर, अब यह सब यहीं छोडें और २००६ को खुशी खुशी एक और वर्षीय अनुभव के खिताब के रुप में अपनी कमीज पर टांक लें और स्वागत की तैयारी करें २००७ की.

यह सब तो नियम है, सब परिवर्तनशील है. समय के साथ आ रहे बदलावों को न हम रोक सकते हैं न आप. बस साक्षी बने इनका स्वरुप देखते रहें (अब यह एफ़िल टॉवर की तरह बढ़ता है या नियाग्रा फ़ॉल की तरह गिरता है क्या पता) और अपने आपको इनके अनुरुप ढ़ालते चलें.

चलते-चलते:

"कृप्या अन्यथा न लें मगर हम तो सोच रहे हैं कि २००७ में हर बार दो टिप्पणी किया करेंगे (पैसे भले बचा लें, क्योंकि संकट में हैं अन्नदाता, परंतु टिप्पणियाँ नहीं). एक तो तारीफ वाली और दुसरी एक दम सही सही-अब अगर पंगा हुआ, तो दूसरी से मुकर जायेंगे कि ये कोई और कर गया हमारे नाम से. और बता दें यह तरीका कोई हमने नहीं ईज़ाद किया है, यह दूसरी टिप्पणी का प्रचलन हमने इसी २००६ में कहीं कहीं देखा है, अब याद नहीं आ रहा- कहाँ- कहाँ? :) :)"

Post Comment

Post Comment

2 टिप्‍पणियां:

  1. संजय बेंगाणीदिसंबर 18, 2006 6:19 pm

    यह भी खुब रही. एक और नया फ्लेवर चर्चा का. मस्त. काफी मेहनत की है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हा हा, यह भी खुब रही-लिखा समीर ने, सेंध मारने घुसे रवि रतलामी, छपवाये दिये चौधरी साहेब, सबसे पहले बांचे संजय और आने वाले है बकिया-पूरा चिट्ठाचर्चक जलुस निकला है, वाह वाह. वैसे कल रात जब सोया था, तो कम्प्यूटर में ठक ठक आवाज आ रही थी, अब समझ में आया वो रवि भाई सेंध लगा रहे थे. :) :)

    उत्तर देंहटाएं

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative