मंगलवार, दिसंबर 26, 2006

क्रिसमस, चिट्ठे और................

क्रिसमस का दिन समय बहुत कम,चिट्ठा चर्चा करनी है
यही सोचकर आया, लेकिन चिट्ठाकार नदारद थे
इधर नजर दौड़ा कर देखा, और उधर नजरें डालीं
लेकिन केवल तीन संदेसे लेकर आये नारद थे

सबसे पहले,खुशी नहीं है महाशक्ति ने बतलाया
यद्यपि तिहरा शतक एक उनके ही हिस्से में आया
ढूँढ़ रहे चेतना, कल्पना में दिव्याभ व्यस्त होकर
लोकतेज ने बेघर होने का इक किस्सा बतलाया

इसके बाद घिरी जो बदली,उससे बून्द नहीं टपकी
घिरा अँधेरा और न कुछ भी चिट्ठों पर आकर बरसा
अब छुट्टी के बाद लिखेंगे उड़नतश्तरी के तेवर
उनको ही अंबार मिलेगा चिट्ठों का रत्नाकर सा

आज का चित्र: वाशिंगटन डीसी में २००६ का राष्ट्रीय क्रिसमस वॄक्ष


Post Comment

Post Comment

1 टिप्पणी:

चिट्ठा चर्चा हिन्दी चिट्ठामंडल का अपना मंच है। कृपया अपनी प्रतिक्रिया देते समय इसका मान रखें। असभ्य भाषा व व्यक्तिगत आक्षेप करने वाली टिप्पणियाँ हटा दी जायेंगी।

नोट- चर्चा में अक्सर स्पैम टिप्पणियों की अधिकता से मोडरेशन लगाया जा सकता है और टिपण्णी प्रकशित होने में विलम्ब भी हो सकता है।

Google Analytics Alternative